Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा: “साले मद्रासी फिर जीत गए”

चेन्नई सुपरकिंग की कल की जीत जितनी रोमांचक रही उससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण थी राजस्थान रॉयल्स पर फतह. चेन्नई टीम की इस जीत ने राजस्थान के इरादो पर तो पानी फेरा ही था, उसके कई फैन्स को भी निराश कर दिया. फेसबुक पर हो रही एक चर्चा के मुताबिक अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने भी इस ‘दुख’ को अलग ही अंदाज में बयां किया- चेन्नई की टीम को गरियाते हुए वो भी हिंदी में. अखबार की वेबसाइट पर लिखा है-“साले मद्रासी फिर जीत गए” (saale-madrasi-phir-jeet-gaye.)

आपको आश्चर्य हो रहा होगा कि इंडियन एक्सप्रेस जैसा अंग्रेजी अखबार इतनी घटिया हिंदी भला क्यों लिखेगा? लेकिन यह उलटबांसी हुई है. इस अखबार की वेबसाइट पर चेन्नई सुपर किंग्स के हाथों राजस्थान रायल्स की हार की जो खबर अंग्रेजी में लगी है, उस खबर को ढोने वाला कंधा यानि यूआरएल यानि इंडियनएक्सप्रेस.कॉम के बाद जो कुछ कड़ियां आती हैं, उसमें अंग्रेजी में यही गाली लिखी है.

इंडियन एक्सप्रेस की तरफ से यह सब जानबूझ कर किया गया है या किसी इंप्लाई ने बदमाशी की है, यह तो नहीं पता चला लेकिन फेसबुक पर इस मसले पर चर्चा शुरू हो गई है.

इस ब्लंडर की तरफ सबसे पहले ध्यान दिलाया द हिंदू अखबार के प्रिंसिपल न्यूज फोटोग्राफर अखिलेश कुमार ने. अखिलेश द्वारा ध्यान आकर्षित किए जाने के बाद बनारस के छात्र नेता रहे और वर्तमान में जनपक्षधर राजनीति के सक्रिय स्तंभ अफलातून देसाई ने इस मुद्दे पर अपनी टिप्पणी लिखकर बाकी लोगों को इस बारे में बताया. अफलातून ने फेसबुक पर लिखा- ”इंडियन एक्सप्रेस में चेन्नै सुपर किंग्स के हाथों राजस्थान रॉयल्स की हार की खबर की URL पर गौर कीजिए! मारवाडी गोयन्का का मुख्यालय चेन्नै था। क्या,यह रामनाथ गोयन्का की परम्परा है? क्या उन्हें यह बेहूदा URL कबूल होता?” (साभारः Akhilesh Kumar) http://www.indianexpress.com/news/saale-madrasi-phir-jeet-gaye/947835/

देखें इंडियनएक्सप्रेस.कॉम वेबसाइट का स्क्रीन शॉट, जिसके यूआरएल में भद्दी गाली अब भी दर्ज है.

 

 

संबंधित खबरें:

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1Shiv kumar pachauriMay 13, 2012, 2:25 PM

Yah sab beemar manasikta ko ingit karta hai varna, Kya CSK aur RR Indian origin ko belong nahi kartin?

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

ज़ी न्यूज़ के पत्रकार ने JNU मामले में चैनल की भूमिका से नाराज़ हो इस्तीफ़ा दिया..

ज़ी न्यूज़ के पत्रकार ने JNU मामले में चैनल की भूमिका से नाराज़ हो इस्तीफ़ा दिया..(0)

Share this on WhatsApp हम पत्रकार अक्सर दूसरों पर सवाल उठाते हैं लेकिन कभी खुद पर नहीं. हम दूसरों की जिम्मेदारी तय करते हैं लेकिन अपनी नहीं. हमें लोकतंत्र का चौथा खंभा कहा जाता है लेकिन क्या हम, हमारी संंस्थाएं, हमारी सोच और हमारी कार्यप्रणाली लोकतांत्रिक है ? ये सवाल सिर्फ मेरे नहीं है. हम

यकीन मानो कि तुम पत्रकार नहीं, घुटे दलाल हो..

यकीन मानो कि तुम पत्रकार नहीं, घुटे दलाल हो..(0)

Share this on WhatsApp तुमने अपना जमीर बेच दिया, अब दांव पर लगा दी पत्रकारिता.. जितने भी कुकृत्य हैं, सार्वजनिक हो चुके हैं तुम्हारे चेहरे पर.. तुमसे लाख बेहतर हैं गांव-कस्बे के पत्रकार, तुम तो निकृष्ट हो.. -कुमार सौवीर॥ लखनऊ: अब तो पत्रकारिता के अलम्बरदारों और नेताओं की शक्ल से भी नफरत होती जा रही

पत्रकारिता में बढ़ा हार्ट-अटैक व ब्रेन-स्‍ट्रोक का हमला..

पत्रकारिता में बढ़ा हार्ट-अटैक व ब्रेन-स्‍ट्रोक का हमला..(0)

Share this on WhatsApp हम अपने दोस्‍तों की सिर्फ तेरहीं-बरसी ही बनाते रहेंगे? गैर-मान्‍यताप्राप्‍त पत्रकारों के प्रति सतर्कता की जरूरत सन्दर्भ: संतोष ग्वाला और सुरेन्द्र सिंह की असमय मौत -कुमार सौवीर॥ लखनऊ: कितनी अनियमित होती है आम पत्रकार की दिनचर्या। कभी दफ्तर के कामधाम में डूबा होता है तो कोई खबर पकड़ने की आपाधापी में

खैंच-फोटूबाजी के बाद डीएम और दैनिक जागरण आमने-सामने, कूड़ा फेंका..

खैंच-फोटूबाजी के बाद डीएम और दैनिक जागरण आमने-सामने, कूड़ा फेंका..(0)

Share this on WhatsApp अब खुली गुण्‍डागर्दी पर आमादा हो गयी हैं चंद्रकला: दैनिक जागरण 20 साल पहले भी लखनऊ के जागरण पर हुआ था बसपा का हमला यह हादसा प्रशासनिक गुण्‍डागर्दी की पराकाष्‍ठा, निन्‍दनीय व भत्‍र्स्‍नाजनक -कुमार सौवीर॥ लखनऊ: बुलंदशहर में खैंच-फोटूबाजी के बाद डीएम और दैनिक जागरण आमने-सामने आ गये हैं। आज जागरण

बड़े पत्रकार कुकुर झौंझौं करते रहे, राजशेखर ने एक नयी डगर तैयार कर डाली..

बड़े पत्रकार कुकुर झौंझौं करते रहे, राजशेखर ने एक नयी डगर तैयार कर डाली..(0)

Share this on WhatsApp तुम पत्रकार हो, ब्‍लैकमेलिंग मत करो.. संतोष ग्‍वाला बनने की कोशिश करो.. तुम डीएम हो, कुछ नया करो.. आने वाले वक्‍त के तुम ही राज शेखर होगे.. -कुमार सौवीर॥ लखनऊ: उसका नाम था संतोष ग्‍वाला। अदना-सा पत्रकार, लेकिन गजब शख्सियत। अचानक उसकी मौत हो गयी। पत्रकारिता उसका पैशन था। खबर मिलते

read more

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: