Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

सिक्योरिटी गार्ड बी वी दलवी बने हीरो, ‘उखाड़ते-गाड़ते’ खुद ही उड़ गए शाहरुख खान

By   /  May 18, 2012  /  9 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

गुस्से और नशे में बेकाबू शाहरुख और सीटी बजाते दलवी

सिक्‍योरिटी गार्ड वीबी दलवी की तनख्वाह मात्र 11 हजार 454 रुपए है, लेकिन अपने निडर रवैये के कारण उन्होंने करोड़ों रुपए कमाने वाले शाहरुख खान को बाहर का रास्ता दिखा दिया। लाख चिल्लाने के बावजूद शाहरुख उनका कुछ भी नहीं बिगाड़ पाए और आज वो किंग खान के विरोधियों के लिए आइकॉन बन गए हैं। दलवी ने गुरुवार को पुलिस में रपट दर्ज कराई थी। उनके मुताबिक, वो पिछले सात साल से महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन (एमसीए) के सुरक्षाकर्मी के तौर पर काम कर रहे हैं और ऐसा पहली बार हुआ है जब उन्हें किसी टीम के मालिक स्तर के आदमी की अभद्रता झेलनी पड़ी हो।

बाप के नक्शे-कदम पर?: शाहरुख के साथ उनकी बेटी सुहाना भी गार्ड से लड़ते हुए

बुधवार की रात जो घटना हुई वो मुंबई इंडियंस और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच मैच के दौरान घटी। इस मैच के दौरान दलवी ग्राउंड पर ड्यूटी कर रहे थे। बकौल दलवी, “रात करीब 11:45 पर पोस्‍ट मैच प्रेजेंटेशन खत्‍म होने के बाद मैं रोजाना की तरह ड्यूटी कर रहा था। नियमों के मुताबिक मैच खत्‍म होने के बाद ग्राउंड परिसर में किसी को भी बिना इजाजत आने की मनाही है। स्‍टेडियम से लगभग सभी दर्शक जा चुके थे और खिलाड़ी भी जाने की तैयारी में थे। मेरे साथ मौजूद सभी सिक्‍योरिटी गार्ड्स स्‍टेडियम परिसर को चेक करके ग्राउंड के पास मौजूद लोगों से बाहर जाने की विनती कर रहे थे। रात करीब 12:15 बजे 8-10 बच्‍चे वहां खेल रहे थे। मैंने इन बच्‍चों को ग्राउंड के बाहर जाकर खलने के लिए कहा और बड़े आराम से बाहर की तरफ जाने का इशारा किया।”

साथियों ने छुड़ाया गार्ड से गुत्थम-गुत्था हुए शाहरुख को

दलवी के मुताबिक, ‘इसी दौरान किसी ने पीछे से जोर से आवाज दी। मैंने देखा कि शाहरुख खान दौड़कर आए। उन्‍होंने मुझे बच्‍चों को बाहर नहीं निकालने को कहा और फिर बहस करने लगे। वो बार-बार ये कहने लगे कि इन बच्‍चों को बाहर निकालने की तुम्‍हारी हिम्‍मत कैसे हुई, तमीज से रहो। जवाब में मैंने शाहरुख खान से कहा कि मैच खत्‍म हो गया है। प्‍लेयर्स जा रहे हैं, ग्राउंड बंद करने का समय आ गया है, इसलिए अब इस कैंपस में रुकने की इजाजत नहीं है।”

दलवी ने कहा, ‘इस बात पर शाहरुख चीखने लगे और मेरे साथ गाली-गलौच करने लगे। मैं अपना काम करता रहा और सभी को सिटी बजाकर इशारे से मैदान खाली करने को कहता रहा। शाहरुख शायद इस बात से और नाराज हो गए और बात हाथापाई तक पहुंच गई। शाहरुख ने मेरे साथ भी हाथापाई की।

करीब 10-15 मिनट तक ऐसा चलता रहा। वो लगातार अभद्र भाषा का इस्‍तेमाल करते रहे और हमें मारकर गाड़ देने की धमकी भी दी। मामले को बढ़ता देखकर शाहरुख के साथियों ने उन्‍हें सुरक्षा गार्ड्स से अलग कर दिया, लेकिन शाहरुख बार-बार पास आकर हाथापाई करने की कोशिश करते रहे। कुछ देर बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस मामले को सुलझाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन पुलिस के रोकने पर भी शाहरुख मानने को तैया नहीं हुए।

आखिरकार पुलिस, दोस्‍तों और आईपीएल के बड़े अधिकारियों के मनाने पर शाहरुख जाने के लिए तैयार हुए। लेकिन जाते-जाते भी शाहरुख मुझे और एमसीए के सदस्‍यों को गाली देते रहे।’ एमसीए कोषाध्यक्ष रवि सावंत के मुताबिक शाहरुख ऐसी गालियां दे रहे थे कि कोई सोच भी नहीं सकता है। एमसीए के अधिकारी विनोद देशपांडे के मुताबिक शाहरुख बेहद नशे में थे। मैदान में न घुसने देने से नाराज शाहरुख चिल्ला रहे थे…

“जिंदा गाड़ दूंगा, देख लूंगा, उखाड़ लो जो उखाड़ना है…तुम कौन होते हो मुझे रोकने वाले, अपनी औकात में रहो… तुम होते कौन हो और मुझसे ऐसे कैसे बात कर रहे हो, देखता हूं तुम मुझे कैसे बाहर निकाल सकते हो… यह मेरा देश और शहर है… मुझे यहां से कोई नहीं निकाल सकता और न कोई छेड़ सकता है।” आईपीएल अधिकारियों ने कहा कि शाहरुख  को देख कर साफ लग रहा था कि वे नशे में धुत्त थे।

उधर शाहरुख खान ने सिक्योरिटी गार्ड और एमसीए के उन आरोपों को खारिज किया है जिसमें उन्हें दारू पीकर हंगामा मचाने वाला कहा गया है। अपने घर पर मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि जब झगड़ा हुआ, तब वह शराब के नशे में नहीं थे। शाहरुख का कहना है कि सच तो यह है कि एमसीए को उनसे माफी मांगनी चाहिए क्योंकि उसके अधिकारियों ने उनके बच्चों के साथ दुर्व्यवहार किया।

उधर अधिकारियों का कहना है कि खेल के दौरान मैदान में घुसने की इज़ाजत एमसीए के अध्यक्ष और  उनके परिवारवालों को भी नहीं है। इस बीच एक समाचार एजेंसी ने झगड़े की तस्वीरें जारी कर दी हैं। इन तस्वीरों में शाहरुख खान साफ तौर पर आक्रामक हुए दिख हे हैं जबकि सिक्योरिटी गार्ड वीबी दलवी सिर्फ सीटी बजाते हुए दिख रहे हैं।

बहरहाल, एमसीए के फैसले ने यह दिखा दिया है कि अगर सच के साथ खड़ा रहे तो सिक्योरिटी गार्ड भी सुपर हिट हो जाता है और झूठ के साथ रहने वाला बड़े से बड़ा सुपरस्टार भी फ्लॉप साबित होता है।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

9 Comments

  1. apni aukat pehle dekho

  2. Nryn Grwl says:

    RADHE RADHE ,
    DEAR FRIEND, KNOW THE GOD.
    A/ ABOUT 5000YRS AGO Vedvavyasaji ne god(Specifically all our hindu gods) ko sabse pahle visualise kiya.U know his santakaram bhujgam GAGANSADRISYAM…….here is gagan ,sky, sunya, zero, space has been reffered as God or Vishnu.SO GOD IS SPACE.THERE IS SPACE ABOVE US,INFRONT OF US,WITHIN US. Everything wants a space somewhere that is lap of god.In infinite auto forms.
    B/GOD or Vishnu, space desended next in form of celestal bodies about billions of yr ago.There r about 15 billion glaxies each having about 15 billion stars .Next it appeared in seeds or programmes of all living beings.In infinte power from one grain of wheat crores of wheat grain can be produced or one know star's power or atomic or electronic power.Next it descended in atoms.(as some protins developed themselves in heart representing vibrations of atoms just as the system is set in quartz watch.Vibrations set patterns & subsequent patterns or of a body. ) Atoms or particles with it-proton,neutron,electrons etc.that forms from next in quarks i .e. smallest no charged particles.these r only main 4-5 forms but it is infinte forms infinite god plays role in infinite forms.
    C/EACH FORM of GOD HAS INFINTE POTENTIAL.Even we everyone is also one of his form, but even whole life is passed we fail to recognise ourselves. Recognise yr true form FROM today & have the god qualities of allmighty incorporated in yr life or enjoy sachidananda.RADHE RADHE.
    D/VEDVYASYAJI wrote Ved .Here in four veds he wrote any thing or aauhti given to fire or i e surya or agni dev is yagya.Kisi bhi chiz ke liye prano ki aahuti di jati hai ya jijan lagana padta hai.
    Sun is prime source of all energy on earth.From egyption or ancient times egyption farohs & all received energy or charge from prime source or subsequent ones & transfer it thereafter in another form & acts like as energy receiver & transformers as the capacities & specialisation of each body or bodies or masses & subsequents transformers.Just is cells ' power plant.New proper energy centers or new life hails & wanes with one's particular time but do not vanish but is transferred in form of energy is amalgated in new or another body.THIS GOES ON IN UNIVERSE OR SPACE WITH NEVER ENDING IN EVER CHANGING INFINITE COMBINATIONS OF SUPREME OR ITS FORCES.
    E/Next vedvyasaji wrote 18 PURANS & upnishads. NEXT HE WROTE BHAGWAT.bha for bhakti, g for gyana,wa for varagya,t for tyaga.we can go for only 1st & 2nd step .3rd & forth r two difficult in kaliyug or present time.Only last Gautam Budha or Mahavir achived 2000yrs ago those higher stage.So we can hear Bhagwat only ,but life me utarneki liye its to difficult.RADHE RADHE.
    F/Then vedvyasa wrote Mahabharat & GITA. Here he also depicted all moral lessons of life with reference to society &karma.Though all the same lessons were earlier described by him in vedas,puran,bhagwat,but the same all here again for welfare of humans or understaning or realising god here he described in different way again. radhe radhe
    G/Even then vedvyasa was not satisfied. Then he wrote BALLILA OF KRISHNA,& PREMLILA OF KRISHNA. THESE REPRESENT CHILD HOOD & YOUTH STAGE OF LIFE.So after FIRSTONE it comes turn for 2nd one.Here some other is Krishna roop & OTHER IS PLAYING ROLE OF RADHA.SO PREM OR LOVE SHOULD BE PURE WITH GOOD FEELINGS &ONE SHOULD RECOGNISE THAT ONE IS WITH KRISHNA OR RADHA OR DHARMPUTRA YUDHISTIR.NOT WITH ANY DEVIL OR DURYODHAN.LOVER IS ALSO KRISHNA ROOP.& NEW BORN CHILD(new center of energy) IS ALSO NEW KRISHNA AVTAR OR GOD.LATER ON NEW CHILD AFTER DECEIVED BY OLD ONES MAY BEHAVE LIKE DEVIL IN KALIYUG OR i e. present time. RADHE RADHE.

  3. NARESH KUMAR SHARMA says:

    SECURITY GUARD SHOULD BE HONORED… REST IS WASTE OF TIME, IF WE CRITISE SOME ONE MEANS WE ARE GIVING HIM IMPORTANCE. RIGHT THING IS THIS, THAT MR DALVI SHOULD BE REWARDED.

    CONGRATULATIONS ! MR DALVI
    N K SHARMA @ 9990812649

  4. AMERICA WALO NE ISKE KAPDE HE KHULWAYE. ISKI TO UNDERWEAR TAK KHULWAI JAYE TO BHI KAM HAI.

  5. Kusum Surana says:

    Security Guard is loyal towards his duty..No matters whether he is Shaharuk or any body else…He is performing his duty..no other influence should disturb the loyal man performing his duty..We must honour the security guard for his fearless performance..this is essential to save our country from corruption, influence of power..u may say interferance.

  6. indian media really sucks

  7. Shivnath Jha says:

    ऊंचाई पर चढ़ने के लिए सीढ़ी जरुरी होता है. सब नियति है, समय और नियति उस समय गार्ड के पक्ष में था और खान साहेब को ११,४५४ रूपये प्रतिमाह पाने वाले इस गार्ड के सामने नत्मश्तक होना था – बाकि सब बकवाश.

  8. sale ne harne ke bad ye kiya

  9. Balweer Lodha says:

    SECURITY GUARD SHOULD BE HONORED… REST IS WASTE OF TIME, IF WE CRITISE SOME ONE MEANS WE ARE GIVING HIM IMPORTANCE. RIGHT THING IS THIS, THAT MR DALVI SHOULD BE REWARDED.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: