Loading...
You are here:  Home  >  व्यापार  >  Current Article

सामने आया तेल की कीमतों का सच: हर रोज 137 करोड़ कमाए इंडियन ऑयल ने

By   /  May 29, 2012  /  6 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

और आखिर सच सामने आ ही गया। देश की तेल विपणन कंपनी इंडियन आयल कॉरपोरेशन लिमिटेड का शुद्ध मुनाफा 2011-12 की अंतिम तिमाही में 224 प्रतिशत के भारी उछाल से 12,670 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। यानि हर रोज़ करीब 137 करोड़ रुपयों का मुनाफ़ा। ग़ौरतलब है कि इसी कंपनी के चेयरमैन आर.एस बुटोला ने दो दिनों पहले सरकार के बचाव में उतर कर कहा था कि तेल की कीमतें बढ़ाना जरूरी है वर्ना कंपनी को करोड़ों रुपए का घाटा सहना पड़ेगा।

उधर अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत भी पांच महीनों के न्यूनतम स्तर पर आ गया है। कच्चे तेल की कीमत जिसके आधार पर पेट्रोल की कीमत का निर्धारण किया जाता है, 124 डालर प्रति बैरल से घटकर 116-117 डालर प्रति बैरल पर आ गई है। हालांकि रुपया अमेरिकी डालर के मुकाबले 53.17 से लुढ़ककर 55.30 पर आ गया है।

सवाल ये भी है कि क्या सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को जनता की जेब काट कर मुनाफ़ा कमाना जायज़ माना जा सकता है? ग़ौरतलब है कि इसी आईओसी को 2010-11 में चौथी तिमाही में भी 3905-16 करोड़ रुपए का फायदा हुआ था। इस तिमाही के दौरान भी कंपनी की अन्य आय 1860 करोड़ रुपए रही। इस अवधि में कंपनी की बिक्री 30 प्रतिशत बढ़कर 98,236 करोड़ 35 लाख रुपए से 1.28 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गई।

दिलचस्प बात ये है कि जब मीडिया के कुछ मित्रों ने इन तर्कों में से कुछ को बुटोला साहब के सामने रखा तो उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा कि कीमतों में कुछ कमी की जा सकती है। कुछ मतलब… सवा या डेढ़ रुपए.. मात्र।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

6 Comments

  1. oil companis shares per 50% labhansh de rahi hai aur roj 50crore loss ke magarmachchi aansu baha rahi hai ye khel alag hai jis country se oil import hota hai waha se en officers ke commision ki janch hona chahiye

  2. IOC K SHARE MUFT K BHAV BECH DO… IN BHIKHARIO K SHARE MAT KHARIDO TUMHE B BHIKHARI BANA DENGE…

  3. Ashish Jha says:

    sarkaar kya kar rahi hai lagta hai tel co. ke munafe ko batorne me lagi hai.

  4. Jamuna Pal says:

    Bhai Kisse Kahen, Sab Janta ko Loote Rahe Hai.

  5. Devendra Surjan says:

    तेल देखो – तेल की धार देखो – तेल का दाम देखो – तेल का मुनाफा देखो.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

बड़े कारोबारियों के लिए जगह छोड़ती जा रही हैं छोटी इकाइयाँ

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: