Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

‘टीआरपी- मास्टर’ को कुर्सी संभालते ही झटका, आजतक लुढ़का, एबीपी ने की बराबरी

By   /  June 7, 2012  /  8 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

टीआरपी के आंकड़ों में नए नाम के साथ उतरे एबीपी न्यूज़ को जोरदार सफलता मिली है। बाइसवें हफ्ते में चेहरा बदल कर मैदान में आए एबीपी ने दिखा िया कि नाम बदलने से लोकप्रियता में कोई कमी नहीं आई, उल्टे बढ़ ही गई। 1.4 अंकों की बढ़त के साथ एबीपी की टीआरपी 16.3 पर पहुंच गई। उधर नंबर वन चैनल आजतक ने अंको का गोता लगाया और वह भी 16.3 पर पहुंच गया। लिस्ट में हालांकि आजतक और एबीपी दोनों को 16.3 अंक मिले हैं लेकिन एबीपी को शायद .03 अंको की मामूली बढ़त के कारण उपर रखा गया है।

ऐसा माना जा रहा है कि एबीपी को यह उछाल उसके करोड़ों खर्च कर चलाए गए विज्ञापन अभियान के कारण मिला है, लेकिन आजतक को मिली शिकस्त से चैनल में भी कइयों को आश्चर्य हो रहा है। ग़ौरतलब है कि पिछले ही हफ्ते आजतक की कमान नए चैनल हेड सुप्रिय प्रसाद को सौंपी गई है। सुप्रिय को टीआरपी मास्टर कहा जाता है और उनके बतौर आउटपुट हेड आते ही आजतक ने अपनी खोई हुई नंबर वन की पोजीशन इंडिया टीवी से छीन ली थी।

बाइसवें हफ्ते की टीआरपी लिस्ट इस प्रकार है-

ABP NEWS  ————- 16.3 (+1.4)
AJTAK         ————- 16.3 (-1.3)
INDIA TV   ————- 15.5 (+0.3)
ZEE NEWS  ————- 11.5 (1.7)
NEWS24     ————– 09.2 (-0.2)
IBN-7         ————– 08.7 (+0.6)
NDTV INDIA ———-6.1 (-0.3)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

8 Comments

  1. "kyo sasur bhi sansad hai " dekhiye agle sansad satra me pahli bar sasur bahu -mulayam yadav and dimple yadav

  2. shashwat joshi says:

    to ranjan a b p matlab anand bajar patrika

  3. per koi ye to bataye ki ye mai kyo nahi hu

  4. aaj tak kewal vigyapan se vigyapan tak

  5. विशेष says:

    आनंद बाजार पत्रिका न्यूज़

  6. Ramesh Sawhney says:

    जब तक आज तक निर्मल बाबा से जुड़े रहेंगे उनकी टी आर पि कम होती जाएगी

  7. राजन says:

    स्टार न्यूज ने वाकई एक अच्छे न्यूज चैनल के तौर पर अपनी पहचान बनाई हैं थोडा बदलाव अब इण्डिया टीवी में भी दिख रहा हैं वर्ना पहले तो लोग उसे न्यूज चैनल ही नहीं मानते थे.मेरा पसंदीदा चैनल जी न्युज हैं.वैसे क्या आप एबीपी का फुल फॉर्म बता सकते हैं क्या होता है?

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

एक जज की मौत : The Caravan की सिहरा देने वाली वह स्‍टोरी जिस पर मीडिया चुप है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: