Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

खूबसुरत और रंगीन मॉडलों के जरिये हथियारों की डील

By   /  June 9, 2012  /  7 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

सीबीआई ने शुक्रवार को हथियारों को सौदागर और रक्षा सौदों के दलाल अभिषेक वर्मा और उसकी लिव इन पार्टनर मॉडल एन्सिया नेस्कू को गिरफ्तार कर लिया। शुक्रवार को लंबी पूछताछ के बाद वर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया। अभिषेक वर्मा को आज कोर्ट में पेश किया जायेगा जहां से उसे जेल भी भेजा जा सकता है। हालांकि इससे पहले नेवी वार रूम लीक मामले में भी वर्मा तिहाड़ जा चुका है। आरोप है कि वर्मा तिहाड़ जेल में ऐशो आराम से रहता था।

अभिषेक वर्मा को अमेरिकी नागरिक सी एडमंड्स एलन द्वारा सीबीआई को मुहैया कराए गए दलाली के सबूतों और हथियार बनाने वाली कंपनियों से पैसा लेने संबंधी दस्तावेजों के आधार पर शुरू की गई जांच के दौरान गिरफ्तार किया गया है। जानकारी रहे कि अभिषेक वर्मा कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे दिवंगत नेता श्रीकांत वर्मा का पुत्र है.

सी एडमंड्स एलन ने बताया कि अभिषेक वर्मा मॉडल के बेहद करीब रहता था और हथियारों की सौदों में भी मॉडलों का इस्तेमाल करता था। अभिषेक वर्मा के छतरपुर स्थित फार्महाउस पर रहने के लिए मॉडलों को करीब एक लाख रुपए प्रतिमाह की सैलरी पर रखा गया था।

आईपीएल 5 के दौरान रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु के खिलाड़ी पर छेड़खानी का आरोप लगाने वाली मॉडल जोहल हमीद भी अभिषेक वर्मा के बेहद करीब थी और जनवरी में लास वेगास में हुए आर्म्स एक्सपो में उसने अभिषेक वर्मा की कंपनी का प्रतिनिधित्व किया था।

वर्मा अपने क्लाएंट्स के लिए पार्टी भी आयोजित करता था। तस्वीर में इजराइल की कंपनी ईसीआई टेलीकॉम के अधिकारी वर्मा और उसकी मॉडलों के साथ पार्टी करते हुए।

सी एडमंड्स एलन के मुताबिक अभिषेक वर्मा खूबसूरत मॉडलों का इस्तेमाल करके अपनी डील करता था। इस तस्वीर में वर्मा एस्कॉर्ट मॉडल इरीना और अपनी गर्लफैंड एना के साथ दिख रहा है। इरीना बदनाम एस्कॉर्ट गर्ल है।

इस तस्वीर में अभिषेक वर्मा के साथ सीबीआई की गिरफ्त में आई उनकी लिव इन पार्टनर एना इजरायली टेलीकॉम कंपनी ईसीआई के वरिष्ठ अधिकारी जीव काफ्तोरी के साथ दिख रही है।

पेशे से वकील सी एडमंड्स एलन के मुताबिक अभिषेक वर्मा से उनकी पहचान साल 2000 में अपने कुछ मित्रों के जरिए हुई थी। एलन के कुछ मित्र व्यापार की संभावनाएं तलाशने के लिए भारत आए थे। यहां उनकी मुलाकात अभिषेक वर्मा से हुई। एलन के इन मित्रों ने ही अभिषेक वर्मा से उनका परिचय कराया। ईमेल और फोन से परिचय के बाद एलन और अभिषेक के बीच खूब बातचीत होती रही। इसी दौरान साल 2000 में ही अभिषेक ने विदेशी बैंकों में जमा अपनी दौलत के प्रबंधन के लिए उनकी सेवाएं लेनी चाही।

सी एडमंड्स एलन के मुताबिक अभिषेक वर्मा ने ईसीआई टेलीकॉम पर भारतीय वाणिज्य मंत्रालय द्वारा लगाई गई 75 करोड़ रुपए की एंटी डंपिंग ड्यूटी में छूट दिलवाने के लिए भी दलाली की।

अभिषेक वर्मा आईपीएल खिलाड़ी पर छेड़खानी के आरोप लगाने वाली अमेरिकी मॉडल जोहल हमीद के भी बेहद करीब है। वो उसे अपनी मुंहबोली बहन बताता है।

सी एडमंड्स एलन ने  बताया कि उसने ही एना के कहने पर जोहल को भारतीय वीजा दिलवाने के लिए गेंटन प्राइवेट लिमिटेड की ओर से लिख कर दिया था।

(भास्कर)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

7 Comments

  1. neeraj chansoriya says:

    aadme janam se lalchee nahe होता

  2. aadmi ka swbaav he hota hai. lalach

  3. 1 bar sirf puray india na modi ko pm banaoo fir dakho.

  4. kitna galat ho raha hai india me kaise kaise lo hai yaha par hi prabhu kuch karo hamari duniya kiiiiiiiiii pl help me.

  5. Ravi Shanker says:

    what we can see…its shameful.

  6. aadmi lalach mai kisi bhi haad tak gir sakta hai.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

जौहर : कब और कैसे..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: