Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

चचेरी बहन को भी नहीं छोड़ा, दोस्तों को भी परोस दी…

By   /  June 9, 2012  /  13 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

पटौदी थाना क्षेत्र के गांव राजपुरा में एक युवक ने तीन अन्य दोस्तों के साथ चचेरी बहन से सामूहिक दुष्कर्म किया। उसने 20 वर्षीय बहन की अश्लील तस्वीरें खींची और उसे ब्लैकमेल करता रहा। पुलिस ने मामला दर्ज कर शुक्रवार सुबह तीनों को गिरफ्तार कर लिया।
पटौदी थाना अंतर्गत गांव राजपुरा निवासी अंजलि (काल्पनिक नाम) गुड़गांव के रेलवे रोड स्थित डीएसडी कॉलेज से बीए द्वितीय वर्ष की पढ़ाई ओपन से कर रही है। रविवार को कॉलेज में उसकी क्लास लगती है। दिसंबर 2011 में रविवार के दिन वह कॉलेज आई थी। तभी मेडिसिटी अस्पताल में कार्यरत गांव के ही युवक मनीष ने उसे फोन कर नौकरी दिलाने की बात कही। मनीष ने युवती को राजीव चौक बुलाया। वहां बाइक पर बैठाकर सुभाष चौक के पास एक कमरे में ले गया और उससे दुष्कर्म किया।
युवती के मुताबिक, कुछ देर बाद युवती का चचेरा भाई भीम भी वहां आ गया। अंजलि की अश्लील तस्वीरें भीम ने खींच लीं और उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोप है कि बाद में वह लोग ब्लैकमेल करते रहे।फोन कर उसे बुलाते और दुष्कर्म करते। 1 जून को भी आरोपियों ने उसे फोन कर बुलाया और बसई गांव में ले गए। वहां राजपुरा के प्रवीन और एक अन्य रोहित के साथ मिलकर भीम और मनीष ने सामूहिक दुष्कर्म किया।
गुरुवार को राजस्थान में ट्रक चालक की नौकरी करने वाला युवती का भाई घर आया तो युवती ने उसे घटना की जानकारी दी। देर शाम दोनों सदर थाने पहुंचे और मामले की शिकायत दी। पुलिस ने चारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर मनीष, भीम और प्रवीन को गिरफ्तार कर लिया।रोहित की तलाश की जा रही है। तीनों को अदालत में पेश कर एक दिन के रिमांड पर लिया गया है।

यशवंत यादव,थाना प्रभारी, सदर का कहना है कि चारों युवकों ने अपने गांव की ही युवती को हवस का शिकार बनाया। तीन को गिरफ्तार किया गया।चौथे की भी जल्द ही गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

13 Comments

  1. Jamal Shahid says:

    usne mere kirdaar pe nukta-chini kr dia,r maine uske samne aaina rakh dia.

  2. Arvind Rai says:

    aise logo ko chaurahe pe khada karke goli mar deni chahiye.

  3. yes bhai h kya.
    ma…………………………… ko goli mar do.

  4. Shyam Arya says:

    बोये बबुल और कल्पना आम की? हम ने नैतिक शिक्षा को साम्प्रदायिकता कह कर हटा दिया. घर घर में टी.वी. यौन भड़काऊ दृश्य परोस कर युवा का तन मन उद्वेलित कर रहा है, और कल्पना शिष्ठ्ता की करते है. विरोधाभास के वातावरण में युवा जी रहा है.

  5. shach me hamari duniya choro ki kami nahi ak jata hai 2sara a jata hai hi bhagavan kuch karo hamari duniya ka//////////.

  6. ~!~ आज केवल आज से ही अगर हिंदूवादी परिवार अपने बच्चो के पहनावे पर थोड़ा सा ध्यान दे दे या जो हमारी बहने हिंदूवादी हैं वो आज से आज से अपने पहनावे पर गोर करना शुरू कर दे या मुस्लिम समाज को देखते हुए तो हमने नारी पर इतना बंधन भी नही लगाया. " आचार्य श्री राम शर्मा ने कहा था श्न्गार बदलो संस्कार नही " इस पहनावे ने उनके सुविचारों को तार -तार कर दिया………. हर समाज में जब से ये कटर पंथी पैदा हो गये दुनिया गंदी होती चली गई? अब बात मुसलमानों के हिंदुत्व के मूल को नष्ट करने की करे तो एक सच्ची घटना में आप को भी पता चलेगा और उनका जबाब भी '' एक दिन मैं कुछ मुस्लीम भाईयो के साथ एक वार्ता चल रही थी की दुनिया में आज सब से ज्यादा आबादी ईसाईयों की और मुसलमानों की हैं हिंदू कही तीसरे नम्बर पर आते है? ये उसने थोड़ा मजाक के लहजे में कही थी.. मुझे नही पता क्या हुआ उस परमेश्वर ने ही जबाब दिलवाया ( गोधरा – गुजरात ) क्यो की समय पर बात और समय पर लात ना मारी तो प्झ्ताना पडता हैं , मेने कहा सुनो भाईजान तुमने एक पोधे का नाम सुना होगा " बेशर्म " जो नदी के किनारे पाया जाता हैं उस को जितना काटो वह बड़ता ही जाता हैं……… लेकिन हिंदु चंदन का पेड हैं बहुत कम जगह पाया जाता हैं.और तुम जेसे विषधर उसमे लिपटे रहते है किन्तु उस की महक को नही प्रभावित कर पाते…… हा अब संख्या की बात करो तो आज सभी जाति -धर्म सम्प्रदाय सनातन के ही मूल से निकले हैं तुम खुद जब पैदा हुए थे तो क्या थे.. अरे ये तो कहो कुछ राज ठाकरे जेसे सचिन -और वालीवुड में कुछ गदार हिंदु जन्म लेकर पहुच गए जो हिंदुत्व को ही बर्बाद करके रुपया कमाने लगे किसी हरामखोर की हिमत हैं जो मुन्नी या शीला की जगह शबाना -रुख्शाना को बदनाम करे इन का भी हिसाब होगा चंद रोज बाकी है कयामत के…. मेरा सभी हिंदु भाई यो से हाथ -पैर जोड़ कर विनती हैं अपने घर से अग्रेजीयत को हटाये सनातन धर्म ही श्रेष्ट धर्म हैं आज नही तो कल संसार मानेगा और अंत में उन कटर पंथीयो से विनती करुगा वो मगहर में कबीर की मजार पर जरूर जाए…..

  7. Rajeev Pal says:

    kya ho gaya hain logo ko?

  8. Anjani Kumar says:

    kya ho gaya hain logo ko?

  9. ~!~ पहली बात जिसका खून ही गंदा हो वो अच्छाई नही करेगा उपर से आज ये वालीवुड का तडका जो दिन रात कामुकता को ही परोस रहा है मैं सभी बहनों से यही विनती करुगा की वो अपने बचाव में जहाँ पर्स में सब कुछ रखती हैं थोड़ा लाल मिर्च पिसा हुआ जरूर रखे अपने बचाव में और भड़काऊ कपड़े न पहने जो हमारी संस्क्रती नही हैं

  10. राजन says:

    बलात्कार और यौन शोषण के ज्यादातर मामलों में कोई रिश्तेदार या परीचित ही दोषी होता हैं|महिलाएँ आखिर जाएँ तो जाएँ कहाँ!

  11. Mayur Ranva says:

    yahan par rakhi gai tasveer bahut hi ashlil hai aur shayad kisi film se li gai lagti hai to is vaastavik jivan ki ghatna ko bayaan karne ke liye juthi tasveer ka sahara kyo liya gaya? log to ise asli hi samjenge to pidit ladki ke liye yah ek mazak sa ban ke rah gaya hai. kripaya kisi vaqye ka is prakar galat chitran na karen..

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: