/डॉक्टर और क्लिनिक मालिक ने किया नाबालिग से बलात्कार का प्रयास

डॉक्टर और क्लिनिक मालिक ने किया नाबालिग से बलात्कार का प्रयास

चाहे हरियाणा हो या दिल्ली हो या फिर उत्तर प्रदेश, नाबालिगों के साथ बलात्कार और उसकी कोशिश के मामले लगातर बढते जा रहे हैं। दिल्ली में एक प्राइवेट क्लीनिक में डॉक्टर और अस्पताल के मालिक ने एक 14 साल की स्टूडेंट को अपनी हवस  का शिकार बनाने की कोशिश कर न सिर्फ इंसानियत का गला घोंट दिया बल्कि डॉक्टरी पेशे को कलंकित कर दिया।

14 साल की छात्रा सांस की तकलीफ होने पर दिल्ली के उत्तम नगर इलाके में माता रूपरानी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती हुई थी। छात्रा का कहना है कि 7 जून की रात आईसीयू में एक डॉक्टर आकर उससे अश्लील हरकत करने लगा इस पर छात्र के विरोध करने पर वह चला गया। लेकिन थोड़ी देर बाद वह एक नर्स के साथ लौटा और अस्पताल के मालिक के बारे में बात करने लगा। उसने छात्रा से कहा कि क्लिनिक के मालिक सुबह आएंगे, उनसे अच्छे से बात करना। इसके बाद डॉक्टर ने उसे इंजेक्शन लगा दिया। छात्रा का कहना है कि अगले दिन जब उसे होश आया तो अस्पताल का मालिक उसके साथ अश्लील हरकत कर रहा था।  छात्रा का कहना है कि जब उसने इसका विरोध किया तो डॉक्टर और नर्स ने उसके हाथ पकड़ लिए। इस बीच, छात्रा के परिजनों ने दरवाजा खटखटा दिया। इसके बाद छात्रा के परिजन आईसीयू में दाखिल हुए। छात्रा ने अपने घर वालों को पूरी बात बताई। जिसके बाद परिजनों ने अस्पताल में हंगामा और तोड़फोड़ की। अस्पताल का मालिक फरार हो गया है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.