Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

एड्स के रोगी ने सौतेली बेटी से दुष्कर्म कर उसे भी एड्स से ग्रसित किया

By   /  June 12, 2012  /  6 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

सौतेली बेटी से बलात्‍कार करने के आरोपी और एड्स से ग्रसित एक व्‍यक्ति पर दिल्‍ली की एक अदालत ने दुष्‍कर्म और जबरन गर्भपात कराने के आरोपों के अलावा उस पर हत्‍या के प्रयास का आरोप भी लगाया है। 

अपर सत्र जज कामिनी ला ने मुकदमे की सुनवाई के दौरान कहा कि उसने जानबूझ कर इस जानलेवा बीमारी का संक्रमण 15 साल की पीडि़ता में किया। वह जानता था कि इससे लड़की की मौत हो सकती है।
अदालत ने कहा कि हालांकि ऐसे मामलों को देखने के लिए किसी विशेष कानून नहीं हैं। अदालत की राय है कि मौजूदा हालात में ऐसे व्‍यक्ति पर आईपीसी की धारा 307( हत्‍या के प्रयास) का मुकदमा चलाया जाना चाहिये।

अदालत ने उस पर धारा 313( स्‍त्री की अनुमति के बगैर गर्भपात कराना) के तहत भी आरोप तय किये। आरोपी व्‍यक्ति ने पिछले साल पांच अगस्‍त को अपनी नाबालिग सौतेली पुत्री को पांच गोलियां खाने को दी थीं जिससे उसका गर्भपात हो गया था।

अदालत ने कहा कि यह स्‍पष्‍ट है कि आरोपी इस बात से अच्‍छी तरह वाकिफ था कि वह एचआईवी पॉजिटिव है। इसके बावजूद उसने सौतेली बेटी के साथ बलात्‍कार किया। उसने इस नाबालिग लड़की को भी वही बीमारी दे दी जिसका वह खुद शिकार है। इन हालातों में अगर पीडि़ता की मौत हो जाती है तो उसपर हत्‍या का दोषी माना जाएगा।

जज कामिनी ला ने आरोपी व्‍यक्ति पर हत्‍या के प्रयास का आरोप लगाते हुए कहा कि उसे मालूम था कि उसके इस कृत्‍य से उसकी बेटी मर सकती है।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

6 Comments

  1. आप से निवेदन है की इस पेज को लाइक करें.
    http://facebook.com/AISWC

    दोस्तों ,
    सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं…..
    मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए……
    भरोसे की आंधी चलाये रखना।.
    मिलेगी मंजिल भ्रष्टाचार मिटाने की,
    अपने दिलो मे राष्ट्र-प्रेम समाय रखना।.

    ''असतो मा सद्गमय! मृत्योर्मा अमृतमगमय! तमसो मा ज्योतिर्गमय!''.

    गुरूर्ब्रम्हा गुरूर्विष्णु: गुरूर्देवो महेश्वर:।.
    गुरु: साच्छात् परब्रम्ह तस्मै श्री गुरवे नम: ।।.

  2. Tilak Aazad says:

    aese logo ko chok par goli mar deni chahiye

  3. Neeta Smile says:

    one should give a tight SLAP on his cheeks,,,,,,,,,,,,,

  4. Mohit Sharma says:

    isko to road me jinda jala dena hi.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: