Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

फर्जी CBI अधिकारी बन 40 महिलाओं से ज्यादती करने वाला…

By   /  June 20, 2012  /  1 Comment

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

सीबीआई व अन्य विभागों का अफसर बनकर महिलाओं से पैसे ऐंठने के साथ दुष्कर्म करने वाले मुंबई निवासी भूपेंद्र सिंह यादव को नाथ वर्मा दक्षिण दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जो सीबीआई व अन्य विभागों का फर्जी अफसर बनकर महिलाओं से न केवल पैसे ऐंठता था बल्कि उनके साथ रेप भी करता था। यह जालसाज अब तक लगभग 40 महिलाओं को अपना शिकार बना चुका है।
मुंबई से गिरफ्तार करने के बाद दिल्ली पुलिस इसे ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली लाई है। यहां पूछताछ में इस शातिर ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। फिलहाल अदालत में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है, लेकिन पुलिस उसे फिर से रिमांड पर लेने की तैयारी कर रही है।
वसंत कुंज साउथ निवासी एक युवती द्वारा 26 फरवरी को दी गई शिकायत के बाद पुलिस को इसकी तलाश थी। आखिरकार चार माह बाद पुलिस इस शातिर तक पहुंच ही गई। युवती ने शिकायत की थी कि एक व्यक्ति ने फोन पर किसी जांच एजेंसी का अफसर बताते हुए उसे डराया कि उसके भाई के खिलाफ 90 महिलाओं ने शिकायत दी है। अगर अपने भाई को बचाना चाहती हो तो 40 हजार रुपए पहुंचा दो, नहीं तो महिलाओं को गलत फोन करने के आरोप में तुम्हारे भाई को 11 साल की सजा हो सकती है।
युवती ने आरोप लगाया कि इस व्यक्ति ने उसे एम्स मेट्रो स्टेशन के पास बुलाया और अपनी कार में उससे दुष्कर्म किया। पुलिस ने मामला दर्ज किया और इस व्यक्ति की तलाश शुरू की। जांच में सामने आया कि यह व्यक्ति मुंबई में है। पुलिस टीम मुंबई पहुंची और यहां कुछ अन्य महिलाओं की तरफ से भी शिकायत मिली। इस बीच पुलिस को उसकी कार नंबर और उसका नाम हाथ लग गया। ऐसे में पुलिस ने कड़ी से कड़ी मिलाई और किंगफिशर एयरलाइंस के ऑफिस में पहुंच गई। जहां से पता चला कि इस व्यक्ति का पूरा नाम भूपेन्द्र नाथ वर्मा है और वह नवी मुंबई का रहने वाला है। यहां से पता चला कि वह कब-कब मुंबई से दिल्ली आया।
पुलिस टीम ने मुंबई के वासी नगर सेक्टर-2 में छापा मारा और उसे गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने मुंबई की अदालत में उसे पेश कर ट्रांजिट रिमांड पर लिया और दिल्ली लेकर पहुंची। पुलिस के सामने इसने खुलासा किया कि वह महिलाओं को फोन करके अपना परिचय कभी सीबीआई अफसर, कभी पुलिस अफसर या कभी एमटीएनएल के बड़े अधिकारी के रूप में देता था और यह कहकर पैसे ऐंठता था कि उनके पति या भाई के खिलाफ महिलाओं की शिकायत मिली है। पुलिस के मुताबिक इस शातिर ने लगभग ढाई हजार महिलाओं से फोन पर संपर्क किया। इनमें से जो महिला या युवती इसके चंगुल में फंसी उससे न केवल इसने पैसे ऐंठे बल्कि उनकी इज्जत भी लूटी। पुलिस का कहना है कि इसे फिर से रिमांड पर लिया जाएगा।

(भास्कर)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

1 Comment

  1. Dr Shashikumar Hulkopkar says:

    Every Govt Official Gazetted/ or non are issued with authority & identity cards < the correctness of card/ authority is easily checked by one phone call to issuing authority, but illustrate people get simply afraid by the talk & behavior& fall as victims , The confidence in such people need to increased by people around sch victims

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: