/लोकसभा में पुलिस वाले ने महिला मीडियाकर्मी से बदतमीजी करने की हिमाकत की…

लोकसभा में पुलिस वाले ने महिला मीडियाकर्मी से बदतमीजी करने की हिमाकत की…

देश की सर्वोच्च संस्था संसद भवन की सुरक्षा में तैनात एक सुरक्षा सहायक पर ड्यूटी के समय शराब के नशे में होने व लोकसभा चैनल की एक महिला कर्मी के साथ बदतमीजी व शारीरिक प्रताड़ना के प्रयास का आरोप लगा है।

बड़ी बात यह है कि विरोध स्वरूप महिला द्वारा शोर मचाए जाने पर आरोपी संसद भवन के गेट से अपनी ड्यूटी छोड़ भाग खड़ा हुआ। संसद भवन सुरक्षा निदेशक अजय आनंद ने इस घटना की पुष्टि की है और आरोपी के खिलाफ उचित कार्रवाई किए जाने की बात कही है।

संसद भवन सुरक्षा के एक अधिकारी ने बताया कि यह घटना शुक्रवार दोपहर लगभग 3:30 बजे की है। तालकटोरा रोड गेट संख्या 2-3 पर सुरक्षा सहायक (ग्रेड-वन) यू.बी.एस नेगी तैनात थे। उसी दौरान लोकसभा चैनल की एक महिला कर्मचारी ऑफिस में प्रवेश करने के लिए उस गेट पर पहुंची।

कुछ ही देर में महिला के शोर की आवाज सुनाई दी, जिसके बाद अन्य सुरक्षा कर्मी भी वहां आ गए। महिला कर्मी ने आरोप लगाया कि यू.बी.एस नेगी शराब के नशे में इस कदर धुत हैं कि जब वह गेट से प्रवेश कर रही थी तो नेगी ने उसके साथ बदतमीजी करनी शुरू कर दी।

जब महिला ने विरोध जताया तो उसके साथ शारीरिक प्रताड़ना का प्रयास करने लगा। मामले की जानकारी पार्लियामेंट सेक्युरिटी के आला अधिकारियों को भी दी गई। जैसे ही यू.बी.एस नेगी को इस बात का पता चला कि आला अधिकारी भी मौके पर आ रहे हैं वह अपनी ड्यूटी छोड़ कर भाग खड़ा हुआ।

 एडिशनल डायरेक्टर(सेक्युरिटी) राकेश सेठी भी मौके पर पहुंच गए। पूछताछ के बाद महिला अधिकारी ने सारी बात आला अधिकारी को भी बताई। पार्लियामेंट सेक्युरिटी के डायरेक्टर अजय आनंद का कहना है कि पीड़िता से लिखित में शिकायत ले ली गई है।

हालांकि इस बात की पुष्टि करना मुश्किल है कि घटना के दौरान सुरक्षा सहायक नशे में धुत था या नहीं क्योंकि वह मौके पर नहीं मिला था। पीड़िता की शिकायत के आधार पर आरोपी के खिलाफ उचित कार्रवाई की जा रही है, साथ ही उसके खिलाफ विभागीय जांच भी की जाएगी।

(भास्कर)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.