/ताप्तीचंल में 26 जून मंगलवार को ताप्ती जन्मोत्सव महाकुंभ की तर्ज पर मनाया जाएगा

ताप्तीचंल में 26 जून मंगलवार को ताप्ती जन्मोत्सव महाकुंभ की तर्ज पर मनाया जाएगा

558 ग्राम पंचायतो के 1343 गांवो एवं दस नगरीय क्षेत्रो में महाआरती का आयोजन


बैतूल, (रामकिशोर पंवार): ताप्तीचंल में बसे बैतूल जिले में आने वाली 26 जून दिन मंगलवार तीथी अषाढ़ शुक्ल की सप्तमी को शिवधाम बारहलिंग सहित जिले की 558 ग्राम पंचायतो के 1343 गांवो एवं दस नगरीय क्षेत्र के सोलह लाख आबादी धुमधाम से ताप्ती जन्मोत्सव को ताप्ती महाकुंभ की तर्ज पर मनाने जा रही है। इस कार्य के लिए बकायदा जिले की सोलह लाख आबादी से मां सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति एवं मां ताप्ती जागृति मंच ने एक मार्मिक अपील की है जिसमें कहा गया है कि इस दिन एवं तीथी को हर व्यक्ति को मां सूर्यपुत्री के पावन जल में स्नान – ध्यान करके प्रात: 7 बजे महाआरती में सहभागी बने। मुख्य महाआरती का कार्यक्रम शिवधाम बारहलिंग पर किया जाएगा लेकिन जिले के हर घर में सुबह एवं शाम दोनो समय प्रत्येक परिवार दीप जला कर मां सूर्यपुत्री ताप्ती की आरती करे।

मंच के संस्थापक रामकिशोर पंवार के अनुसार इस दिवस हर हर घर में दिपावली की तरह दीप जले एवं लोग बहते हुई मां ताप्ती की जलधारा में दीपदान करे। मां ताप्ती जागृति मंच से जुड़ी पंजीकृत संस्था मां सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति के जिलाध्यक्ष संजय शुक्ला के अनुसार इस दिन लोग अपने घर – आंगन में एक पौधा अपने दिवंगत पूर्वजो एवं माता – पिता की चिर स्थायी याद में जरूर लगाए। जीवित माता – पिता एवं पुत्र – पुत्रियों के नाम से पौधा रोपण करे ताकि उनकी याद को जीवन भर संजो कर रखा जा सके। समिति की प्रदेश कोषाध्यक्ष श्रीमति अनिता कैलाश कोड़ले जिले की महिलाओं से आग्रह किया है कि वे इस दिन अपनी बेटियों का पूजन एवं उनकी मां ताप्ती के रूप में महाआरती करे।

बैतूल जिले में सबसे अधिक 250 किलोमीटर के बहाव एवं प्रवाह क्षेत्र में ताप्ती जन्मोत्सव तो मनाया जाता है लेकिन इस बार पूरे जिले को इस महाकुंभ में जोडऩे के पीछे लोगो के मन में नदी और नारी के प्रति सम्मान पैदा करना प्रमुख ध्येय है। मंच की प्रदेश सहसचिव बज्रकिशोर पंवार (डब्बू भैया) ने जिला प्रशासन के नशा मुक्ति अभियान को ताप्ती जन्मोत्सव से जोड़ते हुए लोगो से आग्रह किया है कि वे  इस दिन बहती ताप्ती की जलधारा में नशा के प्रदार्थ तम्बाकु , गुटखा , सिगरेट , पाऊच, मदीरा, एवं अन्य नशा सामग्री को जल में प्रवाहित कर संकल्प ले कि वे भविष्य में इनका सेवन नहीं करेगें। श्री पंवार ने जिला मुख्यालय पर दोपहर आयोजित नशा मुक्ति रैली में भी भाग लेकर ताप्ती महोत्सव को महाकुंभ का रूप देने की अपील की है।

श्री पंवार ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा प्रति वर्ष आयोजित ताप्ती जन्मोत्सव पड़ौसी बुरहानपुर जिले में भी मनाया जा रहा है जहां पर मंच से जुड़े कार्यकत्र्ता एवं प्रदेश पदाधिकारी भाग लेगें। पड़ौसी राज्य गुजरात में सूरत तक ताप्ती जन्मोत्सव के इस दिन मनाने की तैयारी है। श्री पंवार के अनुसार यदि पूरा बैतूल जिला ताप्ती महोत्सव के दौरान आयोजित किसी भी अभियान के किसी भी कार्य में यदि सामुहिक भागेदारी लेगा तो यह अपने आप में एक वल्र्ड रिकार्ड बन जाएगा। इधर ताप्ती जन्मोत्सव में प्रदेश के विभिन्न अचंलो से विभिन्न क्षेत्रो के लोगो के भी आने की संभावना व्यक्त की जा रही है। मंच की ओर से प्रदेश के महामहिम राज्यपाल , प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान , नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल भैया , प्रदेश भाजपा अध्यक्ष प्रभात झा, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतीलाल भूरिया सहित अनेको विशिष्ट लोगो को खुला न्यौता भेजा है।

(प्रेस विज्ञप्ति)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.