/अब वेब साईट से रक्तदाता पाईये!

अब वेब साईट से रक्तदाता पाईये!

आज के ज़माने में किसी रक्तदाता को अचानक खोजना वो भी ब्लड ग्रुप के आधार पर, लगभग असंभव है! लेकिन रोहित चौधरी नाम के एक नवयुवक, जो कोरोटाना कलां, आर एस पूरा, जम्मू के रहने वाले है, उन्होंने इस असंभव काम को संभव कर दिया है. इन्होने एक वेबसाइट www.indiadonor.in का निर्माण मात्र इसीलिए किया ताकि अचानक मुसीबत में सही रक्त ग्रुप की पहचान के साथ किसी भी रक्त दाता व्यक्ति से संपर्क साधा जा सके.


इस वेबसाइट में आसानी से कोई ब्लड ग्रुप और व्यक्ति को ढूँढ सकते हैं. यह एक ऑनलाइन रक्त बैंक है जिसमे कोई भी व्यक्ति अपनी इच्छा से अपना विवरण डाल सकता है. इस वेबसाइट में पुरे देश भर में फैले रक्त दाताओं एक डेटाबेस है. इस वेबसाइट के संस्थापक रोहित चौधरी कहते हैं, “साइट पर दर्ज किया गया सभी डेटा विश्वसनीय है ! जिसमे रक्त-दाताओं के रक्त के प्रकार और स्थान के अनुसार एक सूची शामिल है, हमारा उदेश्य सही जल्दी और बिना लागत प्रभावी मैच के लिए खोज करना है.”रक्त-दाता वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करके अपने संपर्क के बारे में जानकारी प्रदान कर सकते हैं! रोगियों द्वारा रक्त के लिए अनुरोध भी वेबसाइट पर आवश्यकतानुसार डाल सकते हैं और जिस अस्पताल में रोगी भर्ती है रक्त-दाता सीधे वहां संपर्क कर सकते है. चौधरी कहते हैं, “हमारा प्रयास विशेष रूप से उनके लिए है जो स्वास्थ्य के लिए भुगतान नहीं कर सकते हैं, उन्हें ये सेवा पूर्ण रूप से फ्री प्रदान करना है.”


Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.