/छत्तीसगढ़ में भी इंसानियत हुई शर्मसार – दरिंदों ने युवती की नग्न परेड कराई..

छत्तीसगढ़ में भी इंसानियत हुई शर्मसार – दरिंदों ने युवती की नग्न परेड कराई..

गौहाटी में सरे राह पंद्रह बीस दरिन्दे लड़कों की भीड़ द्वारा एक लड़की को बेईज्ज़त करने का मामला जब एक राष्ट्रीय मुद्दा बना हुआ है ऐसे में फिर से इंसानियत को शर्मसार होना पड़ा है. इंसानियत के मुंह पर कालिख पोतने का ताज़ा मामला छत्तीसगढ़ के रतनपुर के पास खूंटाघाट में अमानवीय कृत्य का मामला सामने आया है. जहाँ चार हथियारबंद युवकों ने यहां घूमने के लिए आए एक प्रेमी जोड़े को पकड़ लिया और फिर युवक के सामने ही प्रेमिका के सारे कपड़े उतरवा दिए. यही नहीं हैवानियत की हदें पार करते हुए इन बदमाशों ने दोनों की न्यूड परेड भी कराई और इस सबका एमएमएस बना लिया. अब यह एमएमएस मोबाईल फोन के जरिये वायरल की तरह फ़ैल रहा है.

इस वीडियो क्लिप में 15-16 साल की एक युवती और तीन-चार लड़के दिखाई दे रहे हैं और ये बदमाश युवती को कपड़े उतारने के लिए मजबूर कर रहे हैं. युवती गिडगिडा कर उन लड़कों से रहम की भीख मांग रही है मगर इन हैवानों पर उसके गिड़गिड़ाने का कोई असर नहीं हुआ. करीब पांच मिनट लम्बी इस क्लिप में युवती की बेबसी  और इन्सान के हैवान बनने की सारी कहानी दर्ज़ है. जो कि प्रदूषित हो गयी मानसिकता की असलियत बयान करती है. बताया जाता है कि पीड़ित युवती रतनपुर की एक संभ्रात परिवार की है तथा यह घटना करीब 15 दिन पहले घटी थी, लेकिन इसकी वीडियो क्लिप अब लोगों तक पहुंच रही है.  जानकारी के अनुसार इन  हथियारबंद युवकों ने लड़की के प्रेमी से मारपीट करने के बाद लड़की को घेर लिया और जबरदस्ती उसके कपड़े उतरवाकर मोबाइल के जरिए अश्लील वीडियो क्लिप बनाया.

गौरतलब है कि रतनपुर पर्यटन नगरी होने के कारण बिलासपुर, कोटा, तखतपुर आदि स्थानों से प्रेमी जोड़े यहां आते हैं. यहां इस तरह की घटनाएं होना आम बात है. ऐसे ही एक गिरोह का शिकार हो चुके एक युवक ने अपनी पहचान छिपाने की शर्त पर बताया कि खूंटाघाट बांध के आसपास इस तरह के तीन-चार गिरोह सक्रिय हैं, जो पहले प्रेमी जोड़ों को डराते हैं और बाद में लड़कियों की अश्लील फिल्म बनाकर उनके साथ लुटपाट करते हैं. प्रेमी युगल लोकलाज के भय से पुलिस में इसकी शिकायत भी नहीं करते.
मिली जानकारी के अनुसार रतनपुर के आसपास के गांवों में काफी संख्या में दुसरे राज्यों से आए लोग रह रहे हैं. जिनमें से अधिकतर आपराधिक प्रवृत्ति के लोग हैं. इन्हें कुछ स्थानीय बदमाशों का भी साथ मिलता है. इनका काम प्रेमी जोड़ों को डरा धमकाकर पैसे व गहने लुटना है।
इन युवकों ने वीडियो क्लिप लूटपाट के इरादे से बनाई थी और अब तक ऐसे दर्जनों अश्लील वीडियो बनाए जा चुके हैं, लेकिन किसी भी मामले में पुलिस ने सक्रियता नहीं दिखाई. स्थानीय पुलिस का कहना है कि अभी तक हमारे पास ऐसी कोई शिकायत नहीं आई है, जिसके आधार पर पुलिस कुछ कर सके. पुलिस शिकायत या सबूत के इंतजार में हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती है मगर अपनी तरफ से खूंटाघाट घुमने आने वालों की सुरक्षा पर खास ध्यान नहीं देती.  ऐसी घटनाओं के शिकार डरे हुए प्रेमी जोड़े शिकायत नहीं करते. इन गिरोहों का शिकार ज्यादातर युवक-युवतियां स्कूल और कालेजों के छात्र – छात्र होते हैं, जो यहां घूमने के लिए आते हैं. आमतौर पर देखने में आया है कि कोई घटना होने पर पुलिस दिखावे के लिए कुछ दिनों तक खूंटाघाट के आसपास बल लगाया जाता है.  मामला शांत होने पर पुलिस बल हटने से गिरोह के सदस्य फिर से सक्रिय हो जाते हैं और लगातार घटनाओं को अंजाम देते हैं.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.