Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर वर्ष मेले….

भारत माँ के सच्चे सपूत, क्रांतिकारियों के मसीहा,सच्चे प्रणपालक, स्वतत्रंता को अपना पिता और जेल को अपना घर घोषित करने वाले, शहीद चन्द्रशेखर आजाद जी की 112 वीं जयंती है.

आज ही के दिन एक और महान देशभक्त जिसने उद्घोष किया “स्वतंत्रता मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है” परम आदरणीय, गरमदल के अगुवा पंडित बाल गंगाधर तिलक जी की भी 156 वीं जयंती है माँ भारती के दो अनमोल रतनो को उनकी जयंती  पर शत शत नमन.

कितने दुःख की बात है जिन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए अपने प्राणों का सहर्ष बलिदान कर दिया आज उनका सम्मान नहीं होता और जिन्होंने देश की आजादी को केवल नाम से भुना लिया उनके नाम पर हर तरफ स्मारक बने, पार्क बने  और उनको भारत रत्न घोषित किया गया पर शायद हमारी सरकारे ये भूल गयी कि जिन्हें माँ के चरणों में बलिदान देने का शौक हो वो किसी सरकारी पुरस्कार के मोहताज नहीं होते वो तो सच्चे भारत रत्न थे, है और हमेशा रहेंगे.

 

आज इन भारत माँ के सपूतों की जन्‍मतिथि पर रामप्रसाद बिस्मिल की ये पंक्तियां शायद वर्तमान हालात में नौजवानों को रास्‍ता दिखाये.

नौजवानों, जो तबीयत में तुम्हारी ख़टके
याद कर लेना हमें भी कभी भूले-भटके
आप के जुज़वे बदन होवे जुदा कट-कट के
और सद चाक हो माता का कलेजा फटके
पर न माथे पे शिकन आए क़सम खाने को

नौजवानों यही मौक़ा है उठो खुल खेलो
और सर पर जो बला आए ख़ुशी से झेलो
क़ौम के नाम पे सदक़े पे जवानी दे दो
फिर मिलेंगी न ये माता की दुआएं ले लो
देखें कौन आता है इरशाद बजा लाने को

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1laldhari_yadavJuly 23, 2012, 5:41 PM

हम इअनको बहुँत बहुँत नमस्कार करता हु दिअनिअक प्रणाम करता हु जिअतना य लोअग बलिअदान दिय उअतना ही हमारय दिअस मय लोअग
गदारिय करतीय इअतना नही सोअचत्य नही है सहिदोअको कितना तक लिअफ़ होअगा लोअग स्रेफ़ अपनय बारे मय सोचातीय है दुअस्रोअ कय बारे मय नही सोचत्य किव किय निअत ठिअक नही है

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सत्यमेव जयते, आमिर खान और कमाई की दूकान..

सत्यमेव जयते, आमिर खान और कमाई की दूकान..(2)

-शम्भूनाथ शुक्ल|| सत्यमेव जयते में आमिर खान सेव लाइफ फाउंडेशन का प्रचार कर रहे थे या उसके उददेश्यों के बारे में बता रहे थे, यह साफ नहीं हुआ। इस संस्था के कर्ताधर्ता पीयूष तिवारी ने यह नहीं बताया कि उनके काम करने का तरीका क्या है अथवा संकट के समय उनकी मदद कैसे मंगाई जा

बाड़मेर ग्लव्ज़ खरीद प्रकरण में एक करोड़ का घोटाला पौने दो लाख की वसूली, मामले पर पर्दा..

बाड़मेर ग्लव्ज़ खरीद प्रकरण में एक करोड़ का घोटाला पौने दो लाख की वसूली, मामले पर पर्दा..(0)

-चंदनसिंह भाटी|| बाड़मेर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग बाड़मेर में पिछले लंबे अरसे से घोटालो का दौर चल रहा है, इसी क्रम में विभाग की आर एच एम  योजना में वर्ष 2011 -2012 में तत्कालीन मुख्य चिकित्सा अधिकारी अज़मल हुसैन के समय एक करोड़ के ग्लव्ज़ खरीद में हुए भरष्टाचार की निदेशालय स्तर की जांच पर

भारत में NGOs की सक्रियता और अमेरिका-पोषित नोबेल का नाता..

भारत में NGOs की सक्रियता और अमेरिका-पोषित नोबेल का नाता..(0)

-अभिरंजन कुमार|| अमेरिका और अन्य प्रमुख पश्चिमी देशों को हम जितना गलिया लें, लेकिन उनके विज़न की दाद देनी पड़ेगी। वे बीस साल, पचास साल, सौ साल आगे की सोचकर काम करते हैं। हम लोग चार दिन आगे नहीं सोच पाते हैं। भारत जैसे मुल्क आज भी उनके हाथों के खिलौने भर हैं। हम सब

बाड़मेर स्वास्थ्य विभाग में गड़बड़झाला, एक पद और दो तनख्वाह का खुला खेल..

बाड़मेर स्वास्थ्य विभाग में गड़बड़झाला, एक पद और दो तनख्वाह का खुला खेल..(1)

-चंदनसिंह भाटी|| बाड़मेर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग बाड़मेर में लम्बे समय से भ्रष्टाचार की जड़ें गहराती जा रही है. विभाग की हर शाखा में भ्रष्टाचार का बोलबाला है. एक सनसनीखेज मामला सामने आया कि विभाग के कुछ कार्मिक एक पद के विरुद्ध दो मानदेय का भुगतान उठा रहे हैं. मुख्य चिकित्सा अधिकारी जान कर

लव जेहाद नहीं असल खतरा वैदिक विवाह..

लव जेहाद नहीं असल खतरा वैदिक विवाह..(1)

देश में दक्षिणपंथी दल के सत्ता संभालने के बाद से ही जारी है, समाज में नफरत फैलाने का कारोबार.. -अविनाश कुमार चंचल|| भारत में आजकल एक नया शिगुफा छेड़ा गया है। धार्मिक राष्ट्रवाद के नाम पर दक्षिणपंथी ताकतें लगातार एक खास समुदाय पर हमला कर रहे हैं। उनके अनुसार हिन्दू लडकियां खतरे में हैं। कहते

read more

प्रसिद्ध खबरें..

  • Sorry. No data yet.
Ajax spinner

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.