कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

एनजीओ और मंत्री ने बनाई बिन ब्याही माँ…

अंगद और दददू प्रसाद ने तीन साल तक लगातार मेरा यौन शोषण किया, जिससे मैं गर्भवती हुई. लेकिन यह पता चलने पर मुझ पर गर्भपात कराने का दबाव डाला गया. जब मैंने गर्भपात से इंकार किया तो मुझे कुछ खिलाकर बेहोश कर दिया गया और 24 अक्टूबर 2011 को इलाहाबाद के स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल ले जाया गया…

-आशीष सागर||

उत्तर प्रदेश के सियासतदारों के एक के बाद एक महिलाओं से खुल रहे अन्तरंग रिश्तों की पोल और उनकी पकी फसलों के बीज बुन्देलखण्ड में भी बिन ब्याही मां बनने के रूप में सामने आने

पुलिस के साथ बिनब्याही मां बनी कमला कुशवाहा

लगे हैं.

नौ जुलाई 2012 को चित्रकूट के एक एनजीओ सर्वोदय सेवा आश्रम की भूतपूर्व कर्मचारी कमला ने बिन ब्याही होकर भी एक पुत्र को जन्म दिया है। कमला के मुताबिक इस बच्चे का बाप बसपा सरकार में मंत्री रहे दद्दू प्रसाद या फिर उनका पीए अंगद है. इस हाई प्रोफाईल दुराचार कांड का खुलासा होने के बाद एक बार फिर सियासत के गलियारों में दददू प्रसाद का नाम चर्चा में आ गया है। इस मामले में पीडि़त कमला कुशवाहा ने पूर्व मंत्री दददू प्रसाद और उसके पीए अंगद की डीएनए जांच कराये जाने की मांग भी शुरू कर दी है।

24 अक्टूबर 2011 को इलाहाबाद के एसआरएन अस्पताल में चित्रकूट के बरगढ़ कोलमजरा की रहने वाली कमला कुशवाहा का पूर्व बसपा सरकार के दबंग ग्राम्य विकास मंत्री द्ददू प्रसाद पर दुराचार के आरोप लगाये जाने के बाद अल्ट्रासाउण्ड हुआ था। तब वहां के रेडियोलाजिस्ट विभाग के तत्कालीन अध्यक्ष डॉ. वीरेन्द्र सिंह और डॉ. कलीम अकमल ने अपनी मेडिकल रिपोर्ट में पीडि़त कमला के गर्भवती होने की बात से इनकार कर दिया था। मगर अल्ट्रासाउण्ड होने के ठीक आठ माह बाद पीडि़त कमला ने बिन ब्याही होकर भी 9 जुलाई 2012 को एक पुत्र को जन्म दिया है।

बिनब्याही मां बनने के बाद कमला ने एक बार फिर पूर्व मंत्री पर लगातार अंगद की मदद से तीन साल तक नौकरी का लालच देकर उसके साथ हमबिस्तर होने के गम्भीर आरोपों को हवा दी है। अल्ट्रासाउण्ड होने के आठ माह बाद 9 जुलाई 2012 को कमला ने एक नवजात शिशु को प्राइवेट नर्सिग होम में जन्म दिया है। हाल-फिलहाल कमला समाज सेवी संगठन सहयोग सेवा संस्थान द्वारा संचालित नारी निकेतन में बतौर शरणार्थी बच्चे के साथ रह रही है।

गौरतलब है कि बुन्देलखण्ड के चित्रकूट जनपद स्थित बरगढ़ कोल मजरा की रहने वाली कमला कुशवाहा अपनी ही सहकर्मी और कथित प्रेमी अंगद के धोखे का खामियाजा भुगतने को मजबूर है। बच्चे के बाप की पहचान की तलाश में कमला और उसके नवजात बच्चे की जद्दोजहद जारी है। एनजीओ में सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में चित्रकूट के सर्वोदय सेवा आश्रम में समन्वयक पद पर काम करने वाला अंगद कभी इसी संस्था में कमला के साथ नौकरी करता था।

कोलमजरा गांव की कमला की दो बहनें और दो भाई हैं। कमला के पिता रिटायर्ड रेलकर्मी अयोध्या प्रसाद रेलवे मजदूर संघ के असिस्टेंट सचिव रहे हैं। मां पार्वती दददू और कमला के बीच चल रहे अंतरंग सम्बंधों की बयार में खुद के परिवार को सामाजिक बहिष्कार की दहशत से खौफ में जिन्दगी बसर कर रही है। उसकी आंखों में रह-रहकर कमला के मासूम बेटे की सामाजिक रूप से मान्यता मिलने-न मिलने की छटपटाहट साफ देखी जा सकती है।

यौन शोषण के आरोपों में घिरे पूर्व मंत्री दद्दू प्रसाद अपनी पत्नी हीरामणि के साथ

गौरतलब है कि बरगढ़ के ही सेमरा गांव का रहने वाला अंगद सर्वोदय सेवा आश्रम में कमला से प्रभावित था। कमला के मुताबिक इसी बीच जब बसपा की सरकार बनी और दददू प्रसाद मंत्री बने तो अंगद ने संस्था से नौकरी छोड़कर मंत्री के पीए का कार्यभार संभाल लिया। कमला की मानें तो एक बार अंगद ने उससे कहा की मैं तुम्हारी दददू प्रसाद से मुलाकात करवा देता हूं, वह तुम्हें ग्राम विकास अधिकारी बना देंगे।

अंगद उसे इस दरम्यान एक सरकारी पार्टी में ले गया, जहां सबने एक साथ खाना खाया। खाना खाने के बाद कमला बेहोश हो गयी और जब उसकी आंख खुली तो उसे अहसास हुआ कि उसके साथ शारीरिक संबंध बनाये गये हैं। अंगद को जब कमला ने यह बात बतायी तो अंगद ने उससे कहा कि तुम्हारी ब्लू फिल्म बनायी जा चुकी है, अगर मुंह खोलोगी तो उसे सार्वजनिक कर दिया जायेगा।

बकौल कमला इस घटना के बाद अंगद और दददू प्रसाद ने तीन साल तक लगातार मेरा यौन शोषण किया, जिससे मैं गर्भवती हुई। लेकिन यह पता चलने पर मुझ पर गर्भपात कराने का दबाव डाला गया। जब मैंने गर्भपात से इंकार किया तो मुझे कुछ खिलाकर बेहोश कर दिया गया और इलाहाबाद के स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल ले जाया गया।

वहीं से सुर्खियों में आया यह कमला कांड बुन्देलखण्ड की राजनीतिक हवा में एक नया बवाल लेकर आया। सत्ता और पद के दबाव में पूर्व सरकार के इशारे पर काम कर रही चित्रकूट की क्षेत्रीय पुलिस और प्रदेश की तत्कालीन दलित मुखिया मायावती ने अपने अजीज मंत्री पर लगाये गये आरोपों को दरकिनार कर उसे क्लीनचिट दे दी.

सफेदपोशों द्वारा किये जा रहे महिलाओं के शोषण की कहानी महज कमला तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसके पूर्व भी चर्चित शीलू कांड बनाम पुरुषोत्तम नरेश द्विवेदी बसपा विधायक, अमरमणि त्रिपाठी-मधुमिता कांड, गुड्डू पंडित, दिग्गज कांग्रेसी नेता एनडी तिवारी, भंवरी और मदेरणा के सम्बन्धों तक परवान चढ़ी है।

कमला के वकील रूद्रप्रताप मिश्रा बताते हैं कि चित्रकूट से एकमात्र स्वयंसेवी संगठन जनवादी महिला समिति ने ही कमला को न्याय दिलाने के लिए विरोध के स्वर बुलंद किये, बाकी तो जैसे समाजसेवियों का दोहरा चेहरा लगाये बैठे हैं। कमला की जनपैरवी न करने के लिए रुद्रप्रताप मिश्रा पर भी कई बार मानसिक दबाव डाला गया था। रुद्रप्रताप मिश्रा के मुताबिक कोल मजरा की कमला को पहले ही फर्जी मेडिकल रिपोर्ट तैयार करने का अन्दाजा हो गया था, लेकिन जब स्वयं तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती आरोपी को बाइज्जत बरी कर रही हों, तो फिर स्थानीय पुलिस और डाक्टरों की हिम्मत कैसे हो सकती है कि वे सही मेडिकल रिपोर्ट बनाते।

रुद्रप्रताप मिश्रा तो यहां तक कहते हैं कि कमला ने लखनऊ टीम से मेडिकल कराये जाने और उस रिपोर्ट को वकील तथा सभी के सामने सार्वजनिक करने की मांग उठायी थी। इसके समर्थन में जनवादी महिला समिति की गीता, हीरामनी तिवारी आदि ने राज्यपाल को शिकायती विज्ञापन भेजकर कमला को दस लाख रुपया मुआवजा दिलाने की मांग भी की थी, जिस पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हो पायी है। यह और बात है कि चर्चित शीलू कांड के बहाने वोटों के जुगाड़ में पैंतरेबाजी कर रहे क्षेत्रीय और राष्ट्रीय नेताओं, विधायकों, मंत्रियों और यहाँ तक कि राहुल गांधी तक को नरैनी क्षेत्र के पिछडे गांव सहबाजपुर के चक्कर लगाने पडे थे।

पूर्व मंत्री दद्दू प्रसाद मंत्री पद सम्भालने से पहले एक समाजसेवी के रूप में चित्रकूट के अखिल भारतीय समाज सेवा संस्थान के संचालक गया प्रसाद गोपाल उर्फ गोपाल भाई के यहां काम करते थे। 1500 रुपये मासिक पगार पाने वाले भाऊ जी के बेटे दददू से कद्दावर मंत्री दद्दू प्रसाद तक का सफरनामा रहा है।

कमला ने मीडिया को दिये अपने एक बयान में यह भी कहा गोपाल भाई ने उसे धमकाते हुए कहा कि जैसे ददुआ को मरवाया गया है, तुम्हें भी मरवा दिया जायेगा। मध्यस्थ के रूप में गोपाल भाई की करीबी संस्था संचालिका सरस्वती इस बात की जिरह करने कमला के पास आठ माह पूर्व खुद गयी थी। मगर गोपाल भाई कमला की तरफ से लगाये गये सभी आरोपों को राजनीतिक साजिश करार देते हैं।

इस सच्चाई को भी झुठलाया नहीं जा सकता है कि पूर्व मंत्री दद्दू प्रसाद के पिता भाऊ जी और अखिल भारतीय समाज सेवा संस्थान के मधुर संबंध रहे हैं, जो आज भी कायम है। यहां तक की बसपा सरकार में रहते हुए दददू प्रसाद ने दोनों हाथों से लुटाकर सरकारी योजनाओं का अनुदान गोपाल भाई की संस्था को दिया था। चित्रकूट, बांदा में ऐसी एक दो नहीं, आधा दर्जन सामाजिक संस्थाएं काम कर रही हैं जहां कमला जैसी उत्पीडि़त महिलायें पनाहगार बनती हैं, लेकिन ईमानदार वही जो पकड़ा न जाये।

16 अक्टूबर 2011 को कमला कुशवाहा सबसे पहले चित्रकूट एसपी के बंगले के सामने बेहोश मिली थी। 19 अक्टूबर 2011 को कमला के शिकायती पत्र के आधार पर कर्वी पुलिस ने अंगद को आरोपी बनाकर दुराचार की रिपोर्ट दर्ज की थी। 20 अक्टूबर 2011 को कर्वी के स्थानीय अस्पताल में कमला का मेडिकल कराया गया और 24 अक्टूबर 2011 को पीडि़त का काफी दबाव के बाद इलाहाबाद के निजी एसआरएन अस्पताल में अल्ट्रासाउण्ड हुआ। जनवरी 2012 में पता चला कि कमला गर्भवती है और 9 जुलाई 2012 को बिन ब्याही कमला के गर्भ से एक बेटे ने जन्म लिया।

दस माह से चल रही कमला के इंसाफ की लड़ाई में आज भी यह सवाल अनसुलझा है कि आखिर कौन है कमला के बच्चे का पिता? खबर नवीसों से चेहरा बचाकर डीएनए टेस्ट के लिए तैयार रहने का दावा करने वाले पूर्व मंत्री दद्दू प्रसाद की जांच करवाये जाने के आदेश अभी तक प्रदेश सरकार ने नहीं दिये हैं। इलाहाबाद के नारी निकेतन में रह रही कमला ने बच्चे को पहचान दिलाने की वो हर मुमकिन कोशिश शुरू की जिससे उसे और उसके बच्चे को इस समाज में पहचान मिल सके।

उत्तर प्रदेश समेत देशभर में मंत्रियों-अधिकारियों द्वारा किये गये यौन शोषण के खुलासों ने आज समाज और महिलाओं के सामने यक्षप्रश्न खड़ा कर दिया है कि परिवार, कालेज या फिर जहां वह काम करती है, वहां कितनी सुरक्षित हैं?

कमला मामले में कानूनी उठापटक के बीच फैसला चाहे कुछ भी हो, मगर इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि कल भी कोई और दददू बनकर या पुरुशोत्तम, अमरमणि का चेहरा लगाकर कमला, शीलू के साथ-साथ मधुमिता को समाज की ठोकरें खाने या मरने के लिए मजबूर करता रहेगा।

(जनज्वार)


मीडिया दरबार खबरों की खबर

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

Shortlink:

7 Responses to एनजीओ और मंत्री ने बनाई बिन ब्याही माँ…

  1. मई ये नहीं कहता की कमला के साथ जो हुआ वो सही था ,पर महिलाओं पर होनेवाले अत्याचार के लिए सिर्फ पुरुष समाज को ही जिम्मेदार क्यों ठहराया जाता है?कमला जैसी घटनाये आज देश के अन्दर भुत साडी घटी है और सभी में सिर्फ पुरुषों को ही जिम्मेदार मन गया है ?क्यों !कभी किसी ऑफिस में कम करने वाले महिला कर्मचारी अपने बॉस पर अपने बच्चे का बाप होने का आरोप लगाती है,कभी महिला तेअचेर अपने प्रिंसिपल के खिलाफ काफी दिनों से हमबिस्तर होते रहने का आरोप लगाती है,?कहने का मतलब ऐसी बहुत सारी घटनाये होती है जिसमे महिलाएं अपनी लालच में बॉस के साथ अन्तरंग रिश्ते बनती है जिसके बहुत कारन हो सकते हैं ,काफी दिनों तक वो इस रिश्ते को निभाती है और जब उन्हें फायदा होना बाद हो जाता है या वो गर्भवती हो जाती है और बॉस उन्हें रखने से इंकार कर देता है तो वही महिला कर्मचारी जो महीनो या वर्षो से अपनी मर्जी से उनके साथ सब कुछ कर रही थी वो अपने बॉस पर यौन शोषण का मुकदमा ,या बलात्कार का मुकदमा दर्ज करती है ,पर क्या इसके लिए सिर्फ पुरुष समाज ही जिम्मेदार होता है ,महिलाएं नहीं ?आज का समाज भी सिर्फ पुरूषों को ही गलत ठहराता है ,कानून भी मर्दों को गलत ठहरती है क्यों ?कोई ये जानने की कोशिस क्यों नहीं करता की ऐसा कोण हालत में हुआ है ,क्यों हुआ?क्या इस २१वि शदी में महिलाये इअतनी कमजोर और अबला है?मई चाहता हु की कमला और कमला जैसी लड़कियों को न्याय मिले ,और जरूर मिले पर लड़कियों की मानसिकता और पुरूषों की बेचारगी को भी नजरंदाज न किया जाये !क्योकिं ऐसे मामलो में पुरुष ही बेचारा होता है जिसकी कोई नहीं सुनता ?

  2. फेशन की दुनिया में giranty कीआशा न करे / धर्म अधर्म की परिभाषा लोग भूल गए हे ? गंगा मेली हो गई हे / कोन पुण्य कर रहा हे / कोन पाप कर रहा हे /इस भगवा को पहनने वाले लोग कोन हे/ ये जानना बड़ा मुस्किल हे /पहेले गुरु (संत) के पास चेले जाते थे /आब तो गुरु मेंडान में ,राजनीती मंच पर कही पर भी मिल जाते हे जमाना बदल गया हे , मुह में राम बगल में छुरी ,अब तो भगवान भी चिंता में हे ! किस पर भरोसा करू !राम और रावन की वेश भूषा एक जेसी हे !

  3. laldhari_yadav

    कमला कोअ न्याय मिअलना चाहिय चाहय कोइय सर कार होअ बसपा मुआखिया बहुँत साफ अपनय कोअ बन्तीय है . खैर कोय भिय होअ नय्य
    होना चाहिय मय जनता से अनुरुँध करता हु किय जनता कोअ न्याय चाहिय
    हमारा देअस प्रजा तंत्र है .अपना हक़ मागन्य का हक़ है . मय सभी भाइयो शेअ कहना चाहता हु किय सआचा अप है तोय देस सच है अप नही तोय देअस नहिय

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर