Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

अबला जीवन हाय तुम्हारी यही कहानी ! आँचल में दूध और आँखों में पानी !!

-अर्चना यादव||

ज़रा सोचिये इंसान की शक्ल में घूमने वाले न जाने कितने भेडियों की शिकार होती है यह नारी, जिसका ज़िक्र तक नहीं होता समाज में, न ही उसके बारे में किसी को जानकारी हो पाती है . बहुत

से लोग तमाम घडियाली आंसू बहते है महिलाओं की स्थिति पर, उनमें महिलाओं की संख्या भी खूब होती है .
महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचार एवं अपराध से निपटने के लिए जटिल कानूनी प्रक्रिया भी एक बाधा है, जिससे उन्हें न्याय देरी से मिलते है और बहुत से मामलों में वो न्याय से वंचित रह जाती  है  . आज भी महिलाओं की स्थिति हमारे समाज में दोयज दर्जे की है .
सीओ हजरतगंज द्वारा बुलाये जाने पर मुझे लगातार हो रही मूसलाधार तेज़ बारिश में विवश होकर जाना पड़ा क्योकि मुझे बताया गया की अनिल त्रिपाठी वहां  थाने में मौजूद है और आपसे कुछ वार्ता करनी है और थाने में सात आठ पुरुषो के सम्मुख मुझसे पूछताछ की गयी . थाने पर थानेदार और उनके सहयोगियों को देखकर शेरों के सम्मुख जो स्थिति शिकार की होती है ऐसी ही अनुभूति हुयी . क्या यह उचित है कि अकेली लड़की पर पुलिसिया रौब दिखा कर थाने पर पूछताछ के नाम पर बुलाया जाना और मानसिक दबाव बनाया जाए. बरसात के इस मौसम में भीगते हुए कानून से न्याय मांगते हुए एक पीड़ित महिला को थाने में बुलाकर कौन सी जांच की  जायेगी . वहा थाने में पुलिसकर्मियों के अलावा  कई दूसरे लोग और  एक वरिष्ठ पत्रकार भी मौजूद थे. मेरा सवाल है सबसे कि इस तरह थाने में सबसे सामने बुलाना और पूछताछ करना क्या उचित था . एक बार फिर शर्मिन्दिगी और इस बेज्जती को  सहकर आँखे भर आई मेरी .
आज की  इस न्याय प्रणाली का अवलोकन करने पर ज्ञात हुआ कि शायद मुझे आवाज़ नहीं उठानी थी और न जाने कितनी महिलाओं ने यही सोच कर अनिल त्रिपाठी और सतीश प्रधान जैसे दरिंदों से अपना शोषण करवाया होगा. यहाँ प्रतीकात्मक कार्यवाही किसी भी अपराध की तुलना में अधिक कठिन है . यहाँ तक कि महिलाओं के प्रति अपराध को पारिभाषित करना भी अत्यधिक दुष्कर कार्य है. जांच, प्रमाण और पुलिस व्यवहार मिलकर सम्पूर्ण न्याय प्रक्रिया को हाशिये में ला खड़ा कर देते हैं.
कल के पुलिस के इस व्यवहार को देखकर लगता है कि शारीरिक अपराध के सम्बन्ध में महिलायें पुलिस थाने में जाकर रिपोर्ट लिखवाने में आज भी जिस भय को महसूस करती है वह पूर्णतया सत्य है . समुचित व् प्रभावी कानून न होने के कारण महिलाए न्याय पाने में  खुद को असहाय पाती है .

संबंधित खबरें:

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

2 comments

#1Prithvi AroraSeptember 5, 2012, 10:45 AM

tum hamko ed kar lo.

#2satyapal singhJuly 29, 2012, 1:53 PM

में हमेशा तुम्हारे साथ हूँ मेरी जब भी आपको जरुरत पड़े मेरे से कान्टेक्ट कर लेना मेरा फोन ० ०९८३७५१२८५४ 09837122242

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

बज्जर पड़े ‘किस ऑफ लव’ पर..

बज्जर पड़े ‘किस ऑफ लव’ पर..(0)

 -अशोक मिश्र|| मेरे काफी पुराने मित्र हैं मुसद्दीलाल. मेरे लंगोटिया यार की तरह. हालांकि वे उम्र में मुझसे लगभग पंद्रह साल से ज्यादा बड़े हैं. मेरी दाढ़ी अभी खिचड़ी होनी शुरू हुई है और उनके गिने-चुने काले बाल विदाई मांग रहे हैं. (बात चलने पर बालों पर हाथ फेरते हुए कहते हैं कि बाल तो

DronEvolution records present Er.Nitish with his brand new track “Teddy Bear”

DronEvolution records present Er.Nitish with his brand new track “Teddy Bear”(0)

-Kulbir Singh Kalsi|| Chandigarh,  The young and talented Er.Nitish is all geared up for the launch of his brand new Punjabi song “Teddy Bear” whose beats are sure to put the audience in dance mode. Nitish was present in Chandigarh to unveil his new soundtrack and gracing the occasion were prominent Punjabi actors Karamjit Anmol

सुख की ओट में छिपा दुख

सुख की ओट में छिपा दुख(0)

-सैयद एस.तौहीद|| लघु फिल्म बनाने वाले उभरते व युवा फिल्मकारों के समक्ष अपने प्रोजेक्ट को लेकर अनेक दुविधाएं होती हैं. वो कल को लेकर असमंजस में रहते हैं. फिल्म का निर्माण, अंतिम प्रारूप किस तरह का होगा, क्या वो फिल्म सामारोहों का मुंह देख सकेगी ? दर्शकों की प्रतिक्रिया क्या होगी ? क्या दर्शक उसे

सिरसा में पत्रकार से मारपीट..

सिरसा में पत्रकार से मारपीट..(0)

सिरसा, शराब के नशे में धुत सफेद रंग की कार पर सवार एक टैंट हाऊस के पूर्व संचालक एवं पर्यटन केंद्र के पूर्व ठेकेदार रमेश अरोड़ा ने अपने साथियों के साथ बीती रात सुरतगढिय़ा चौक पर पंजाब केसरी (जांलधर) के संवाददाता राम माहेश्वरी पर हमला कर दिया. हमलावरों ने न केवल पत्रकार को जान से

तहलका हिंदी के कार्यकारी संपादक संजय दुबे को हटाया..

तहलका हिंदी के कार्यकारी संपादक संजय दुबे को हटाया..(0)

तहलका प्रबंधन ने तहलका हिंदी के कार्यकारी संपादक संजय दुबे को बाहर का रास्ता दिखा दिया है. तहलका हिंदी के हालिया अंक के प्रिंट लाईन से संजय दुबे और विकास बहुगुणा(मुख्य कॉपी संपादक) का नाम हटा दिया गया है. तहलका प्रबंधन का कहना है कि संजय दुबे पिछले काफी समय से संस्थान विरोधी गतिविधियों में

read more

प्रसिद्ध खबरें..

  • Sorry. No data yet.
Ajax spinner

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.