Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

गूगल एक जीबी प्रति सेकेंड की डाउनलोड स्पीड के साथ इन्टरनेट बाज़ार में…

इंटरनेट की दुनिया के शहंशाह गूगल ने शनिवार को दुनिया की सबसे तेज स्पीड की इंटरनेट सर्विस गूगल फाइबर शुरू की है. इसकी स्पीड एक गीगाबाइट प्रति सेकंड है. ऑप्टिकल फाइबर के

उपयोग से मिलने वाली यह स्पीड दुनिया में लगभग सभी जगहों पर उपलब्ध इंटरनेट सर्विस से ज्यादा तेज है. इस स्पीड से 10 सेकंड में एक फिल्म डाउनलोड की जा सकती है. गूगल फाइबर प्रथम चरण में अमेरिका के कन्सास शहर में उपलब्ध होगी तथा धीरे धीरे इसे अन्य शहरों तक पहुंचा दिया जायेगा.
सबसे मज़ेदार बात यह है कि आज हम ब्रॉडबैंड के ज़रिये जिस औसत स्पीड के लिए भुगतान करके भी उसे पूरे तौर पर नहीं पाते उससे अधिक स्पीड गूगल फाइबर अपने ग्राहकों को आजीवन मुफ्त उपलब्ध करवाएगा. गूगल के इन्टरनेट सर्विस प्रदाता बाज़ार में इस धमाकेदार प्रवेश ने इस बाज़ार के बड़े बड़े खिलाडियों के होश उड़ा दिए हैं.
गूगल के मुख्य फाइनैंस ऑफिसर पैट्रिक पिशेते ने बताया, ‘इसे लोगों तक पहुंचाना अगला कदम है और हम इसे फायदे में रहते हुए करने वाले हैं. हमारी यही योजना है. उन्होंने कहा, ‘हम एक चौराहे पर हैं. उन्होंने कहा कि 2000 से अभी तक इंटरनेट की स्पीड ब्रॉडबैंड को आधार मान कर मापी जाती थी. पिशेते ने कहा, ‘गूगल में हमारा मानना है कि इंतजार करने की कोई जरूरत नहीं है.’
वैसे भारत में फाइबर टू होम सेवा भी शुरू हो चुकी है मगर यह सेवा सीमित तौर पर ही उपलब्ध है. मगर जहाँ उपलब्ध है वहां भी स्पीड कुछ खास नहीं. कारण कि भारत में इन्टरनेट बैंडविड्थ की कीमत सरकारी नीतियों के कारण बहुत ही ज्यादा है. सिर्फ हैदराबाद ही भारत का अकेला शहर है जहाँ इन्टरनेट अच्छी स्पीड के साथ कम मूल्य पर उपलब्ध है.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

3 comments

#1Pushpendra SalviDecember 19, 2012, 5:58 PM

like

#2Ram Balak RoyOctober 22, 2012, 4:51 AM

best becoming in market.
Ram Balak Roy.

#3Shashikumar HulkopkarJuly 29, 2012, 8:24 AM

थे स्पीड ऑफ़ इन्टरनेट नीद तो मैच सुइताब्ले फॉर थे सिस्टम्स ओं व्हिच इनर नेट इस कोन्नेक्टेद , ओं लैंड लाइन माक्स स्पीड ऑफ़ ५०० कभ इस गिवें बी बीएसएनएल, सो हविंग सच फास्ट स्पीड ऑफ़ इंटर नेट माय नोट बे सुइताब्ले तो लैंड lines

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

ऑटो रिक्शा की सवारी भी महंगी है मंगलयान से..

ऑटो रिक्शा की सवारी भी महंगी है मंगलयान से..

नई दिल्ली, अंतरिक्ष में तिरंगे की शान बढ़ाने वाले देश के पहले अंतरग्रहीय मिशन मंगलयान पर कुल चार अरब 50 करोड़ रुपए का खर्च आया. जो प्रति किलोमीटर के हिसाब से ऑटो की सवारी से भी कम बैठता है. मंगलयान करीब 67 करोड़ किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद अपने गंतव्य पर पहुंचा. इस

मंगल अभियान की सफलता: इसरो को मिल रही विश्व भर से बधाइयाँ…

मंगल अभियान की सफलता: इसरो को मिल रही विश्व भर से बधाइयाँ…

नई दिल्ली, पहले ही प्रयास में मार्स ऑर्बिटर मिशन अंतरिक्षयान को मंगल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर लेने के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से लेकर नासा तक, सभी ओर से इसरो के वैज्ञानिकों को बधाईयां मिल रही हैं. राष्ट्रपति ने ट्वीट किया कि मंगलयान की सफलता के लिए इसरो के दल को हार्दिक

भारतीय मंगलयान विश्व के किसी भी अंतर-ग्रही मिशन से कहीं सस्ता..

भारतीय मंगलयान विश्व के किसी भी अंतर-ग्रही मिशन से कहीं सस्ता..

भारत का मंगल ग्रह तक पहुंचने का सपना हकीकत में बदल गया है. भारत ने बुधवार को एक नया इतिहास रचते हुए अपने पहले प्रयास में ही मंगल ग्रह की कक्षा में अपना पहला मंगलयान स्थापित कर दिया है. भारत इस कदम के साथ ही मंगल ग्रह पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराने वाला विश्व का

ऐपल ने आईफोन 6, आईफोन 6+ और ऐपल वॉच लॉन्च किए..

ऐपल ने आईफोन 6, आईफोन 6+ और ऐपल वॉच लॉन्च किए..(0)

एपल ने अपने दो नए स्मार्टफोन आईफोन 6 और आईफोन 6 प्लस लॉन्च कर दिए हैं. इसके अलावा कंपनी ने अपना पहला स्मार्टवॉच भी पेश किया है. उम्मीद के मुताबिक, दोनों ही नए आईफोन अब तक के आईफोन्स से आकार में बड़े लेकिन पतले हैं. जहां आईफोन 6 का स्क्रीन साइज़ 4.7 इंच है, वहीं

ईमेल आज 32 साल का हो गया, वीए शिवा अय्यदुरई ने किया था आविष्कार..

ईमेल आज 32 साल का हो गया, वीए शिवा अय्यदुरई ने किया था आविष्कार..(0)

वाशिंगटन, ईमेल आज 32 साल का हो गया, लेकिन बहुत ही कम लोगों को यह पता होगा कि तेजी से संदेश पहुंचाने की इस प्रणाली का अविष्कार भारतीय अमेरिकी  ने उस समय किया जब वह केवल 14 साल के थे. वर्ष 1978 में अय्यदुरई ने कंप्यूटर प्रोग्राम तैयार किया जिसे ‘ईमेल’ कहा गया. इसमें इनबॉक्स,

read more

प्रसिद्ध खबरें..

  • Sorry. No data yet.
Ajax spinner

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: