/भारत-पाक सीमा पर ऑक्सीजन पाईप सज्जित 400 मीटर लंबी सुरंग…

भारत-पाक सीमा पर ऑक्सीजन पाईप सज्जित 400 मीटर लंबी सुरंग…

जम्मू-कश्मीर के सांबा जिले में पाकिस्तान बॉर्डर से लगी हुई एक 400 मीटर लंबी सुरंग का पता चला है. सांबा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इसरार खान ने इस बात की जानकारी दी. जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में पाकिस्तान सीमा के ठीक पास भारतीय अधिकारियों को एक 400 मीटर लंबी सुरंग मिली है. ये सुरंग भारत और पाकिस्तान की सीमाओं के बीच लगाई गई कंटीली तारो के 25 फीट नीचे मिली है और इसमें ऑक्सीजन पहुँचाने के लिए दो इंच की पाईप डाली गई थी.

चिलायारी सैन्य चौकी के नज़दीक इस निर्माणाधीन सुरंग के पता चलने की पुष्टि सांबा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इसरार खान और सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों ने की है. इसरार खान के अनुसार, “चिलायारी बॉर्डर आउट पोस्ट के नज़दीक खेतों में दो – तीन जगहों पर जमीन धंसने की घटना हुई थी, जिसकी सूचना एक किसान ने पुलिस को दी थी.”

उस जगह की जांच करने के लिए जब पुलिस की टीम वहां पहुंची तब उन्होंने जमीन धंसने की वजह जानने के लिए वहां पर खुदाई शुरु कर दी. खुदाई के दौरान वो ये देखकर हैरान रह गए कि वहां असल में एक 400 मीटर लंबी सुरंग बनी हुई है.

ये सुरंग तीन फीट गहरी और तीन फीट चौड़ी है और ये भारत के चिलायारी बीओपी से पाकिस्तान के नुंबिरायल बीओपी के बीच पाई गई है.

तीन फीट चौड़ी और लगभग चार फीट लंबी इस सुरंग में पाइप भी बिछाया गया है. जिससे आशंका जताई जा रही है कि पाइप का इस्तेमाल सुरंग में आक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए किया गया. अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर बार्डर फैंङ्क्षसग से भी करीब 80 मीटर अंदर तक सुरंग खोदी गई है. इसमें उतरने का प्रयास करने वाले पुलिस कर्मियों के अनुसार घने अंधेरे के कारण वह ज्यादा आगे नहीं जा पाए.

पाकिस्तान की चौकी लेंब्रियाल और भारतीय चौकी चिलायारी के बीच सिर्फ 500 मीटर की दूरी है. ये पूरा इलाका जंगलों से घिरा है जिस कारण कई बार सीमा सुरक्षा बल को उस इलाके में हो रही गतिविधियों पर नज़र रखना मुश्किल हो जाता है.

पुलिस अधीक्षक इसरार खान के अनुसार, ऐसा हो सकता है कि इस सुरंग को बनाने का फैसला या तो चरमपंथियों द्वारा घुसपैठ के इरादे से किया जा रहा हो या फिर हथियारों की तस्करी के लिए.

जिस जगह पर खुदाई की गई वह अंतरराष्ट्रीय सीमा पर लगी तारों की बाड़ से कुछ ही दूरी है.  जम्मू-कश्मीर और भारतीय पंजाब में भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कंटीली तारे लगाई गई हैं ताकि तस्करी रोकी जा सके और बिना इजाजत सीमापार कोई आवाजाही न हो.

इसरार खान के मुताबिक सुरंग अभी बनाई जा रही थी और लगता है कि अभी इसका इस्तेमाल नहीं किया जा रहा था, लेकिन इस बारे में और जाँच की जा रही है.

भारत की सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के डीआईजी एन जामवाल ने बताया, ”खुदाई के दौरान 10-15 फीट तक तो हमें कुछ मिला नहीं, लेकिन 20-25 फीट तक जब हम पहुंचे हैं तो हमें एक सुरंग जैसी जगह मिली जो पाकिस्तान की तरफ से भारत की तरफ आ रही है.”

उनका कहना था, “भारत में ये किस जगह जाकर खुलती है इसका पता अभी नहीं चल पाया है. हमने सेना, नागिरकों और पुलिस की मदद से पूरे इलाके को छान मारा है लेकिन अभी तक भारत की तरफ इसका मुंह नहीं मिल पाया है.”

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.