Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

अपराध back to homepage

चीन ने उतारे भारतीय बाजार में प्लास्टिक के चावल.. चीन ने उतारे भारतीय बाजार में प्लास्टिक के चावल..(0)

नई दिल्‍ली। चीनी सामान के लिए भारत एक बड़ा बाजार है। इस बात का फायदा उठाते हुए चीन हमारे देश में अब प्‍लास्‍टि‍क की अन्‍य चीजों के साथ ही चावल भी भेज रहा है।

एक अंग्रेजी वेबसाइट की खबर के अनुसार, कुछ निर्माता आलू, शकरकंद और चीनी पॉलीमर मिलाकर प्‍लास्‍टि‍क के चावल बना रहे हैं और इसे भारत भेज रहे हैं। इन्‍हें देखकर असली चावल से अलग करना मुश्किल है।

हालांकि, पकाते वक्‍त यह चावल कड़क ही रहते हैं लेकिन इनमें से निकलने वाले द्रव की वजह से प्‍लास्टिक की एक खोल बन जाती है। इस चावल को खाने की वजह से गंभीर गेस्‍ट्राइटिस और पेट की अन्‍य बीमारियां हो सकती हैं।

सूत्रों के अनुसार, यह चावल अभी दक्षिण भारत के कई शहरों में दुकानों पर देखे गए हैं। ग्राहकों ने भी बताया कि प्‍लास्टिक के चावलों के पैकेट्स को असली चावल के साथ इस तरह रखा जाता है कि उनकी पहचान नहीं हो पाती। ऐसा माना जा रहा है कि यह चावल चीन या सिंगापुर के बाजारों से यहां आयात किए गए हैं।

कैसे बनता है यह चावल

इसे बनाने के लिए पहले आलू को चावल के आकार में ढाल लिया जाता है। इसके बाद इसमें इंडस्ट्रियल सिंथेटिक रेजिन मिलाकर अंत में इन्‍हें तब तक अच्‍छी तरह मिलाया जाता है जब तक ये पूरी तरह चावल की तरह नजर नहीं आने लगते।

 

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
पंचायती खांप ने बलात्कारी को 5 जूत्ते मार माफ़ किया.. पंचायती खांप ने बलात्कारी को 5 जूत्ते मार माफ़ किया..(0)

हरियाणा के यमुनानगर जिले के कस्बा रंजीतपुर स्थित गांव भगवानपुर में पंचायत ने दलित लड़की से रेप के आरोपी को अनोखा फैसला सुना दिया। पंचायत ने रेप की सजा महज 5 जूते मारने की सुनाई वह भी पंचायत के बीच। हैरत इस बात की है कि यह फैसला गांववालों ने भी स्वीकार कर लिया। हालांकि पीड़ित लड़की और उसका परिवार इंसाफ के लिए पुलिस के पास पहुंचा, लेकिन पुलिस इस मामले को महज एक झगड़ा बताकर पल्ला झाड़ रही है।

अब गांव के सभी लोगों ने चुप्पी साधी रखी है। गांव की गलियों में पुलिस की गाड़ी चक्कर काट रही है। आरोप है कि गांव के एक दलित परिवार की एक लड़की के साथ गांव के ही एक युवक ने 25 मार्च को रेप किया। लड़की ने जब घर पर बात बताई तो पहले परिजन चुप रहे लेकिन बाद में लड़की के गूंगे पिता से बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने पत्नी के साथ जाकर पुलिस में शिकायत की। अब पुलिस पर भी आरोप है कि मामले को गांव में ही निपटाने की बात कही क्योंकि गांव की पंचायत ने यही इशारा किया था।

कुछ दिन पहले गांव में एक पंचायत हुई जिसमें आरोपी युवक काला को भी बुलाया गया और पंचायत ने गांव का मामला बताते हुए आरोपी को रेप की सजा 5 जूते मारने की सुना दी। ग्रामीण मायाराम का कहना है कि इस पर गांव के लोगों ने भी ऐतराज नहीं जताया और वहीं भरी पंचायत में आरोपी को 5 जूते मारकर उसका गुनाह माफ कर दिया। लेकिन इस मामले की भनक जब मीडिया को लगी तो केस रफादफा कराने के लिए पुलिस से लेकर गांव के लोग भी एकजुट हो गए।

आरोप है कि पुलिस भी नहीं चाहती थी कि यह मामला बाहर आए, लेकिन मंगलवार को जब मीडिया के कुछ लोग रंजीतपुर पुलिस चौकी में पहुंचे तो वहां पहले से ही बिलासपुर एसएचओ और डीएसपी यमुनानगर आए हुए थे। जिन्होंने इस पूरे मामले को महज पानी के लिए हुआ झगड़ा बता दिया। हालांकि गांव के लोग दबी जुबान में यह मान रहे हैं कि आरोपी को जूते मारने की सजा पंचायत में सुनाई गई थी और सरपंच और पुलिस भी वहीं मौजूद थे। गांव के लोगों का यह भी मानना है कि ऐसी बातें छुपाई नहीं जातीं। गांव के लोगों के बीच में ही पंचायत हुई थी और वहीं सारा मामला निपट गया था। अब मामला खुलकर सामने आने से गांव के लोग डरे हुए हैं और कोई भी खुलकर बोलने को तैयार नहीं है।

चर्चा है दबंगई के चलते पुलिस भी इस मामले को एक तरफ तो झगड़ा बता रही है, वहीं गांव जाकर लगातार जांच में जुटी हुई है। गांव सरपंच महिपाल, एसएचओ रणधीर सिंह और डीएसपी से लेकर चौकी प्रभारी भी इस मामले की जांच में जुट गए हैं। डीएसपी मदनलाल ने केवल यही कहा है कि मामला मारपीट का था और इनका आपस में समझौता हो गया है। इस बीच, खेल और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा है पंचायत को ऐसा फैसला लेने का अधिकार नहीं है, सरकार इस पर संज्ञान लेगी और इस मामले में पुलिस अपना काम करेगी। उधर, महिला आयोग ने भी इस केस में संज्ञान लिया है।

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
मेफेड्रोन ड्रग तस्करी मे आईपीएस का नाम.. मेफेड्रोन ड्रग तस्करी मे आईपीएस का नाम..(0)

9 मार्च को सतारा में 150 किलो मेफेड्रोन ड्रग के साथ पकड़े गए पुलिस हवलदार धर्मराज कालोखे को मुंबई पुलिस इस उम्मीद से लेकर आई है कि वो उसके आकाओं तक पंहुच सके। लेकिन कालोखे ने खुद ही मामले में मुंबई के एक आईपीएस अफसर का नाम उछालकर मुंबई पुलिस को बैकफुट पर भेज दिया है। आरोपी कालोखे ने अदालत को एक पत्र लिखकर बताया है कि सतारा पुलिस उससे मुंबई के एक आईपीएस के बारे में बार-बार पूछताछ कर रही थी।

कालोखे के वकील नवीन चौमाल ने अदालत के बाहर मीडीया से बात करते हुए बताया कि हो सकता है अपने बड़े अफसरों को बचाने के लिए ही मुंबई पुलिस उसके खिलाफ एक फर्जी मामला बनाकर लाई है। जबकि सतारा में पहले से एक मामला दर्ज है और मुंबई पुलिस की जांच उसी का हिस्सा है।

धर्मराज कालोखे असल में मुंबई में मरीन ड्राईव पुलिस का सिपाही था। वो थाना इंचार्ज से ये कहकर सतारा में अपने गांव गया था कि उसके पिता का देहांत हो गया है। लेकिन उसका असली मकसद 150 किलो एमडी ड्रग को गोवा ले जाकर बेचना था। पर उसके पहले ही सतारा पुलिस को उसकी भनक लग गई और 9 मार्च को उन्होंने कालोखे को ड्रग के साथ गिरफ्तार कर लिया।

पुछताछ में पता चला कि वो जिस मरीन ड्राईव पुलिस थाने में कार्यरत था वहां उसके लॉकर में भी ड्रग छिपाकर रखा गया था। मुंबई पुलिस ने सतारा पुलिस का इंतजार किए बिना ही लॉकर खोल कर तलाशी ली तो उसमें 12 किलो ड्रग बरामद हुआ। इसलिए मुंबई पुलिस ने एक अलग मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।

मुंबई में एमडी की सबसे बड़ी सौदागर जिस शशिकला पाटणकर उर्फ बेबी के साथ आरोपी हवलदार का नाम जोड़ा जा रहा है वो अभी तक ना तो सतारा पुलिस और ना ही मुंबई पुलिस के हत्थे चढ़ पाई है। पता चला है कि उसका पूरा परिवार नशे के धंधे में है। धर्मराज कालोखे के पकड़े जाने की सूचना मिलते ही वो मुंबई छोड़ सूरत भाग गई थी। वहां से वापस मुंबई के बोरीवली में आई। लेकिन उसके बाद कहां गायब हो गई ये किसी को नहीं पता।

बताया जाता है कि बेबी पुलिस और दूसरे सरकारी अफसरों को पहले अपने प्रेमजाल में फंसाती है फिर बड़ी सफाई से उन्हें अपने काले धंधे में शामिल कर लेती है। इसलिए ड्रग तस्करी के इस रैकट में एक कस्टम अधिकारी का नाम भी आ रहा है। हैरानी की बात है कि खुद आरोपी ये सवाल उठा रहा है कि एक अदना सा सिपाही बिना बड़े अधिकरियों की मदद से कैसे इतना बड़ा रैकेट चला सकता है। लेकिन वो खुद आरोपी होकर अपने आकाओं का नाम नहीं बता रहा है। एमडी यानी मेफेड्रोन ड्रग को म्याउं-म्याउं नाम से भी जाना जाता है।

हाल ही में एनडीपीएस कानून के तहत प्रतिंबंधित किए इस ड्रग ने मुंबई में बड़े पैमाने पर युवकों को जकड़ रखा है। मुंबई पुलिस के ही एक हवलदार के पकड़े जाने और फिर कस्टम और आईपीएस अफसर का नाम उछलने से ये मामला और भी पेचीदा हो गया है।

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
CAG: वाड्रा को अनुचित फायदा दिया था भूपिंदर हूडा ने.. CAG: वाड्रा को अनुचित फायदा दिया था भूपिंदर हूडा ने..(0)

कांग्रेस की सरकार के दौरान रॉबर्ट वाड्रा की स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी सहित अन्य बिल्डरों को अनुचित लाभ पहुंचाने के लिए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने पूर्ववर्ती सरकार की खिंचाई की है।
हरियाणा विधानसभा में बुधवार को पेश 2013-14 की रिपोर्ट में सरकारी अंकेक्षक ने टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग को आड़े हाथों लिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि विभाग ने सैद्धान्तिक मंजूरी देते समय और लाइसेंसों के औपचारिक स्थानांतरण के समय यह सुनिश्चित नहीं किया कि कुल लागत पर 15 प्रतिशत से अधिक का लाभ सरकार के खाते में जाए।
रिपोर्ट में कहा गया है कि इससे डेवलपर्स को सिर्फ जमीन बेचने से ही भारी मुनाफा हुआ और वहीं सरकार को एक अच्छी खासी राशि का नुकसान उठाना पड़ा। बीजेपी और कांग्रेस के अन्य प्रतिद्वंद्वी दलों ने पूर्ववर्ती भूपेंद्र सिंह हुड्डा सरकार के समय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा को रीयल्टी कंपनी डीएलएफ के साथ भूमि सौदे में अनुचित लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया था।
हालांकि, रिपोर्ट में वाड्रा का नाम नहीं लिया गया है। इसमें उनकी कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी का नाम जरूर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी ने 2008 में डीएलएफ को गुड़गांव के मानेसर में एक प्रमुख 3.5 एकड़ जमीन 58 करोड़ रपये में बेची थी। इससे पहले वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अशोक खेमका ने इस भूमि सौदे को रद्द करते हुए इसे गैरकानूनी बताया था।
हालांकि, पूर्ववर्ती हुड्डा सरकार ने इस भूमि सौदे में वाड्रा को क्लीन चिट दे दी थी। कैग ने आंतरिक सर्कुलेटिंग व अप्रोच में सड़कों के विकास में अनियमितताओं का उल्लेख करते हुए कहा कि मौजूदा व्यवहार के तहत वाणिज्यिक स्थल या साइट्स पर आंतरिक सड़कों के जरिये पहुंचने की सुविधा होनी चाहिए। स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी प्राइवेट लि. के मामले में ऐसा नहीं किया गया।

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
CBI ने व्हाट्सएप्प पर अश्लील MMS फैलाने वाले को किया गिरफ्तार.. CBI ने व्हाट्सएप्प पर अश्लील MMS फैलाने वाले को किया गिरफ्तार..(0)

सीबीआई ने भुवनेश्वर के एक बिल्डर को गिरफ्तार किया है जिस पर आरोप है कि उसने सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर अश्लील वीडियो ( MMS )डाला था. बिल्डर की पहचान वीएसएस नगर के रहने वाले कालिया साहू के तौर पर हुई है.

सीबीआई सूत्रों ने बताया कि कालिया साहू ने अपनी रिसेप्शनिस्ट के साथ आपत्तिजनक वीडियो बनाया और उसे वॉट्सऐप समेत अनेक प्लेटफॉर्म पर डाल दिया.

महिला ने इंसाफ़ के लिए कई जगह गुहार लगाई लेकिन हर जगह निराशा ही हाथ लगी. थक हार कर महिला ने एक एनजीओ को अपनी व्यथा सुनाई. एनजीओ ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए 13 मार्च को केंद्रीय गृह मंत्रालय और ओडिशा समेत अनेक राज्य सरकारों की खिंचाई की. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऐसे शख्स को पकड़ने में क्यों नाकामी हाथ लगी जिसने वीडियो को वॉट्सऐप समेत सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म पर डाला.

जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस यू यू ललित की सोशल बेंच ने ओडिशा सरकार पर इस मामले में वकील की नियुक्ति ना कर पाने के लिए 50,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
शादी तय नहीं हो पाई तो MMS बना डाला.. शादी तय नहीं हो पाई तो MMS बना डाला..(0)

दिल्ली पूर्व के शकरपुर इलाके में रहने वाली लड़की ने बड़ोदरा, गुजरात की एक नामी कंपनी के इंजिनियर पर रेप का आरोप लगाया है। आरोपी ने लड़की का एमएमएस भी बना लिया और वह लड़की को वॉट्सऐप पर लगातार उसकी अश्लील फोटो भेज रहा है। आरोपी ने पीड़ित को धमकी दी कि यदि उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई तो वह उसकी अश्लील विडियो को इंटरनेट पर अपलोड कर देगा। पीड़ित लड़की राजस्थान से ग्रैजुएशन कर रही है। पुलिस ने लड़की के बयान पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पुलिस के अनुसार पीड़ित लड़की अपने परिवार के साथ शकरपुर इलाके में रहती है। परिवार वाले उसकी शादी करने के लिए वर की तलाश कर रहे थे। इसी दौरान किसी ने उन्हें बड़ोदरा, गुजरात के लड़के के बारे में बताया। वह वहां की एक नामी कंपनी में इंजिनियर है। इसके बाद लड़की के परिवार वालों ने युवक और उसके परिवार वालों से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद लड़की के परिवार वालों ने रिश्ता ठुकरा दिया।

आरोप है कि युवक को लड़की पक्ष द्वारा उसका रिश्ता ठुकराना अच्छा नहीं लगा। आरोप है कि युवक ने दिसंबर 2014 में लड़की को फोन कर मिलने के लिए बुलाया। वहां पर उसने लड़की को नशीला पदार्थ मिला जूस पिला दिया। जूस पीते ही लड़की की हालत बिगड़ गई। वह लड़की को किसी कमरे पर लेकर गया। वहां पर उसने कथित तौर पर लड़की के साथ रेप किया और उसका एमएमएस भी बना लिया।

जानकारी के मुताबिक इसके बाद उसने लड़की के मोबाइल पर उसकी न्यूड फोटो भेजकर धमकी दी कि यदि उसने उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत करने की कोशिश की तो वह उसकी विडियो इंटरनेट पर डाल देगा। इस कारण लड़की चुप रही। आरोपी की ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर उसने यह बात अपने परिवार वालों को बता दी। इसके बाद लड़की और उसके परिवार वालों ने पुलिस में कंप्लेंट की।

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
सुनंदा के मोबाइल का डेटा मिला.. सुनंदा के मोबाइल का डेटा मिला..(0)

सुनंदा पुष्कर के चारों मोबाइल फोन और दोनों लैपटॉप की फरेंसिक रिपोर्ट पुलिस को मिल गई है. उनकी मौत की जांच के लिए बनी एसआईटी इस रिपोर्ट की स्टडी कर रही है.

सुनंदा पुष्कर के मोबाइल फोन और लैपटॉप गांधीनगर स्थित फ़ोरेंसिक साइंस लैब में भेजे गए थे. पुलिस जांच करना चाहती थी कि लैपटॉप और मोबाइल फोन से कोई डिटेल किसी ने डिलीट की है या नहीं. यह रिपोर्ट पुलिस को मिल गई है. एसआईटी अब टि्वटर, फेसबुक और ब्लैकबेरी से संपर्क करेगी. पुलिस चाहती है कि सुनंदा के सोशल मीडिया अकाउंट का डाटा उससे शेयर किया जाए. यह भी बताया जाए कि सुनंदा इन अकाउंट्स के माध्यम से किन-किन लोगों के संपर्क में थीं.

20 जनवरी को दिल्ली पुलिस ने सुनंदा के चार मोबाइल फोन और 2 लैपटॉप गांधीनगर स्थित फ़ोरेंसिक लैब को डाटा रिट्रीव करने के लिए दिए थे. जानकारी मिली है कि लैब ने डाटा रिट्रीव कर लिया है और मोबाइल फोन और लैपटॉप डिटेल समेत पुलिस को वापस भेज दिए हैं.
पुलिस कमिश्नर ने बताया कि रिपोर्ट की स्टडी हो रही है. इसमें समय लगेगा. इस मामले में किसी से पूछताछ की जरुरत पड़ेगी तो उसे बुलाया जाएगा. पुलिस को अभी तक टि्वटर, फेसबुक और ब्लैकबेरी से कोई जानकारी नहीं मिली है. इनसे सूचना एक बार फिर मांगी जा रही है.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
शिल्पा शेट्टी पर धोखाधड़ी का मामला.. शिल्पा शेट्टी पर धोखाधड़ी का मामला..(0)

कोलकाता स्थित एक कंपनी ने हिंदी फिल्म जगत की अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस अधिकारी ने आज बताया कि शिल्पा शेट्टी पर आरोप लगाया गया है कि उनके द्वारा संचालित एक कंपनी में नौ करोड़ रुपये निवेश करने के लिए लालच दिया गया।

एम के मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के अतिरिक्त निदेशक देबाशीष गुहा द्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद पुलिस ने एजेन्शियल स्पोर्ट्स एंड मीडिया प्राइवेट लि. की शिल्पा और रिपू सुदन कुंद्रा के खिलाफ जांच शुरू कर दी है।

पुलिस उपायुक्त मुरली धर ने कहा है कि हमने विश्वासघात, धोखाधड़ी, जबरन वसूली, आपराधिक धमकी और आपराधिक साजिश के आरोपों में शिल्पा और उनकी कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

दर्ज शिकायत के मुताबिक है कि शिल्पा और अन्य लोगों ने शिकायतकर्ता कंपनी को दो साल में दस गुना राशि वापस करने का झूठा वादा कर नौ करोड़ रुपये निवेश करवाया। धर ने कहा कि शिकायतकर्ता कंपनी ने यह भी दावा किया कि नौ करोड़ रुपये निवेश करने के बदले उन्हें 30 लाख शेयर आवंटित किए गए, जो फर्जी निकले।

कोलकाता स्थित कंपनी ने इससे पहले नौ करोड़ रुपये की राशि वापस लौटाने के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट के समक्ष दीवानी मुकदमा दायर किया था।

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
मध्य प्रदेश के वित्त मंत्री और पत्नी ट्रेन में लुट गए.. मध्य प्रदेश के वित्त मंत्री और पत्नी ट्रेन में लुट गए..(0)

मध्य प्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मालिया और उनकी पत्नी सुधा मालिया के साथ गुरुवार को जबलपुर-निजामुद्दीन एक्सप्रेस के फर्स्ट एसी कोच में लूट हुई. यह वारदात उस समय हुई जब ट्रेन मथुरा के करीब थी. इसके बाद रेलवे ने घटना की जांच के आदेश दे दिए.

जयंत मालिया से और उनकी पत्नी से सोने की चेन, अंगूठी और कुछ नकद राशि लूटी गई. मालिया और उनकी पत्नी दमोह से ट्रेन में सवार हुए थे. चलती ट्रेन में हुई इस वारदात के बाद रेलवे में सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सवाल उठने लगे हैं.

सुधा मालिया ने इस बारे में संसद भवन के बाहर बताया, ‘हम जबलपुर-निजामुद्दीन ट्रेन से दिल्ली आ रहे थे. हमने दमोह से ट्रेन पकड़ी थी. सुबह करीब चार बजे हमारे कूपे पर दस्तक हुई. जब मैंने दरवाजा खोला तो एक व्यक्ति मुझे जबरन धकेलता हुआ अंदर आ गया. उसके पीछे-पीछे चार अन्य लोग भी अंदर आ गए. ‘

सुधा जो स्वयं बीजेपी कार्यकर्ता हैं ने बताया, ‘इसके बाद उन्होंने मेरा पर्स, चेन और अंगूठी छीन ली. इसके साथ ही उन्होंने मेरे पति के वॉलिट से नकदी भी निकाल ली. मेरे बाएं हाथ में एक और अंगूठी भी थी, जो बाहर नहीं आ रही थी. इस पर उन्होंने मेरी अंगुली काटने की धमकी दी. हालांकि एक लुटेरे ने वह अंगूठी बाहर खींचने की कोशिश की लेकिन वह इसमें कामयाब नहीं हो पाया.’

उन्होंने बताया कि लुटेरों ने साथ वाले कूपे में सवार यात्रियों से भी लूटपाट की. रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना के मुताबिक ट्रेन की सुरक्षा में तैनात तीन आरपीएफ कर्मचारियों को भी इस मामले में निलंबित कर दिया गया है.

आरपीएफल की प्रतिक्रिया के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि आरपीएफ की मदद से अन्य मुसाफिरों को बचाया जा सका. चेन खींचकर गाड़ी को रोका गया और जब आरपीएफ के जवान आए, तब लुटेरे भाग गए. सुधा ने आगे बताया कि वे रेल मंत्री सुरेश प्रभु से मिलकर उस मामले की जानकारी देंगे. इस मामले को बीजेपी सांसद प्रह्लाद पटेल ने संसद में भी उठाया.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
चिटफण्ड कम्पनियों के लिए फरटाइल लैण्ड साबित हो रहा है अम्बेडकरनगर.. चिटफण्ड कम्पनियों के लिए फरटाइल लैण्ड साबित हो रहा है अम्बेडकरनगर..(0)

वन-टू का फोर करके रातों-रात लखपति बनाने का प्रलोभन देने वाली कम्पनियों की संख्या सैंकड़ों में.. दो वर्ष में ग्राहकों के करोड़ों रूपए लेकर दर्जनों कम्पनियाँ हो चुकी हैं फरार..

 

-रीता विश्वकर्मा||
पश्चिम बंगाल देश का ऐसा राज्य है जहाँ मनी लाण्ड्रिंग, मनी मार्केटिंग और मनी सर्कुलेशन जैसे फर्टाइल उद्योग में उसी प्रान्त के मास्टर माइण्ड  अपने तिकड़मी मस्तिष्क से वन-टू का फोर करने जैसी योजनाएँ बनाकर अनेकानेक कम्पनियों के निदेशक/संस्थापक बने, वहीं से इसका संचालन करते हैं।

कोलकाता में इस तरह की कम्पनियों का कथित मुख्यालय स्थापित करके ये लोग पश्चिम बंगाल छोड़कर अन्य राज्यों, जहाँ के लोग गरीब, अज्ञानी, अशिक्षित  तथा लोभी हैं, में अपनी कम्पनियों के भव्यतम कार्यालयों की स्थापना करके स्थानीय बेरोजगारों को कम्पनी के प्रबन्धक/सीनियर एसोसिएट्स/जोनल मैनेजर जैसे तथाकथित ओहदों से नवाज कर करोड़ों का धन्धा करके मालामाल हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में इस तरह की कम्पनियों का संजाल फैला हुआ है। हालाँकि इस तरह की कम्पनियों का प्रादुर्भाव चार दशक पूर्व से ही हो चुका है, लेकिन  वर्तमान में इनका संजाल कुछ ज्यादा ही विस्तृत हुआ है। इन कम्पनियों के निदेशक/संचालकों के दर्शन कर पाना मुश्किल है। ये लोग मोबाइल एवं अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसों के माध्यम से ही सम्पर्क साध कर अपनी तिजारियाँ भर रहे हैं। प्रदेश के विभिन्न जिलों जैसे फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, देवरिया, बस्ती आदि में इन कम्पनियों ने अपना आकर्षक कार्यालय खोल रखा है।

उत्तर प्रदेश सूबे के जिले अम्बेडकरनगर में मनी मार्केटिंग/मनी सर्कुलेशन बोल-चाल की भाषा में वन-टू का फोर करके लोगों को रातों-रात लखपति बनाने वाली निजी कम्पनियों की बाढ़ सी आ गई है। तरह-तरह के लुभावने वायदे करके इन कम्पनियों के संचालक एवं पदाधिकारी भोली-भाली जनता की गाढ़ी कमाई अपनी तिजोरियों में भरकर रफूचक्कर हो जाते हैं। जिले में प्रतिमाह करोड़ों का व्यवसाय कर रही इस तरह की निजी कम्पनियों के लिए यहाँ की जनता फरटाइल लैण्ड साबित हो रही है।
जिले से विगत दो-तीन वर्षों में रातों-रात फरार होने वाली कम्पनियों की गिनती दर्जनों में पहुँच चुकी है बावजूद इसके निवेशकर्ता और प्रशासन इससे कोई सबक नहीं ले रहा है। गत वर्ष से अब तक जिले में कुछ कम्पनियों के विरूद्ध उसके एजेन्ट तथा ग्राहक/निवेशकर्ता/उपभोक्ता पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों से शिकायत भी कर चुके हैं। वर्तमान समय में जिले में छोटी-बड़ी मिलाकर तकरीबन सौ कम्पनियाँ व्यवसाय कर रही हैं। उपभोक्ताओं का धन दो गुना-चौगुना करने का लालच देकर ये निजी कम्पनियाँ करोड़ों का वारा-न्यारा
कर रही हैं। गैर प्रान्तों तथा जिलों से यहाँ तैनात कम्पनियों के अधिकारी/अभिकर्ता बनाए जाने के लिए जिले के बेरोजगार युवाओं को अपना
निशाना बनाते हैं। इन्हें अच्छे कमीशन व वेतन का लालच देकर उपभोक्ता बनाने तथा उनसे बड़ी से बड़ी रकम निवेश कराने के लिए दबाव बनाते हैं।
उपभोक्ता इनकी चिकनी-चुपड़ी बातों में आकर अपने धन का निवेश करके जल्द से जल्द लखपति बनने का सपना देखने लगते हैं। जब इनके निवेश किए धन की परिपक्वता तिथि आती है, तो ऐसी दशा में ये कम्पनियाँ भुगतान करने में अपने हाथ खड़ा कर देती हैं।
उल्लेखनीय है कि विगत वर्षों से जिले में अपना व्यवसाय जमाने वाली रामेल, प्रोग्रेस, डॉल्फिन, वेल्किन, आर्किड आदि कम्पनियाँ यहाँ की भोली-भाली जनता से अब तक अरबों रूपया ऐंठ कर फरार हो चुकी हैं। अब इन कम्पनियों के भव्य आफिसों में प्रशासनिक ताले लगने शुरू हो गए हैं। इसी क्रम में गत दिवस प्रोग्रेस कल्टीवेशन लिमिटेड कम्पनी के जिले में संचालित सभी कार्यालयों को पुलिस ने जिलाधिकारी के आदेश पर सील कर दिया। जमा धनराशि का भुगतान न करने के चलते अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र स्थित गाँधीनगर, निकट बस स्टेशन  पर संचालित प्रोग्रेस ग्रुप कम्पनी पर एजेन्टों की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। डी.एम. के निर्देश पर पुलिस ने कम्पनी के अकबरपुर, जलालपुर एवं टाण्डा स्थित कार्यालयों को सील कर कंप्यूटर, रजिस्टर, कैशबुक एवं सदस्यता पत्रावली आदि कब्जे में ले लिया।

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
प. बंगाल में अब 75 वर्षीया वृद्धा की दुष्कर्म के बाद हत्या.. प. बंगाल में अब 75 वर्षीया वृद्धा की दुष्कर्म के बाद हत्या..(0)

कोलकाता, राणाघाट दुष्कर्म कांड का मामला अभी शांत नहीं हुआ कि बुधवार को बर्धमान से करीब 60 किलोमीटर दूर काटवा के एक आश्रम से 75 वर्षीया वृद्धा का शव मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। कयास लगाए जा रहे हैं कि उक्त वृद्धा की दुष्कर्म के बाद हत्या की गई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार आश्रम द्वारा 16 मार्च को वार्षिक गोपीनाथ मेले का आयोजन किया गया। मेले के दौरान मंगलवार संध्या धार्मिक गीत के कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। इसी दौरान किसी कार्यवश बाहर आई वृद्धा के साथ किसी ने दुष्कर्म किया और फिर उसे मारकर फेंक दिया।
दरअसल शव के पास से बरामद पुरुष पतलून व चप्पल स्थानीय लोगों के दावे को पुख्ता कर रही हैं। उधर मृतका के परिजनों ने बताया कि वृद्धा बीते मंगलवार से लापता थी। बद्र्धमान जिले के पुलिस अधीक्षक कुणाल घोष ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि वृद्धा का शव अग्रदीप के आश्रम के नजदीक से बरामद किया गया है। घोष ने बताया कि उक्त वृद्धा चरणदास आश्रम से जुड़ी हुई थी। घटना के संबंध में चार लोगों को हिरासत में लिया गया है।

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
डॉक्‍टर ने किया युवती से रेप.. डॉक्‍टर ने किया युवती से रेप..(0)

सिक्किम की एक युवती (25) के साथ एक चिकित्सक ने दक्षिणी दिल्ली के हौज खास इलाके में बीती रात को कथित तौर पर दुष्कर्म किया. पुलिस ने बताया कि आरंभिक जांच के मुताबिक, चार पांच दिन पहले पीड़िता को कुछ लोग नौकरी दिलाने के नाम पर दिल्ली लेकर आए थे. घटना आज सुबह तब प्रकाश में आई जब मुनीरका इलाके में रह रही पीड़िता ने पुलिस को फोन किया और अपनी आपबीती सुनाई. एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘युवती ने पुलिस को बताया कि बीती रात को उसकी जान पहचान के कुछ लोग उसे हौज खास इलाके में एक चिकित्सक के घर पर ले गए और वहां से चले गए. बाद में चिकित्सक ने कथित तौर पर उसके साथ बलात्कार किया.’’

पुलिस ने बताया कि घटना के संबंध में जांच को लेकर सरकारी अस्पताल में कार्यरत चिकित्सक से पूछताछ की जा रही है. उन्होंने कहा, ‘‘हमने आरोपी चिकित्सक को गिरफ्तार कर लिया है और अब उससे पूछताछ की जा रही है. हम यह भी पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि किसने उस युवती को चिकित्सक के घर पर छोड़ा.’’ पीड़िता द्वारा दर्ज शिकायत के आधार पर हौज खास पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है. पुलिस ने बताया कि मामला मानव तस्करी और वेश्यावृत्ति का भी है और युवती को राष्ट्रीय राजधानी में लाने वाले लोगों की भी तलाश की जा रही है. उन्होंने बताया, ‘‘मामले में कुछ सुराग पाने के लिए हमने युवती के परिवार के सदस्यों से भी संपर्क किया है.’’

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल ने किया रेप.. दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल ने किया रेप..(0)

दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल पर एक महिला ने उसके साथ बाहरी दिल्ली के अलीपुर इलाके में बलात्कार करने का आरोप लगाया है. हेड कांस्टेबल महिला का रिश्तेदार बताया जा रहा है.

पुलिस ने बताया कि आरोपी देवी सिंह रोहिणी थाने में तैनात है और बुधवार शाम को महिला द्वारा शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद से फरार है.

पुलिस के अनुसार महिला का आरोप है कि सिंह ने उसके साथ कई बार जबरदस्ती संबंध बनाए और उसे धमकी दी कि यदि उसने इसके बारे में किसी को बताया तो उसे अंजाम भुगतने होंगे.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि शिकायतकर्ता और आरोपी आसपास के इलाकों में रहते थे और दोनों का एक दूसरे के घर आना जाना था.
महिला का आरोप है कि सिंह बुधवार को फिर उसके घर आया और उसके साथ बलात्कार करने का प्रयास किया और उसके बाद उसने इस बारे में अपने परिवार वालों को जानकारी देने का निर्णय लिया.

बाद में उसके परिवारवालों ने शिकायत दर्ज कराई जिसके आधार पर अलीपुर थाने में हेड कांस्टेबल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: