Loading

जयपुर के पत्रकारों ने मारपीट के मामले में…

आरोपियों से अखबारों में विज्ञापन के जरिये मंगवाई माफ़ी.. जयपुर। जयपुर के पत्रकारों ने अपने साथियों के साथ मारपीट के एक मामले में आरोपी डॉक्टर से अख़बारों में विज्ञापन के जरिये माफ़ी मंगवाई है। देश…

रोज़ाना बाहुबली की अद्वितीय लोकप्रियता..

-अजय ब्रह्मात्‍मज॥ इस सदी में ऐसी कोई भारतीय फिल्‍म नहीं दिखती, जिसने पूरे देश के दर्शकों को समान रूप से आकर्षित किया हो। एसएस राजामौली की ‘बाहुबली’ के आरंभ और अंत के कलेक्‍शन ने ट्रेड…

योगी आदित्यनाथ बनाम विपक्ष..

-विवेक सामाजिक यायावर|| अभी शपथ ग्रहण भी नहीं हुआ और आप हुआ-हुआ करने लगे। यदि हुआ-हुआ ही करना था तो भाजपा को इतने भारी बहुमत से जिताया क्यों। यदि आपको यह लगता है कि भारी…

रवीश कुमार के दिखाये गये फैक्ट्स को कोई…

वामपंथ की कोई बच्चेदानी नही होती है.. -प्रशांत टण्डन॥ रवीश कुमार में मामले में कतई विचलित नही हूँ. विचलित तब हो सकता हूँ जब रवीश वो सब छोड़ देंगे जो वो कर रहे हैं. ये…

भाजपा की वैसे ही रवीश से बौखलाहट भरी…

  आलोचक उनके लिए दुश्मन होता है; 'दुश्मनी' निकालने का उनके पास एक ही ज़रिया है कि आलोचक को बदनाम करो, उसका चरित्र हनन करो। भले वे विफल रहें, पर जब-तब अपनी गंदी आदत को…

सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी…

हिन्दू कालेज में 'जनता पागल हो गई है' तथा 'खोल दो' का मंचन.. -चंचल सचान॥ दिल्ली। हिन्दू कालेज की हिन्दी नाट्य संस्था 'अभिरंग' द्वारा कालेज पार्लियामेंट के वार्षिक समारोह 'मुशायरा' के अन्तर्गत दो नाटकों का…

Loading

अभागे ओम पुरी का असली दर्द..

-निरंजन परिहार|| ओम पुरी की मौत पर उस दिन नंदिता पुरी अगर बिलख बिलख कर रुदाली के अवतार में रुदन – क्रंदन करती नहीं दिखती, तो ओम पुरी की जिंदगी पर एक बार फिर नए…

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?

-रवीश कुमार॥ सवाल करने की संस्कृति से किसे नफरत हो सकती है? क्या जवाब देने वालों के पास कोई जवाब नहीं है ? जिसके पास जवाब नहीं होता, वही सवाल से चिढ़ता है। वहीं हिंसा…

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं…

-ओम थानवी॥ एक रोज़ पहले ही रामनाथ गोयनका एवार्ड देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि हम इमरजेंसी की मीमांसा करते रहें, ताकि देश में कोई ऐसा नेता सामने न आए जो इमरजेंसी जैसा…

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि…

आप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली…

मजीठिया: हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, पंजाब केसरी के साथियों…

हक के लिए आवाज न उठाने के लिए पत्रकारिता के इतिहास में हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, पंजाब केसरी जैसे अखबारों में कार्यरत साथियों का नाम काले अक्षरों में लिखा जाएगा। यह बहुत ही शर्म की बात…

क्या बिना लाइसेंस चल रहा न्यूज़ चैनल ??

राजस्थान में धूमधाम से खड़ा हुआ एक न्यूज़ चैनल इन दिनों फ़र्ज़ी तरीके से चल रहा है. खबर है कि इस चैनल को सुचना व प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार से जारी हुए लाइसेंस की अवधि…