Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

फ्लिपकार्ट पर खुले आम मची है ग्राहकों से लूट…

फ्लिपकार्ट जैसी प्रसिद्ध वेबसाईट का पतन शुरू हो चुका है तथा सभी नैतिकताओं को तिलांजली देकर फ्लिपकार्ट येन केन प्रकारेण ग्राहकों की जेब से पैसा निकालने में जुट गई है. हालात इतने बदतर हैं कि जो उत्पाद फ्लिपकार्ट के गोदाम में ही नहीं है और उसका सप्लायर आठ से दस दिन तक उत्पाद सप्लाई नहीं कर सकता, उस उत्पाद को भी अपने पोर्टल पर उपलब्ध बता कर ग्राहकों से पैसे वसूल करने में लगी है. इसी का परिणाम है कि पिछले दो दिनों में ही फ्लिपकार्ट का ट्रैफिक आधा रह गया है.

Screensho-fb-flipkart

गौरतलब है कि किताबें बेचने से शुरू हुई फ्लिपकार्ट ने भारत के इ-कॉमर्स बाज़ार के बड़े हिस्से पर अपना कब्ज़ा जमा लिया था मगर फ्लिपकार्ट के मालिकों द्वारा ज्यादा कमाई के लालच ने फ्लिपकार्ट को चड्डी बनियान से लेकर कम्प्यूटर, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण इत्यादि बेचने की दुकान बना दिया. यहीं से शुरू होती है फ्लिपकार्ट के पतन की कहानी.

flipkart-asus-fx4100-processor

पोर्टल पर उपलब्ध मगर फ्लिपकार्ट के स्टॉक में नहीं

जब मीडिया दरबार के पास फ्लिपकार्ट पर हो रही मनमानियों और बाज़ार भाव से अधिक कीमत पर सामान बेचे जाने की शिकायतें आयीं तो हमें यकायक विश्वास ही नहीं हुआ मगर जब हमने इसकी वास्तविकता जानने के लिए खुद फ्लिपकार्ट से करीब चौदह हज़ार रुपये की खरीददारी की तो हमारी आंखे फटी रह गई. फ्लिपकार्ट से जो सामान खरीदा गया, वह उनके स्टॉक में ही नहीं था और हमें फोन करने पर बताया गया कि आपके द्वारा खरीदे गये सामान का इंतजाम फ्लिपकार्ट सप्लायर से आठ से दस दिन में कर के भेज देगा. जबकि फ्लिपकार्ट के पोर्टल पर यह सामान उपलब्ध बताया गया है और इनमें से कुछ उत्पाद तो वेबसाईट पर फीचर्ड श्रेणी में रखे गए हैं.

यही नहीं जब हमने फ्लिपकार्ट के ग्राहक सेवा केंद्र पर फोन पर इस विषय में बात की तो वहां भी बड़े गैरजिम्मेदाराना ढंग से जवाब मिला और पैसा वापिस करने के लिए भी सात-आठ दिन की बात कही. जब हमने ग्राहक सेवा प्रतिनिधि से तुरंत पैसा वापिस करने को कहा तो बारम्बार ग्राहक सेवा प्रतिनिधि बदलने लगे. यानि हर बार अपनी व्यथा नए सिरे से सुनाओ फिर भी ढ़ाक के तीन पात.

asus-motherboard-flipkart

पोर्टल पर उपलब्ध मगर फ्लिपकार्ट के स्टॉक में नहीं..

गौरतलब है कि फ्लिपकार्ट ने पिछले दिनों माइक्रोमैक्स द्वारा लांच किये गए कैनवास A116 HD मॉडल को भी अधिकतम मूल्य से पंद्रह सौ रुपये ज्यादा पर बेच कर देश के कानून की धज्जियां उड़ाने में भी कोई कसर बाकी नहीं रखी.

खबर यह भी है कि फ्लिपकार्ट की माली हालत दिनों-दिन पतली होती जा रही है, जिसके चलते पिछले दिनों फ्लिपकार्ट ने अपने अढाई सौ से ज्यादा कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है. सुनने में यह भी आया है कि इनमें से अधिकांश कर्मचारियों ने कम्पनी के लिए अपनी नैतिकता को तिलांजलि देने से इनकार कर दिया था.

गौरतलब है कि भारत में ऑनलाइन खरीदारी का शैशवकाल चल रहा है और इस शैशवकाल में ही फ्लिपकार्ट जैसी कम्पनियां अपने ग्राहकों से अधिक मूल्य वसूली और धोखाधड़ी कर ग्राहकों का विश्वास डगमगा रहीं हैं. यदि समय रहते इन धंधेबाजों की कुटिलताओं से ग्राहकों को बचाया नहीं गया तो ऑनलाइन बाज़ार पनपने से पहले ही काल कलवित हो सकता है.

फ्लिपकार्ट ने अपने ग्राहकों की समस्यायों के निदान के लिए फेसबुक पर एक पेज बना रखा है और पेशेवरों की एक टीम इस पेज का संचालन करती है.

यह पेज अठारह लाख लोगों ने लाइक कर रखा है. 

फ्लिपकार्ट से ठोकर खाए ऑनलाइन ग्राहक इस पेज पर अपने साथ बीत रही से निजात पाने की गुहार करते रहतें हैं मगर उन्हें मिलता है सिर्फ रटा रटाया जवाब…

अधिकतम मूल्य से भी कहीं ज्यादा मूल्य वसूल कर रही है flipkart….   

संबंधित खबरें:

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1sharad goelMay 16, 2013, 7:31 PM

भारत देश में इमानदार वाही व्यक्ति हे ,जिसे बेईमानी करने का मौका नहीं मिला , मौका मिलते ही चोरी शुरू ………..
में भी एक बार छोटी सी चीज के लिए ऑनलाइन सोप्पिंग में फंस चूका हूँ,,,,,,,,,,,
केवल कम्पनी से सीधे खरीदारी करने में ही समझदारी हे ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
ई शौपिंग ,,मतलब खराब माल ,,,और लूट ………………….

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

दलित RTI कार्यकर्ता पर हुआ जानलेवा हमला..

दलित RTI कार्यकर्ता पर हुआ जानलेवा हमला..(0)

Share this on WhatsApp दलित कार्यकर्ता के बाल काटे और जबरन पिशाब पिलाया.. भूमाफियों के साथ लड़ रहा था लड़ाई.. रामगढ कस्बे का मामला..   -सिकन्दर शेख़॥ जैसलमेर, पूरे देश में एक और जहां पत्रकारों पर हमले बढ़ गए हैं वहीँ RTI कार्यकर्ताओं पर भी जानलेवा हमलों की ख़बरें सुनने को मिल रही है. उसी कड़ी

समझ में नहीं आ रहा है कि यह मौत है या नौटंकी..

समझ में नहीं आ रहा है कि यह मौत है या नौटंकी..(0)

Share this on WhatsApp -कुमार सौवीर॥ कोई बता रहा है कि जेल में उम्रकैद काट रहे ऐयाश नेता अमरमणि त्रिपाठी की बहू सारा का कत्‍ल किया गया है, जबकि सारा का मामा सत्‍येंद्र सिंह रघुवंशी, जो प्रदेश का गृह सचिव भी है, ऐलान कर रहा है कि यह एक महज सड़क-दुर्घटना का मामला है। हैरत

“चलिए, छेड़ दें “ना” कहने के अधिकार का आन्‍दोलन..

“चलिए, छेड़ दें “ना” कहने के अधिकार का आन्‍दोलन..(0)

Share this on WhatsApp   -कुमार सौवीर॥ लखनऊ: मोहनलालगंज में एक साल पहले एक युवती की पाशविक हत्‍या के बाद अब यूपी में बर्बरता पूर्वक मारी गयीं महिलाओं नंगी लाशों का सिलसिला बिखेर दिया है। पुलिस के आला अफसरों ने इस मामले को दबाने की साजिश की और इसके लिए नंगे झूठ की एक आलीशान

आर्डर किया था चिकन, KFC ने पकड़ा दिया चूहा फ़्राय..

आर्डर किया था चिकन, KFC ने पकड़ा दिया चूहा फ़्राय..(0)

Share this on WhatsApp लॉस एंजिलिस के पास वॉट्स में रहने वाले डेवारिस डिक्सन ने दुनियाभर में मशहूर फूड चेन केएफसी से आर्डर तो किया था चिकन टेंडर्स का, लेकिन उन्हें मिला तला हुआ चूहा. वायरल हुई तस्वीर डिक्सन ने इस चूहे की दो तस्वीरें फेसबुक पर पोस्ट की, जो वायरल हो गई. इसे एक

मंत्री राममूर्ती वर्मा से भिड़ने की सजा पायी पत्रकार जगेंद्र सिंह ने..

मंत्री राममूर्ती वर्मा से भिड़ने की सजा पायी पत्रकार जगेंद्र सिंह ने..(0)

Share this on WhatsApp निर्भीक पत्रकारिता के चलते जगेंद्र सिंह की चल रही मंत्री से तनातनी.. निष्पक्ष जाँच होने पर पूरा मामला हो जायेगा साफ़.. शाहजहाँपुर। सोशल मीडिया में बेबाक खबरों के लिए पहचाने जाने वाले ईमानदार पत्रकार जगेंद्र सिंह को सूबे के मंत्री राममूर्ती सिंह वर्मा के खिलाफ सच खबरे छापना महगा पड़ गया।

read more

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: