Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

मनीष छोटे भाई, अन्ना बड़े भाई…। सब भाई-भाई, अब नहीं होगी कोई लड़ाई..।।

खबर है कि मनीष तिवारी के वकील ने अन्ना के वकील को जो लिखित माफी-नामा भेजा था उसे मंजूर कर लिया गया है। अन्ना बाबूराव हजारे ने मनीष तिवारी को उनके कहे अपशब्दों के लिए माफ कर दिया है। अब रालेगण सिद्धि से वकील का जवाब आने वाला है। दरअसल मनीष तिवारी ने यह माफीनामा अन्ना हज़ारे के वकील के उस नोटिस के जवाब में भेजा था जिसमें कथित मानहानि के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी दी गई थी।

गौरतलब है कि मनीष तिवारी ने अन्ना हजारे के अनशन के दौरान उन्हें भ्रष्टाचारी कहा था, उन पर सेना के कोर्ट मार्शल होने का आरोप लगाया था। मर्यादा की सारी सीमा का उल्लघन करने वाले मनीष तिवारी ने बकयादा प्रेस वार्ता करके अन्ना हजारे जैसे वरिष्ठ व्यक्ति को तुम कहकर संबोधित किया था।

हालांकि आलोचनाओं के घेरे और जगहंसाई होने के बाद मनीष तिवारी ने सामूहिक रूप से माफी मांगी थी। लेकिन 8 सिंतबर को अन्ना हजारे के वकील मिलिंद पवार ने मनीष तिवारी को मानहानी का नोटिस भेजकर इस प्रकरण को फिर से ताजा कर दिया था। जिसके जवाब में मनीष तिवारी ने लिखित रूप से अन्ना हजारे को अपना माफीनामा भेजा जिस पर अन्ना ने कहा कि पश्चाताप से बड़ा कोई प्रायश्चित नहीं होता है इसलिए मनीष तिवारी को मैं माफ करता हूं।

आपको बता दें कि अन्‍ना हजारे को भेजे गये लिखित माफीनामें में मनीष तिवारी ने लिखा है कि वह इस मामले में पहले भी 25 अगस्‍त को माफी मांग चुके हैं। मनीष तिवारी के इस संदेश की एक प्रति अन्ना के वकील पवार ने बुधवार को जारी किया है।

माफी-नामे में मनीष ने लिखा है कि उनकी बातों से अन्ना हजारे को दुख पहुंचा जिसका उन्हें बहुत अफसोस है। अन्ना उनसे उम्र में काफी बड़े हैं, इसलिए मुझे छोटा भाई समझ कर मेरी गलतियों और मेरी अभद्रता को क्षमा कर दें। और वो उम्मीद करते हैं कि मेरे लिखित माफी-नामे पढ़कर वो मामले को और आगे नहीं बढ़ाएगें।

संबंधित खबरें:

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

2 comments

#1vijaySeptember 23, 2011, 10:41 AM

मुझे समज में नहीं आता की आप मीडिया दरबार वाले इस तरह के शीर्षक का इस्तेमाल क्यों कर रहे हो ” मनीष छोटे भाई, अन्ना बड़े भाई…सब भाई-भाई, अब नहीं होगी कोई लड़ाई ” क्या इसका मतलब ये समझा जाये की अन्ना और तिवारी को आप एक ही गाठ में बांध रहे हो ? अन्ना बहोत ऊँची असामी है, तिवारी के साथ उनकी तुलना नहीं हो सकती है, और आप तो सीधे भाई ही बना रहे हो !!

#2आशा खत्री ‘लता’September 22, 2011, 8:54 PM

bade logo ki badi bate!

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

व्यापम बाहर नहीं, अंदर है..

व्यापम बाहर नहीं, अंदर है..(2)

Share this on WhatsApp व्यापम इस बात का सबूत है कि भ्रष्टाचार ऊपर से ले कर नीचे तक कैसे सर्वव्यापी हो चुका है. यानी अब हालत यह है कि आप अपने डाक्टर, इंजीनियर, आर्किटेक्ट, वैद्य, नर्स, वकील वग़ैरह-वग़ैरह की योग्यता पर भी भरोसा नहीं कर सकते कि उसने जो डिग्री टाँग रखी है, वह उसके

अबकी बार कुशवाहा सरकार..

अबकी बार कुशवाहा सरकार..(0)

Share this on WhatsApp -दिलीप सी मण्डल॥ बिहार की राजनीति का एक महत्वपूर्ण पड़ाव है त्रिवेणी संघ। लगभग सौ साल पहले के इस राजनैतिक सामाजिक आंदोलन की छाप बिहार की राजनीति पर अमिट है। सवर्ण वर्चस्व को तोड़ने के लिए पिछड़ी जातियों की एकजुटता से बने त्रिवेणी संघ की अग्रिम पंक्ति में यादव, कुर्मी, कुशवाहा,

धौलपुर पैलेस का असली मालिक कौन..

धौलपुर पैलेस का असली मालिक कौन..(2)

Share this on WhatsApp -महेश झालानी॥ धौलपुर में स्थित होटल राजनिवास पैलेस जो पहले धौलपुर महल कहलता था । अगर सरकारी दस्तावेजो पर विश्वास करे तो यह असल सम्पति सरकार की है । इसकी जाँच होती है तो कई अफसरों की कारस्तानी सामने आएगी कि किस प्रकार सरकारी सम्पति को न केवल निजी बना दिया

आडवाणी धृतराष्ट्र नहीं हैं..

आडवाणी धृतराष्ट्र नहीं हैं..(0)

Share this on WhatsApp -प्रवीण दत्ता|| आज भारत के प्रतिष्ठित अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस ‘ में भाजपा के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी का इंटरव्यू छपा है। इंटरव्यू का सार यह है कि 1) देश में फिर से इमरजेंसी लगने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है। 2) देश में लोकतंत्र और नागरिक

भारतीय बाजार के खिलाफ विदेशी षड्यंत्र, केवल मैगी ही क्यों अन्य विदेशी उत्पादों की भी जांच हो..

भारतीय बाजार के खिलाफ विदेशी षड्यंत्र, केवल मैगी ही क्यों अन्य विदेशी उत्पादों की भी जांच हो..(0)

Share this on WhatsApp -सुरेश हिन्दुस्थानी।। भारत हमेशा से ही विदेशी कंपनियों की साजिश का शिकार बना है। आज मैगी का मामला भले ही सामने आ गया हो, लेकिन जिस प्रकार से विदेशी कंपनियाँ अपने उत्पादों में रासायनिक तत्वों का उपयोग करतीं हैं, वह मानव के जीवन के लिए अत्यंत ही घातक हैं, केवल इतना

read more

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: