कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर
Home » Posts tagged with » अन्ना समर्थक

टीम अन्ना ने ही अंधे कुएं में धकेल दिया आंदोलन

जिस अन्ना टीम ने देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ एक सशक्त आंदोलन खड़ा किया, उसी ने अपनी नादानियों, दंभ और मर्यादाहीन वाचालता के चलते उसे एक अंधे कुएं में धकेल दिया है। यह एक कड़वी सच्चाई है, मगर कुछ अंध अन्ना भक्तों को यह सुन कर बहुत बुरा लगता है और वे यह तर्क देकर […]

भ्रष्टाचार जनलोकपाल कानून से नहीं, दोहरे चरित्र को समाप्त करने से होगा!

अन्ना का ‘जनलोकपाल बिल’ को कानून बनाने के लिए चल रहेआंदोलन के दौरान ही जनता के बीच यह साफ हो चुका था कि मात्र जनलोकपाल कानून बनने से भ्रष्टाचार की समस्या का न तो निवारण होगा और न ही उस पर प्रभावी अंकुश लग पायेगा। समस्या कानून की न होने की नहीं, लागू होने की […]

Read More

अन्ना के आंदोलन का बहीखाताः क्या पाया! क्या खोया!

-राजीव खंडेलवाल|| जनता के सामने राजनैतिक विकल्प प्रस्तुत करने के इरादे के साथ अन्ना द्वारा सांय 5 बजे से अनशन समाप्ति की घोषणा पर मीडिया में यह सुर्खिया कि एक बड़े जन आंदोलन की मौत/ हत्या, हो गई छायी रही। वास्तव में उक्त आंदोलन के समाप्त होने के प्रभाव एवं परिणाम की विवेचना किया जाना […]

Read More

नयी राजनैतिक पार्टी जिताएगी कांग्रेस को अगला लोकसभा चुनाव..

-मॉडरेटर|| आखिर अर्थी उठ ही गयी उन भारतीयों की आशाओं की, जो अन्ना हजारे द्वारा चलाये गए आन्दोलन को देख यकायक उम्मीदों का एक दीपक जला बैठे थे. जंतर मन्तर पर जब लोगों ने देखा कि एक पिचहत्तर साल का वृद्ध देश की सबसे बड़ी भ्रष्टाचार रुपी समस्या से लड़ने के लिए अनशन पर बैठ […]

Read More

क्या टीम अन्ना सफेद झूठ के सहारे भ्रष्टाचार का विरोध कर रही है?

- सतीश चन्द्र मिश्र  || संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत के साथ ही सरगर्म हुए राजनीतिक वातावरण में अन्ना टीम  ने एक बार फिर कमर कस ली है. इसके लिए अन्ना टीम ने एक बार फिर अपना “जनलोकपाली” कीर्तन प्रारम्भ किया है. पिछले तीन-चार दिनों से  न्यूज चैनलों पर ये अन्ना गैंग फिर चमका है और आदेशात्मक शैली में […]

Read More

अन्ना हज़ारे का फेसबुक पेज़ गायब हुआ, समर्थकों ने कहा सरकार की ‘मिलीभगत’

सोमवार को सोशल नेटवर्किग वेबसाइट फेसबुक और अन्ना समर्थकों में जम कर ठनी। फेसबुक ने इस आंदोलन की सारी सामग्री अपनी साइट से हटा कर इसका अकाउंट जाम कर दिया था। इस पर अन्ना समर्थक पूरे दिन दूसरी सोशल नेटवर्किग वेबसाइट ट्विटर के जरिए फेसबुक पर इसे बहाल करने का दबाव बनाते रहे। दिलचस्प बात ये […]

Read More

कौन सठियाया? 85 साल के ‘बाल’ और 74 साल के ‘बड़े भाई’ में छिड़ी नूराकुश्ती

भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में दो ‘मराठा योद्धाओं’ को अब एक नया हथियार मिल गया है- उम्र का हथियार। एक योद्धा दूसरे को सठिया गया साबित करने में जुटा है तो दूसरा पहले को बचपना न करने की चेतावनी दे रहा है। दिलचस्प बात ये है कि दोनों की उम्र सत्तर से उपर है। 85 […]

Read More

“आना-आना” के लिए दौड़ रहे हैं अन्ना आंदोलन में सेवा करने आए कट्टर “समर्थक”

-शिवनाथ झा।। दिल्ली के रामलीला मैदान में समाजसेवी अन्ना हजारे के साथ ‘कन्धे-से-कन्धा’ मिलाकर दिन-रात लड़ने वाले, भोजन-पानी, बिछावन, बिजली, लाउड-स्पीकर, पंखा, एयर-कंडीशंड गाड़ी-सवारी, पान-बीड़ी-सिगरेट और कभी-कभी “मदिरा” की आपूर्ति में लगे भारत के विभिन्न राज्यों के इवेंट मैनेजमेंट संस्थाओं का धैर्य टूट रहा है। अब वे सभी उसी स्वर से दुहरा रहे हैं, “भैया, […]

Read More

अन्ना हजारे कहाँ से और कैसे गाँधी? देश पूछ रहा है सवाल

-आर के चौधरी।। अन्ना हजारे जब मेदान्ता सिटी जैसे पाँच सितारा अस्पताल से अपने गाँव रालेगण सिद्धि पहुंचे और उन्होंने वहां जब पहली बार ग्राम सभा को संबोधित किया तो जैसे उनके मुखारबिंद से गर्वोक्ति पूर्ण आवाज़ में  निकला, ” अब भारत की जनता मेरी एक आवाज़ पर उठ खड़ी होगी” तो जैसे उनके भीतर का […]

Read More

खुदकुशी करने से अन्ना नहीं बन जाता कोई, फिर भी दिनेश की मौत है एक दुखद सच्चाई

- शिव नारायण शर्मा।। दुनिया में कुछ अलग-अलग व्यक्तित्व के लोग रहते हैं एक व्यक्तित्व वह होता है जो भ्रष्ट तंत्र का उपयोग करके धन और रुतबे में अपने आप को ऊँचा उठाने की कोशिश करते हैं, ऐसे लोग समाज में अपने रुतबे की ज़्यादा परवाह करते हैं न कि अपनों कि, दूसरा व्यक्तित्व वह […]

Read More