Loading...
You are here:  Home  >  'कानून'
Latest

अपराधी का बचाव दरअसल दूसरा अपराधी तैयार करना है..

By   /  April 16, 2018  /  अपराध  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-संजय कुमार सिंह|| कोई भी आदमी अपराध इसी उम्मीद में करता है कि वह पकड़ा नहीं जाएगा। गुस्से में हत्या हो जाना अलग बात है। पर सोच-समझ कर अपराध करने वाला कोई भी व्यक्ति अगर सोचेगा तो ये भी कि जमानत के लिए वकील कौन होगा, उसकी फीस […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

हिरण को तो सलमान ने मारा, क्या नुरूल्ला को किसी ने नहीं मारा.?

By   /  April 7, 2018  /  अपराध  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-नवीन शर्मा|| अभिनेता सलमान खान को काले हिरण के शिकार के मामले में पांच साल की कैद और दस हजार रुपये जुर्माने की सजा हुई है। यह फैसला घटना के बीस वर्ष बाद आया है। इतने वर्षों बाद आया यह फैसला हमारी न्यायिक व्यवस्था की विसंगतियों की ओर […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

ई-वे बिल लागू होना फिर टला..

By   /  February 2, 2018  /  देश  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..–संजय कुमार सिंह॥ बजट और उपचुनाव परिणाम के शोर में जीएसटी का हिस्सा – ई-वे बिल लागू होना फिर टलने की खबर रह गई। ई-वे बिल जीएसटी की सख्तियों का भाग है जो ज्यादातर सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजने या लाने-ले जाने के लिए […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

मोदी की 2019 लोकसभा चुनाव की रणनीति

By   /  February 1, 2018  /  राजनीति  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..–संतोष भारतीय॥ दावोस में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जो भाषण दिया, उसकी चारों ओर प्रशंसा हो रही है. लोग बस इतना कह रहे हैं कि उस भाषण का मंच सही नहीं था. वो भाषण अगर भारत में या किसी वैदिक सम्मेलन में होता तो ज्यादा प्रासंगिक होता. दरअसल […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

अमित शाह का इस्तीफा क्यों नहीं होना – चाहिए पर पाठकों की राय

By   /  January 19, 2018  /  सोशल मीडिया  /  1 Comment

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-संजय कुमार सिंह॥ सीबीआई जज बीएच लोया की संदिग्ध मौत, उसके कारण, प्रभाव आदि पर जब विवाद हो गया और सारी चीजें खुल कर सामने आ गईं तथा यह तय हो गया कि इस मामले की जांच फिर से कराए जाने पर सुप्रीम कोर्ट में विचार होगा तो […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

पद्मावती: यह क्या हो रहा है, सरकार क्या कर रही है..

By   /  January 19, 2018  /  मीडिया  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..पद्मावति फिल्म पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से भाजपा के हाथ पांव फूल गए हैं। दरअसल, राजस्थान के दो लोकसभा क्षेत्रों अजमेर और अलवर में 29 जनवरी को उपचुनाव होने हैं और पद्मावत के खिलाफ सबसे ज्यादा विरोध राजस्थान में ही हुआ है। अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

औपनिवेशक कानूनों का अब तक जारी रहना आखिर क्या दर्शाता है…

By   /  August 30, 2013  /  बहस  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-शैलेन्द्र चौहान|| आजादी के बाद से ही भारतीय लोकतंत्र में लोक की यह अपेक्षा रही है कि यहां के लोगों/नागरिकों को सही सुरक्षा और न्याय मिले. आम भारतीय पर्याप्त लंबे समय से न्यायपालिका और पुलिस जिन्हें औपनिवेशिक व्यवस्था में शासन का अंग माना गया था, दोनों ही संस्थानों […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

आखिर क्या चाहती है हमारी संसद…

By   /  August 14, 2013  /  राजनीति  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..– अनुराग मिश्र|| पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक अहम् फैसले में जनप्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा-8 (4) को समाप्त कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद क्या सत्ता पक्ष और क्या विपक्ष सब मे खलबली मची हुई है. सब ने सुप्रीम कोर्ट के इस […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

ब्रिटिश काल से चले आ रहे कानून, भ्रष्ट शासन व्यवस्था की बुनियाद…

By   /  July 20, 2013  /  राजनीति  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..आज़ादी के सातवें दशक में भी भारतीय जनता ब्रिटिश काल में भारत की मासूम जनता के दमन के लिए बनाये गए कानूनों के तहत जीवन गुजारने को अभिशिप्त है. ताज्जुब की बात तो यह है कि कांग्रेस ही नहीं, जनता पार्टी, जनता दल या भाजपा की सरकारें आने […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: