Loading...
You are here:  Home  >  'दंगा'
Latest

रवीश कुमार का ख़त, बिहारियों के नाम..

By   /  March 29, 2018  /  देश, राज्य  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..हमारा राज्य जल रहा है। इसे बचा लीजिए। इस तमाशे में किसी का भला नहीं है। दंगों की कुछ वजहें होती हैं। उसने पहले फेंका तो उसने बाद में ये कहा। पुलिस उनकी मदद के लिए आई, हमारी मदद के लिए नहीं आई। कहीं गाय का मांस फेंकना […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

पछतावे की आंच से कुंदन बन रहा है मुजफ्फरनगर…

By   /  September 23, 2013  /  देश  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें.. जैसे जैसे वक्त गुजर रहा है और मुजफ्फरनगर दंगों की आग ठंडी हो रही है, वैसे वैसे स्थानीय निवासियों को भी अपनी अपनी गलती का एहसास हो रहा है कि वे बहकावे में आ गए थे. सबसे अधिक ख़ुशी की बात तो यह है कि इस तथ्य […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

यह राजनीति नहीं, राखनीति है जो सब राख कर देगी…

By   /  September 22, 2013  /  राजनीति  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-कमर वहीद नकवी|| दंगा आया और चला गया. एक बार फिर हमें नंगा कर गया. लेकिन इस बार जैसा दंगा आज से पहले कभी नहीं देखा. पहली बार इतने मुखौटे उतरे हुए देखे, पहली बार देखे सारे चेहरे कीचड़ सने हुए. पार्टी, झंडा, टोपी, निशान तो बस दिखाने […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

मुजफ्फरनगर में हिंसा, सेना तैनात…

By   /  September 8, 2013  /  अपराध  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..मुजफ्फरनगर में पिछले सात दिनों से हो रही छिटपुट हिंसक घटनाओं व बने तनाव का माहौल शनिवार को सांप्रदायिक टकराव के रूप बदल गया. हिंसा की लपटों में पड़ोसी जिले मेरठ के हस्तिनापुर और रामराज कस्बे भी झुलस गए. जिले में अलग-अलग स्थानों पर दो संप्रदायों के बीच […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

हम तो ‘फेंक’ चुके सनम..

By   /  July 16, 2013  /  व्यंग्य  /  1 Comment

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-अशोक मिश्र|| उस्ताद गुनाहगार के घर पहुंचा, तो वे कुछ लिखने पढ़ने में मशगूल थे. चरण स्पर्श करते हुए कहा, ‘क्या उस्ताद! पॉकेटमारी का धंधा छोड़कर यह बाबूगीरी कब से करने लगे?’ गुनाहगार ने चश्मा उतारकर मेज पर रखते हुए कहा, ‘क्या करूं? दोस्तों की बात तो माननी […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: