Loading...
You are here:  Home  >  'देश'
Latest

देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले में देश के सबसे अमीर अम्बानी परिवार का दामाद शामिल

By   /  February 15, 2018  /  अपराध, देश  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..–गिरीश मालवीय॥ यदि यह हेडलाइन आपको आज के अखबारों में, न्यूज़ चैनलों की ब्रेकिंग न्यूज़ में नही दिखाई दे रही है इसका मतलब है कि मीडिया पूरा बिक चुका है जो ऊपर लिखा है वह 100 प्रतिशत सत्य है लेकिन कोई बताएगा नही ! कल जिस नीरव मोदी […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

मोदी जी सुनिए तो..

By   /  February 12, 2018  /  व्यंग्य  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-अंशुल कृष्णा॥ आदरणीय मोदी जी, अभी अभी केतली से चाय लेकर एक मगरमच्छ नुमा पकौड़ा हाथ में लिया ही था कि एक खबर देखकर चौंक गया ,खबर थी कि आप फिलिस्तीन में हैं और वहां 6 अहम करारों में एक करार नेहरू स्कूल को लेकर भी है ,वही […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

सुभाष बोस ने नैतिकता की गांधीवादी राह कभी नहीं छोड़ी

By   /  January 23, 2018  /  देश  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..–गुरदीप सिंह सप्पल॥ आज नेता जी सुभाष चंद्र बोस का जन्मदिवस है।121 साल पहले, 1897 में उनका जन्म हुआ और मात्र 48 साल की आयु में वे हम से दूर चले गए। नेताजी जी क्या थे? ये समझने के लिए केवल तथ्य जानना काफ़ी नहीं है। उन तथ्यों […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

शुक्रिया एन डी टी वी , आपने मुझे नौकरी से निकाल दिया था

By   /  January 22, 2018  /  मीडिया  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-शेष नारायण सिंह॥ आजकल एन डी टी वी से नौकरी से हटाये गए लोगों के बारे में चर्चा है . खबर है कि कंपनी की हालत खस्ता है .करीब पंद्रह साल पहले हम भी एन डी टी वी से हटाये गए थे .जब हम हटाये गए थे तो […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

औपनिवेशक कानूनों का अब तक जारी रहना आखिर क्या दर्शाता है…

By   /  August 30, 2013  /  बहस  /  No Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-शैलेन्द्र चौहान|| आजादी के बाद से ही भारतीय लोकतंत्र में लोक की यह अपेक्षा रही है कि यहां के लोगों/नागरिकों को सही सुरक्षा और न्याय मिले. आम भारतीय पर्याप्त लंबे समय से न्यायपालिका और पुलिस जिन्हें औपनिवेशिक व्यवस्था में शासन का अंग माना गया था, दोनों ही संस्थानों […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: