Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

Posts tagged as: out back to homepage

होली में एक्सपोज़र का रंग चढ़ा बॉलीवुड पर, पूनम पांडेय ने तोड़ीं सारी हदें होली में एक्सपोज़र का रंग चढ़ा बॉलीवुड पर, पूनम पांडेय ने तोड़ीं सारी हदें(3)

 

 

बॉलीवुड में होली मस्ती से ज्यादा एक्सपोजर और पब्लिसिटी का त्यौहार बनता जा रहा है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

राखी सावंत और सोफिया ने कैमरे के सामने ऐसी बिंदास होली मनाई कि फोटॉग्राफरों तक के होश उड़ गए।

 

 

 

 

 

 

 

‘हीरोइन’ करीना कपूर हो या ‘अवार्ड विनिंग’ विद्या बालान, कोई भी होली के बहाने रंग-बिरंगी तस्वीरें खिंचाने से पीछे नहीं रहा।

 

 

 

 

 

 

 

ऐक्ट्रेस और मॉडल पूजा बासु ने तो होली के बहाने बाकायदा एक हॉट फोटोशूट कराया। इस फोटोशूट में पूजा ने जमकर एक्सपोज भी किया है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

जब सब का ज़िक्र छिड़ा हो तो, मौके-बेमौके मीडिया को मसाला देने वाली किंगफिशर मॉडल पूनम पाण्डेय भला कैसे पीछे रहती? उन्होंने इस मौके पर एक बहुत ही उत्तेजक वीडियो ‘डर्टी-प्ले’ अपलोड किया है।

 

 

 

 

 

इस वीडियो में पूनम बिकनी में होली खेलती हुई नजर आ रही हैं और काफी अश्लील हरकतें भी करती हुई दिखाई दे रही हैं।

 

 

 

 

 

कहना गलत न होगा कि ऐसा करने पर सभी को पब्लिसिटी बटोरने का पूरा मौका मिला है। ताज़ा खबर ये है कि पूनम का वीडियो यूट्यूब ने ब्लॉक कर दिया है।

 

 

 

संबंधित खबरें:

दीपक चौरसिया ने डीपी यादव से कहा: मैं जिंदगी भर नहीं बदलूंगा चैनल दीपक चौरसिया ने डीपी यादव से कहा: मैं जिंदगी भर नहीं बदलूंगा चैनल(2)

अक्सर टीवी पर चल रही बहस के दौरान नेताओं और ऐंकरों की थुक्कमफजीहत होते रहती है। न्यूज़ ऐंकर की कोशिश होती है कि नेताजी को घेरा जाए और नेताओं की कोशिश होती है कि बिना फंसे अपना एजेंडा रखते हुए स्क्रीन से खिसक लिया जाए। इस कोशिश में नेता और ऐंकर कई तरह के हथकंडे अपनाते हैं। कभी ऐंकर आक्रामक रूख अख्तियार कर लेता है तो मेहमान समय की कमी का बहाना कर बीच कार्यक्रम से ही उठ कर चला जाता है, लेकिन कुछ नेता ऐसे हैं जो एंकर से ही कुछ सवाल कर उन्हें घेरने की कोशिश करते हैं।

ऐसा ही हुआ चुनाव के एक कार्यक्रम में 06 जनवरी, 2012 को जब स्टार न्यूज़ पर ‘बाहुबली’ डीपी यादव और ‘बड़बोले’ दीपक चौरसिया के बीच गर्मागर्म बहस छिड़ गई। सवाल-जवाब के दौरान दीपक चौरसिया एक-एक कर डीपी यादव का कच्चा-चिठ्ठा खोल रहे थे और बाहुबली नेता अपने बचाव में तर्क दर तर्क पेश कर रहे थे।

दरअसल, मुलायम सिंह यादव के बेटे अखिलेश यादव के विरोध की वजह से डीपी यादव की समाजवादी पार्टी में एंट्री होते-होते रह गई थी। बाद में डीपी ये कहने लगे कि उन्होंने कभी समाजवादी पार्टी का रुख भी नहीं किया था। डीपी ने स्टार न्यूज़ पर कहा, ”मुलायम के भतीजे धर्मेंद्र यादव ने क्षेत्र के विकास के लिए मुझे पार्टी में शामिल होने का न्‍यौता दिया था। मैंने अखिलेश यादव के पास जाकर उनसे कभी टिकट नहीं मांगा।”

दीपक चौरसिया ने डी पी यादव को कहा कि वे हवा के रूख के साथ चलते हैं और अपने फायदे के हिसाब से पार्टियां बदलते हैं। नेताओं की आदत के मुताबिक़ डीपी यादव ने यहाँ भी अपने आप को सही ठहराने की कोशिश की। इसी बीच दीपक चौरसिया ने डीपी यादव से कहा, ”चलिए आपकी सारी बातें मान लेते हैं, लेकिन क्या अब आप यह कसम खाते हैं कि अब आप पार्टी नहीं बदलेंगे, दूसरी पार्टी का दरवाजा नहीं खटखटाएंगे और अपने दम पर लड़ेंगे? क्या आप कसम खाते हैं कि अब आप पार्टियों की अदला-बदली का खेल नहीं खेलेंगे?”

दीपक के इस सवाल का डीपी यादव ने कोई सीधा जवाब तो नहीं दिया, उलटे सवाल करने लगे, ”दीपक जी यह कसम तो आप भी नहीं उठा सकते कि आप स्टार में रहेंगे कि आजतक में चले जाएंगे या फिर आजतक में रहेंगे या ज़ी टीवी में चले जाएंगे।”

डीपी यादव ने दीपक को उलझाने की नीयत से ये सवाल किया, लेकिन दीपक तो दीपक हैं। बिना सोच-विचारे उन्होंने कह डाला कि मैं यह कसम उठाने के लिए तैयार हूँ, आप कसम लेंगे तो मैं भी कसम लेने के लिए तैयार हूँ।

डीपी तो उनके सवाल को हंस कर टाल गए लेकिन दीपक का ये आत्मविश्वास मीडिया की अस्थिर जिंदगी के लिए एक सवाल खड़ा कर गया। क्या दीपक चौरसिया अवीक सरकार के साथ जिंदगी भर रहने का दावा कर सकते हैं? अगर ऐसा ही था तो उन्हें इसके पहले इतने संस्थानों को क्यों छोडना पड़ा? क्यों वे आजतक में नक़वी की तानाशाही बर्दाश्त नहीं कर पाए और क्यों स्टार न्यूज़ में देबांग की ऐंट्री के समय (या दूसरे कई मौकों पर) उन्हें इस्तीफे की धमकी देनी पड़ी?

मीडिया और राजनीति दोनों की कड़वी सच्चाई यही है कि यहा किसी भी पार्टी या संस्थान में कोई अपनी मर्ज़ी से नहीं रहता। बहरहाल, आप भी इस बतकही को देख सकते हैं जो करीब 25 मिनट के आस-पास हुई है।

संबंधित खबरें:

आज समाज से राहुल देव हुए OUT, रवीन ठुकराल बने चैनल और अखबार दोनों के मुखिया आज समाज से राहुल देव हुए OUT, रवीन ठुकराल बने चैनल और अखबार दोनों के मुखिया(2)

आज समाज से खबर है कि वरिष्‍ठ एवं प्रधान संपादक पत्रकार राहुल देव ने इस्‍तीफा दे दिया है। प्रबंधन ने राहुल देव को पहले ही इशारा कर दिया था कि वे अपनी व्‍यवस्‍था कहीं और देख लें परन्‍तु उन्होंने इसे अनसुना कर दिया था। अब जब रवीन ठुकराल की पहले से भी बड़े ओहदे यानी आज समाज और इंडिया न्‍यूज के एडिटर इन चीफ पर वापसी हो गई तो यह माना जाने लगा था कि राहुल देव ऑफिस आना खुद-ब-खुद बंद कर देंगे। पर उन्‍होंने रवीन के ज्‍वाइन करने के बाद अपना इस्‍तीफा सौंप दिया।

वरिष्‍ठ पत्रकार विपिन धूलिया के बारे में सूचना है कि वे चैनल वन के साथ एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर रूप में जुड़ गए हैं। विपिन इसके पहले भी कई चैनलों में वरिष्‍ठ पदों पर काम कर चुके हैं। सहारा समय उत्‍तर प्रदेश-उत्‍तराखंड के संस्‍थापक चैनल हेड के रूप में काम कर चुके विपिन धूलिया लेमन टीवी समेत कई चैनलों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं। बताया जा रहा है कि अब चैनल की संपादकीय जिम्‍मेदारी उन्‍हीं को सौंप दी गई है।

अमर उजाला, नोएडा से खबर है कि अक्षय जैन ने बिजनेस हेड के रूप ज्‍वाइन किया है। अक्षय जैन बिजनेस के साथ टच प्‍वाइंट की जिम्‍मेदारी भी संभालेंगे। वे भास्‍कर से इस्‍तीफा देकर अमर उजाला से जुड़े हैं। वे भास्‍कर में एजीएम ब्रांड की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे। भास्‍कर के साथ पिछले नौ सालों से जुड़े हुए थे। अक्षय की रिपोर्टिंग सुनील मुतरेजा को होगी।

सहारा समय, कोलकाता से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार नवीन कुमार राय ने स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट के रूप में ज्‍वाइन किया है। वे वेस्‍ट बंगाल की रिपोर्टिंग करेंगे। नवीन फिलहाल न्‍यूज एजेंसी एनएनआईएस से बंगाल प्रभारी के रूप में जुड़े हुए थे। पिछले दो दशक से पत्रकारिता में सक्रिय नवीन ने करियर की शुरुआत कोलकाता में जनसत्‍ता के साथ की थी। इसके बाद सन्‍मार्ग, कारोबार खबर, ताजा खबर, जागरण, राजस्‍थान पत्रिका, न्‍यूज24, वॉयस ऑफ इंडिया, सीएनईबी जैसे संस्‍थानों में वरिष्‍ठ पदों पर रहे। इनकी बंगाल की राजनीति तथा क्राइम पर बढि़या पकड़ मानी जाती है।

राजस्थान पत्रिका प्रबंधन ने सम्पादकीय विभाग में अपने तबादलों को जारी रखते हुए कोलक़ता से परितोष दुबे को उदयपुर भेज दिया है। परितोष को यहां पर बतौर सवांददाता नियुक्त किया गया है। परितोष ने रिपोर्टिंग शुरू कर दी है।

नक्षत्र न्‍यूज से खबर है कि यहां पंकज कुमार ने अपनी नई पारी शुरू की है। उन्‍हें चैनल में सीनियर प्रोड्यूसर कम एंकर की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है। पंकज इसके पहले मुंबई में बॉलीवुड चैनल जूम से असिस्‍टेंट प्रोड्यूसर के रूप में काम कर रहे थे। वे इसके पहले डीडी, मुंबई, सीएनबीसी आवाज जैसे चैनलों के साथ भी जुड़े रह चुके हैं।

संबंधित खबरें:

‘वाय दिस कोलावेरी..’ ने दिखाया, ”कैसे बनाए जाते हैं रातों-रात स्टार?” ‘वाय दिस कोलावेरी..’ ने दिखाया, ”कैसे बनाए जाते हैं रातों-रात स्टार?”(1)

दक्षिण भारत में फिल्मों को लेकर जो क्रेज़ है वो किसी से छिपा नहीं है। उपर से रजनीकांत बोलें और पब्लिक पागल न हो ऐसा भला कैसे हो सकता है? रजनी अप्पा बोले कि कोलावेरी दी हिट होना मांग्ता तो हिट होने का ना..? इन दिनों इंटरनेट पर धूम मचा रहा ये टिंगलिश गाना डेढ़ करोड़ हिट पार कर चुका है। इसमें आवाज़ है तमिल एक्टर और सिंगर वेंकटेश प्रभु कस्थूरी राजा की जो धनुष के नाम से मशहूर हैं।

धनुष बोले तो कौन… वो तो रजनीकांत के दामाद हैं। रजनीकांत की बेटी सौन्दर्या आने वाली तमिल फिल्म मूंदरू-3 की हीरोइन हैं। रजनीकांत अब ढलती उम्र के कारण फिल्मों में आने से परहेज़ कर रहे हैं लेकिन उनके करोड़ों फैन्स के लिए वे भगवान से कम नहीं। सौन्दर्या की फिल्म के इस गीत को रजनीकांत ने ट्विटर पर प्रचारित किया तो उनके मित्र और सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भला कैसे चुप रहते? उन्होंने भी इसके लिंक के बारे में ट्वीट किया तो यह यूट्यूब पर उत्तर भारत में भी सेन्सेशन बन गया। अब तक इसे डेढ़ करोड़ के करीब हिट्स मिल चुके हैं। गाने की लोकप्रियता का आलम यह है कि कई बॉलीवुड सितारों ने भी इस गाने को अपनी कॉलरट्यून बना लिया है।

दरअसल, कोलावेरी डी को ऐसे प्रचारित करने की कोशिश की गई मानो ये एक दुर्घटनावश लीक हुई हो। प्रचलित कहानी के मुताबिक तमिल फ़िल्म मूंदरू-3 का एक गाना रिकॉर्ड किया गया था जिसका एक हिस्सा 10 नवंबर को इंटरनेट पर लीक हो गया। लोग इसे हिट करने लगे और देखते-देखते इसके चहेतों की संख्या भारतीय म्युजिक इंडस्ट्री के लिए रिकॉर्ड बन गई। गीत को लोकप्रिय होता देख निर्माता-निर्देशक ने इसका मुख्य वर्ज़न इंटरनेट पर जारी करने का निर्णय लिया और 16 नवंबर को इस गीत का मुख्य वर्ज़न आधिकारिक तौर पर यूट्यूब पर प्रस्तुत किया गया।

धनुष की एक तमिल फ़िल्म में टूटी-फूटी अंग्रेज़ी के कुछ दृश्य बहुत लोकप्रिय हुए थे तो गीत के शब्दों को तमिल के साथ टूटी-फूटी अंग्रेज़ी में ही बुना गया. ये ‘टिंग्लिश’ आशु-गीत प्रेम की नाकामी पर है, मगर इसका रंग कॉमिक भरा रखा गया। ‘वाय दिस कोलावेरी डी’ का आम बोलचाल की हिंदी में अर्थ है ‘‘तुम मेरे ख़ून की प्यासी क्यों हो..?’’ ये बेतुकी सी पंक्ति ही इस गीत को एक मज़ेदार सा रंग देती है। यह अर्थ समाज में लोगों के बीच फैले गुस्से पर एक कटाक्ष है।

गीत की रातों रात ज़बरदस्त सफ़लता के कारणों की चर्चा करें तो बहुत से कारण सामने आ सकते हैं। बेतुके से लेकिन अनूठे बोल और अनोखी संगीत रचना। इसकी सरल सी धुन और कैची रिदम किसी के भी होठों पर तुरत चढ़ जा रही है। गीत की भाषा भी सरल है और धुन भी जो सुनने वालों को एक अलग और अनोखा सा अहसास दिलाती है। गीत की रचना का वीडियो फ़िल्मांकन भी बहुत मज़ेदार है और देखने वालों से तुरंत कनेक्ट स्थापित करता है। गीत में धनुष, श्रुति हसन और ऐश्वर्या की मौजूदगी ने भी उनके प्रशंसकों को रोमांचित किया है, लेकिन जिस फैक्टर ने गीत को सफ़ल बनाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है वो है इंटरनेट के सोशल मीडिया टूल्स जिनमें यू-ट्यूब, फ़ेसबुक और ट्विटर की तिकड़ी मुख्य रूप से शामिल है।

इन सोशल-मीडिया टूल्स पर इसका वीडियो इसके दर्शकों ने जिस तत्परता और गति से साझा किया वो आने वाले दिनों में प्रचार माध्यमों के लिये एक बड़ा उदाहरण बन गया है। इन सोशल मीडिया टूल्स की खास बात ये है कि इसके दर्शक खुद प्रचार-प्रसार का माध्यम बन रहे हैं। इससे पहले भी जस्टिन बीबर, लेडी गागा और रैबेका ब्लैक जैसे नामों ने इन सोशल मीडिया टूल्स से प्रचार कर विश्व्व्यापी लोकप्रियता हासिल की है लेकिन भारत के लिये ‘कोलावेरी डी’ एक उदाहरण के रूप में सामने आया है।

गीत पर अपार प्रतिक्रियाओं को देखते हुए, रिकॉर्ड कम्पनी इसकी सफ़लता को भुनाने के लिये फ़िल्म के साउंडट्रैक से पहले इसे एक एमपी-3 एलबम मे शामिल कर जारी कर रही है। फ़िल्म के साउंडट्रैक पर भी ज़ोरों से काम चल रहा है। ‘कोलावेरी डी’ को महिला स्वरों में भी रिकॉर्ड किया गया है जो खासा लोकप्रिय हो गया है। हिन्दी गायक सोनू निगम भला इस मौके पर क्यों पीछे रहते? उनके बेटे नेवान निगम ने इस गीत को गाया और उसे भी यूट्यूब पर भारी सफलता मिली।

गीत ने फ़िल्म और संगीत उद्योग के प्रचार माध्यमों में इंटरनेट और सोशल मीडिया टूल्स की बढ़ती भूमिका को गहरे में रेखांकित किया है जो कि इस बात का संकेत है कि  आने वाले दिनो में इस उद्योग में प्रचार-प्रसार में ऐसे कई नए प्रयोग देखने को मिलेंगे। अपने पहले ही प्रयास से पूरे देश को कोलावेरी के रंग में झुमाने के बाद नए संगीतकार अनिरुद्ध के लिए सबसे बड़ी चुनौती है इस सफ़लता को कायम रखना।

धनुष भी इस गीत के माध्यम से तमिल फ़िल्मों के दायरे से निकल कर राष्ट्रीय मानचित्र पर आ चुके हैं। दोनों के लिए पहली बड़ी चुनौती होगी ‘थ्री’ के साउंडट्रैक में ‘कोलावेरी’ के स्तर को कायम रखना। वैसे इस सफ़लता से जन्मी कई नई चुनौतियां आने वाले दिनों में इन दोनों की कला को परखने के लिये तैयार मिलेंगी।

बहरहाल, मजेदार बात यह है कि इस गाने को तमिल न समझने वाले इलाकों यानी उत्तर भारत में भी लोग काफी पसंद कर रहे हैं। वैसे तो इसका संगीत काफी मधुर और जुबान पर चढ़ जाने वाला है साथ ही इसकी टिंगलिश को समझना भी आसान है, जिसकी वजह से इसने भाषाई बंधन तोड़ दिए हैं। वैसे ताज़ा खबर ये है कि इस लोकप्रियता को एक और धक्का देने के लिए खुद रजनीकांत इसके फिल्मांन में उतर रहे हैं।

संबंधित खबरें:

BBC ने पाकिस्तान को ‘दोगला’ कहा थाः नैटो ने मारे सैनिक तो याद आई गाली, BAN किया BBC ने पाकिस्तान को ‘दोगला’ कहा थाः नैटो ने मारे सैनिक तो याद आई गाली, BAN किया(0)

हम ऐसी हर कार्रवाई की निंदा करते हैं जो हमारी संपादकीय स्वतंत्रता पर अंकुश लगाती है और हमारी निष्पक्ष अंतरराष्ट्रीय न्यूज़ सर्विस को जनता तक पहुँचने से रोकती है। हम आग्रह करेंगे कि बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ और अन्य अंतरराष्ट्रीय चैनलों को दोबारा जनता तक पहुँचने दिया जाए।”
-बीबीसी प्रवक्ता

पाकिस्तान में केबल ऑपरेटरों ने बीबीसी के अंतरराष्ट्रीय टीवी चैनल बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ को ‘ब्लॉक’ करना शुरु कर दिया है यानी कई शहरों में अब ऑपरेटर अब इस चैनल को नहीं दिखा रहे हैं। संवाददाताओं का कहना है कि पाकिस्तान के अधिकतर शहरों में बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ को देखना संभव नहीं है और संभावना है कि इस प्रतिबंध को बुधवार तक ग्रामीण इलाक़ों में भी लागू कर दिया जाएगा।

ऑपरेटरों का कहना है कि ये क़दम बीबीसी की टीवी डॉक्यूमेंटरी ‘सीक्रेट पाकिस्तान – डबल क्रॉस’ को प्रसारित किए जाने के बाद उठाया गया है। इस डॉक्यूमेंट्री की दो सीरीज करीब एक महीने पहले प्रसारित हुई थी। इसमें कई राजनयिकों और खुफिया अधिकारियों के अलावा कुछ अलकायदा नेताओं के इंटरव्यू भी हैं जो साबित करते हैं कि पाकिस्तान ने अफगानिस्तान युद्ध के दौरान और उसके बाद ‘डबल क्रॉस’ यानी दोगले का किरदार अदा किया है। ऑल पाकिस्तान केबल ऑपरेटर्स एसोसिएशन ने मंगलवार को घोषणा की कि बुधवार से जो भी विदेशी चैनल ‘पाकिस्तान विरोधी’ कार्यक्रम दिखाएँगे उनको दिखाना बंद कर दिया जाएगा।

दिलचस्प बात यह है कि पाकिस्तान को इस गाली से उस वक्त तो कोई फर्क नहीं पड़ा जब यह डॉक्यूमेंट्री प्रसारित हुई थी, लेकिन अब जबकि नैटो हमले में दो दर्ज़न सैनिक मारे जा चुके हैं सबको पश्चिमी मीडिया में खोट नजर आने लगा है। हालांकि बाहरी तौर पर केबल ऑपरेटरों के संगठन ही बयान जारी कर रहे हैं, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि इसके पीछे सरकार और सरकारी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ है।

 

 

केबल ऑपरेटरों की संस्था ने पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी (पेमरा) से कहा – “यदि विदेशी चैनल देश के लिए नुक़सानदेह जानकारी प्रसारित करते पाए जाते हैं तो उनके लैंडिंग राइट्स यानी ऑपलोडिंग और प्रसारण के अधिकार रद्द कर दिए जाएँ।” बीबीसी के प्रवक्ता ने कहा, “हम ऐसी हर कार्रवाई की निंदा करते हैं जो हमारी संपादकीय स्वतंत्रता पर अंकुश लगाती है और हमारी निष्पक्ष अंतरराष्ट्रीय न्यूज़ सर्विस को जनता तक पहुँचने से रोकती है। हम आग्रह करेंगे कि बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ और अन्य अंतरराष्ट्रीय चैनलों को दोबारा जनता तक पहुँचने दिया जाए।”

बीबीसी की डॉक्यूमेंटरी ‘सीक्रेट पाकिस्तान’ में पाकिस्तान की तालिबान के चरमपंथ से लड़ने की प्रतिबद्धता पर सवाल उठाए गए हैं। अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसियों के अधिकारियों के हवाले से इसमें पाकिस्तान के कुछ लोगों पर आरोप लगाए गए हैं कि एक ओर वे सार्वजनिक तौर पर अमरीका के सहयोगी होने का दावा करते हैं और दूसरी ओर वे ख़ुफ़िया तरीके से अफ़ग़ानिस्तान के तालिबान के हथियार और प्रशिक्षण देते हैं। ग़ौरतलब है कि हाल में पाकिस्तान में अफ़ग़ान सीमा के पास नैटो सैनिकों के हमले में पाकिस्तान के 24 सैनिकों के मारे जाने के बाद पाकिस्तानी मीडिया में चल रही आलोचनाओं के बीच बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ को ब्लॉक करने का फ़ैसला लिया गया है।

देखें विवादास्पद डॉक्यूमेंट्री ‘सीक्रेट पाकिस्तान – डबल क्रॉस’ भाग -1

http://www.youtube.com/watch?v=JJdFqioR-YA

भाग -2

संबंधित खबरें:

नए दौर के गांधीवादी अन्ना को पसंद है हिंसा, टीवी पर दिए बयान को भी बताया झूठा नए दौर के गांधीवादी अन्ना को पसंद है हिंसा, टीवी पर दिए बयान को भी बताया झूठा(7)

जब नई दिल्ली में एक नौजवान ने कृषि मंत्री शरद पवार को चांटा रसीद किया तो यह ख़बर रालेगन सिद्धी भी पहुंची। अन्ना हजारे उसवक्त किसी दूसरे मसले पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। पत्रकारों ने उनकी बात खत्म हो जाने पर इस बारे में प्रतिक्रिया जानने की कोशिश की तो जवाब चौंकाने वाला मिला। अन्ना ने उठते-उठते पूछा, ”थप्पड़ मारा..? सिर्फ एक ही मारा..?”

कुछ दिन पहले ही शराब पीने वालों को खंभे से बांध कर पीटने की सिफारिश करने वाले ‘गांधीवादी’ अन्ना का शरद पवार से पुराना विरोध रहा है। जब पवार मुख्यमंत्री थे तो अन्ना हजारे ने कई मुद्दों पर बार-बार अनशन कर उनका खूब विरोध किया था। यह बात दीगर है कि शरद पवार के मुख्यमंत्रित्व काल में ही भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम छेड़े तत्कालीन म्युनिसिपल कमिश्नर जी आर खैरनार रालेगन पहुंचे तो उन्हें अन्ना सरकारी गाड़ियों पर घूमते और अपने घर पर सरकारी कर्मचारियों का इस्तेमाल कर काम-धाम करवाते नजर आए थे।

बाद में खैरनार ने बताया कि अन्ना अनशन करने में जो पानी पीते थे उसमें विटामिन मिला कर रखते थे और यही कारण था कि दस-दस दिन के उपवास के बाद भी वे ‘जोश में भरे’ नजर आते थे। खैरनार रालेगन गए तो थे इन समाजसेवी से पवार के खिलाफ साथ देने की मांग करने, लेकिन जब उन्होंने देखा कि अन्ना को खुद ही भ्रष्टाचार का मतलब नहीं मालूम है, तो वे दुखी होकर वापस चले आए।

अन्ना का एक और ‘गांधीवादी’ चेहरा तब सामने आया जब उन्होंने टेलीविजन कैमरों के सामने दिए गए अपने बयान को मीडिया की ‘साजिश’ करार दे दिया। एक चैनल को फोन पर इंटरव्यू देते वक्त वे साफ मुकर गए कि उन्होंने ऐसी कोई बात की थी। (देखें वीडियो)

महात्मा गांधी अपने पूरे जीवन में जिन दो बातों के लिए मशहूर रहे थे वो थे– ‘सत्य और अहिंसा’। लगता है अन्ना ने इन दोनों को ही ताक पर रख दिया है। ये नए दौर का गांधीवाद है जो किसी को सुधारने के लिए उसे खंभे से बाध कर पीटने की सिफारिश करता है, एक सरफिरे नौजवान के एक राजनेता को एक थप्पड़ मारने से संतुष्ट नहीं होता है और टीवी कैमरों के सामने दिए अपने बयान से मुकरने में झिझकता भी नहीं है।

क्या यही आदर्श जनता के सामने रखेंगे अन्ना?

 

संबंधित खबरें:

P7 न्यूज चैनल को नीरा राडिया ने दिलवाई थी मदेरणा और भंवरी की CD? P7 न्यूज चैनल को नीरा राडिया ने दिलवाई थी मदेरणा और भंवरी की CD?(4)

एक सितंबर से लापता एएनएम भंवरी देवी और पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा की कथित आपत्तिजनक सीडी सीबीआई को मिल गई है। एक तरफ सीबीआई कार्यालय में गुरुवार को पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा को सीबीआई उनकी सीडी दिखाकर पूछताछ कर रही थी, वहीं दूसरी ओर, पूरा प्रदेश P7  टीवी चैनल पर इस सीडी को देख रहा था। सवाल यह उठता है कि जब आजतक, स्टार न्यूज, इंडिया टीवी ऐर ज़ी न्यूज जैसे धुरंधर इस सीडी को नही खोज पाए तो यह एक कम चर्चित और छोटे से चैनल P7 को कैसे मिल गई?

बताया जाता है कि P7 को यह सीडी उसका पीआर देख रही विवादास्पद लॉबिस्ट नीरा राडिया ने दिलवाई थी। ऐसा समझा जा रहा है कि सीडी सामने आने से P7  के साथ-साथ राडिया के भी हित सध रहे हैं।

पर्ल्स राजस्थान की राजधानी जयपुर में बतौर चिटफंड कंपनी रजिस्टर्ड है। पिछले दिनों जब ग्रुप के खिलाफ देश भर में कार्रवाई शुरु हुई तो राजस्थान सरकार ने भी शिकंजा कसना शुरु कर दिया था। बाद में कंपनी ने राडिया की वैष्णवी कम्युनिकेशंस को अपनी छवि सुधारने का ठेका दिया तो कई मीडिया घरानों और एजेंसियों को करोड़ों रुपए के विज्ञापन और चढ़ावे से मामला मैनेज किया गया।

सीडी के प्रसारण के बाद मदेरणा के पास एएनएम भंवरी से संबंध स्वीकार करने के अलावा कोई दूसरा रास्ता बचा ही नहीं था। ऐसे में माना जा रहा है कि मदेरणा ने भंवरी से संबंध स्वीकार कर लिए हो, लेकिन भंवरी के अपहरण और हत्या की आशंका में शामिल होने से इनकार किया हो। सीबीआई ऑफिस के बाहर संवाददाताओं ने मदेरणा से बात करनी चाही तो उन्होंने इनकार कर दिया। सीबीआई ने इस मामले में शुक्रवार को बंद लिफाफे में हाईकोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट पेश कर दिया और महिपाल को दुबारा पूछताछ के लिए बुलाएगी।

देखें P7 पर प्रसारित सीडी की झलकियां :

भंवरी प्रकरण में सीबीआई ने गुरुवार को पहली बार पूर्व जल संसाधन मंत्री महिपाल मदेरणा को पूछताछ के लिए बुलाया। दिग्गज कांग्रेसी नेता परसराम मदेरणा के पुत्र महिपाल सीबीआई के नोटिस पर सुबह करीब 11:30 बजे सीबीआई के लालसागर स्थित कार्यालय पहुंचे। मदेरणा से दोपहर साढ़े तीन बजे तक पूछताछ की गई। इसके बाद मदेरणा अपनी कार में बैठ गए थे, लेकिन इस दौरान सीबीआई अधिकारियों ने उन्हें रोक लिया और फिर से पूछताछ के लिए अंदर बुला लिया।

फिर शाम करीब छह बजे तक पूछताछ हुई। इसके बाद मदेरणा अपनी कार में बैठकर वहां से रवाना हो गए। उन्हें शुक्रवार को पूछताछ के लिए फिर बुलाया जाएगा। इस दौरान सीबीआई ने निलंबित सब इंस्पेक्टर लाखाराम को पहले से बुला रखा था और दोनों से अलग-अलग पूछताछ करने के बाद आमने-सामने बैठाकर भी पूछताछ की गई। लाखाराम के भंवरी व मदेरणा से अच्छे रिश्ते रहे हैं। इसी की दुहाई देकर लाखाराम ने दोनों के बीच समझौता कराने में अहम भूमिका निभाई थी।

मदेरणा से पूछताछ के बाद इस प्रकरण में अब तक पर्दे के पीछे छिपे कई और राज सामने आ सकते हैं। भंवरी व महिपाल की कथित आपत्तिजनक सीडी के सामने आने से सियासी हलकों में खलबली मच गई है। सीडी में साफ दिख रहा है कि महिपाल व भंवरी के काफी अंतरंग रिश्ते रहे। संभवतया इसी सीडी से महिपाल को ब्लैकमेल किया जा रहा था। आशंका यह भी है कि इसी सीडी के चलते एएनएम भंवरी का अपहरण किया गया। लंबे समय से अफवाहों का बाजार भी गर्म है कि भंवरी अब इस दुनिया में नहीं है।

भंवरी अपहरण प्रकरण में अनुसंधान पर राजस्थान हाईकोर्ट की पूरी नजर है। पुलिस के शिथिल अनुसंधान पर हाईकोर्ट ने नाराजगी जताते हुए सरकार पर कड़ी टिप्पणी की थी। तीन नवंबर को हाईकोर्ट ने इस मामले में सीबीआई से प्रगति रिपोर्ट मांगी थी, लेकिन सीबीआई ने दो सप्ताह का समय मांगा था। हाईकोर्ट ने 11 नवंबर को इस मामले में स्टेटस रिपोर्ट पेश करने को कहा था। सीडी के प्रसारण से गहलोत सरकार के साथ-साथ सीबीआई पर भी दबाव बन गया है।

भंवरी अपहरण प्रकरण में अब तक तीन ऑडियो और एक कथित आपत्तिजनक सीडी सामने आ चुकी है। भंवरी प्रकरण में अब तक शहाबुद्दीन, सोहनलाल व बलदेव को गिरफ्तार किया जा चुका है। लूणी से कांग्रेस विधायक मलखान सिंह विश्नोई की बहन इन्द्रा विश्नोई, भाई परसराम विश्नोई और परसराम की पत्नी बिलाड़ा प्रधान कुसुम विश्नोई से पूछताछ की जा चुकी है। पूछताछ शहाबुद्दीन की कथित प्रेमिका रेहाना से भी की गई है।

ऑडियो सीडी में विधायक मलखान का भी नाम आया है। संभावना है कि अगली कड़ी में सीबीआई मलखान से पूछताछ करे। इस मामले में पूर्व उप जिला प्रमुख सहीराम विश्नोई को कोर्ट ने भगोड़ा घोषित कर दिया है। सीबीआई ने उस पर एक लाख रुपए का इनाम रखा हुआ है। वहीं भंवरी की सूचना देने वाले को पांच लाख रुपए का इनाम देने की घोषणा की जा चुकी है।

एक न्यूज चैनल पर दिखाई जा रही भंवरी व मदेरणा की कथित आपत्तिजनक सीडी सीबीआई के पास है। इसकी जांच की जा रही है। मदेरणा से गुरुवार को पूछताछ की गई, उन्हें शुक्रवार को फिर बुलाया जाएगा।

संबंधित खबरें:

दिवाली पर हुआ धमाका : पूनम पाण्डेय की वेबसाईट हुई ऑन, लेकिन कमियां बरकरार दिवाली पर हुआ धमाका : पूनम पाण्डेय की वेबसाईट हुई ऑन, लेकिन कमियां बरकरार(5)

किंगफिशर मॉडल पूनम पांडेय की वेबसाइट यानि www.poonampandey.co.in कई दिनों तक गायब रहने के बाद अचानक दीपावली की रात वापस ऑन हो गई। 19 अक्टूबर के बाद एक-दो दिनों तक तो यह ‘अंडर कंस्ट्रक्शन’ यानि निर्माणाधीन दिखती रही लेकिन 24 अक्टूबर से तो पूरी तरह गायब हो गई थी। नई वेबसाइट में ट्विटर, फेसबुक, फोटो, वीडियो और न्यूज़ के लिंक भी दिए गए हैं, लेकिन सभी पूरी तरह चालू नहीं हैं।

 

 

 

 

 

वर्ल्ड कप के दौरान भारतीय क्रकेट टीम के लिए कपड़े उतार देने का ऐलान करने वाली पूनम खुद को क्रिकेट की दीवानी बताती हैं और उनका मानना है कि वो जो कुछ भी करती हैं, भारतीय क्रिकेट टीम के लिए भाग्यशाली साबित होता है। हाल ही में जारी अपने वीडियो को भी उन्होंने भारतीय टीम की जीत से जोड़ कर मीडिया में बयान दिए। यह अलग बात है कि उनके बयानों को भारतीय टीम के किसी खिलाड़ी ने कोई खास तवज्जो नहीं दी।

 

 

 

 

 

इसके बाद पूनम ने एक नया शिगूफा छोड़ा यूट्यूब पर चोरी-छिपे अपलोड हुए वीडियो की चर्चा कर के। उनका कहना था कि किसी ने उनकी शूटिंग के दौरान चुपके से तस्वीरें उतार कर यूट्यूब पर डाल दी हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

पूनम अपनी शोख अदाओं के अलावा अपने बिंदास बयानों की वजह से भी ज्यादा चर्चा में रही हैं। वे अपने बारे में खासे बोल्ड बयान देती रही हैं। इंडस्ट्री के विश्लेषक उन्हें मल्लिका शेहरावत के नक्शे कदम पर चलने वाला मानते हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

जब बहुचर्चित टीवी शो बिग बॉस शुरु हुआ तो इसके आयोजकों ने इस सेक्सी बाला के जरिए अपनी टीआरपी बढ़ाने की सोची और पूनम से उन्हें घर में बुलाने की बातें भी हुईँ, लेकिन कहते हैं उन्होंने अपने जलवे दिखाने के लिए दो करोड़ रुपयों की मांग कर डाली। बिग बॉस में इस बार सुंदरियों का हुजूम लगा है, इसलिए पूनम को न्यौता नहीं भेजा गया। उधर पूनम तब तक मीडिया में अपने शो में भागीदारी की चर्चा करवा चुकी थीं। आखिरी दिन भी जब बग बॉस के आयोजकों ने पूनम के नाम का ऐलान नहीं किया तो उन्होने इसका बदला निकालने की दूसरी तरकीब अपनाई।

 

 

 

 

 

पूनम पांडेय ने झट-पट एक वेबसाइट लांच करने की घोषणा कर डाली और मीडिया को बताया कि इसके जरिए उनके फैन्स को वह ‘सब कुछ’ देखने का मौका मिल जाएगा जो वह देखने की तमन्ना रखते हैं। पूनम ने इस वेबसाइट का नाम भी अपने नाम पर www.poonampandey.co.in रखा और इसके मुख पृष्ठ पर लिखवाया- ”थोड़ा इंतजार करें।”

 

 

 

 

 

 

 

 

पूनम ने अपने वेबसाइट के प्रचार हेतु एक के बाद एक करके तीन गरमागरम वीडियो भी जारी किए। पहले वीडियो का नाम रखा गया ‘बाथरुम सीक्रेट्स।’ इससे पहले भी पूनम यूट्यूब पर हिट रह चुकी हैं, लेकिन तब उन्होंने खुद अपना वीडियो अपलोड नही करवाया था।

 

 

 

इसके फौरन बाद पूनम पांडेय ने ‘मिरर ऐक्ट’ के नाम से एक और वीडियो जारी कर दिया। यह वीडियो पूनम के लिंक पर से यूट्यूब ने हटा दिया। बिग बॉस की तर्ज पर ऑटोमेटेड कैमरों से फिल्माए गए इस वीडियो में वैसे तो ज्यादातर जगह सफेद बिकिनी पहने नजर आती हैं, लेकिन एक-दो जगह बॉडी कलर की ब्रा पहने हुए भी हैं। बताया जाता है कि यूट्यूब को ‘किसी ने’ उन्हीं दृश्यों के बारे में शिकायत की थी और उसे हटा लिया गया। वजह चाहे जो भी रही हो, बैन होने के बाद भी यह कई लिंको पर उपलब्ध रही और हिट भी।

 

 

 

 

 

इसके बाद पूनम पांडेय ने एक फर वाली ब्लाउज, और दो जुराबें, उतारने में 8 मिनट 12 सेकेंड का समय लगा डाला अपने तीसरे वीडियो ट्रेलर में। पूनम पांडेय की वेबसाइट पर तो यह वीडियो प्राइवेट वीडियो की कैटेगरी में है जिसे वहां देखना हर किसी के लिए संभव नहीं है, लेकिन यह यूट्यूब पर आसानी से अन्य कई  लिंकों पर उपलब्ध है। इस वीडियो में पूनम पांडेय ने बिग बॉस में अब तक जगह न मिलने की कमी को पूरा करने की हर संभव कोशिश की है।

 

 

 

इन ट्रेलर के जरिए अपनी वेबसाइट को प्रमोट करने वाली पूनम ने मीडिया को दीपावली पर इससे भी कई गुना बड़ा धमाका करने की घोषणा की थी और चार-पांच दिनों तक लापता रहने के बाद उनकी साइट वापस भी आ गई लेकिन लगता है उनके वेब प्रोग्रामर और डिजाइनर पूरी तरह तैयार नहीं हैं। लापता होने से पहले पूनम की वेबसाइट कुछ ऐसी दिखती थी।

संबंधित खबरें:

सवा आठ मिनट में पूनम ने उतारे तीन कपड़े : देखें तीसरा ट्रेलर ‘प्राइवेट वीडियो’ सवा आठ मिनट में पूनम ने उतारे तीन कपड़े : देखें तीसरा ट्रेलर ‘प्राइवेट वीडियो’(1)

एक फर वाली ब्लाउज, और दो जुराबें, जी हां, बस इन्हीं तीन कपड़ों को उतारने में पूनम पांडेय को करीब सवा आठ मिनट (8-12 ) का समय लग गया अपने तीसरे वीडियो ट्रेलर में। पूनम पांडेय की वेबसाइट पर तो यह वीडियो प्राइवेट वीडियो की कैटेगरी में है जिसे वहां देखना हर किसी के लिए संभव नहीं है, लेकिन यह यूट्यूब पर आसानी से अन्य कई  लिंकों पर उपलब्ध है। इस वीडियो में पूनम पांडेय ने बिग बॉस में अब तक जगह न मिलने की कमी को पूरा करने की हर संभव कोशिश की है।

गौरतलब है कि पूनम पांडेय अपने वीडियो ट्रेलर अपनी वेबसाइट www.poonampandey.co.in के प्रमोशन के लिए कर रही हैं। पिछले एक हफ्ते में वे अपने दो गरमा-गरम वीडियो ट्रेलर  जारी कर चुकी हैं और बकौल उन्हीं के, ये तो महज़ झलकी भर है। असल हॉट वीडियो तो उनकी वेबसाइट पर आएगा।

देखें वीडियो

 

 

संबंधित खबरें:

Youtube पर बच्चे भी देख सकते हैं पूनम पाण्डेय का ‘Ban’ किया गया Video Youtube पर बच्चे भी देख सकते हैं पूनम पाण्डेय का ‘Ban’ किया गया Video(3)

ऐसा लगता है मॉडल पूनम पांडेय पब्लिसिटी के सारे पैंतरे अपना कर रियलिटी शो बिग बॉस के मुकाबले मोर्चा खोल चुकीं हैं। एक तरफ जहां शो में तीसरे मर्द के एंट्री की खबर आई वहीं अब तक इस घर में प्रवेश पाने से वंचित रही पूनम अपने नए वीडियो के तथाकथित बैन के जरिए इंटरनेट पर फैन्स बटोरने में जुटी हैं। पूनम ने दावा किया है कि उनका नया वीडियो इतना ‘हॉट’ है कि यूट्यूब ने उसे ‘बैन’ कर दिया है। खास बात यह है कि पूनम का यह तथाकथित प्रतिबंधित वीडियो यूट्यूब पर ही उपलब्ध है और लोकप्रियता की नई उचाइयां छूने की तैयारी में है।

पूनम ने अभी हाल ही में ‘माई बाथरूम सीक्रेट्स’ नाम से एक वीडियो लॉन्च किया था। इस वीडियो के दृश्य खासे हॉट और उत्तेजक थे, लेकिन इस इंटरनेट क्वीन ने इसे मात्र एक ट्रेलर बताया था और वायदा किया था कि वह इससे भी अधिक उत्तेजक वीडियो लॉन्च करेंगी। शायद पूनम समझ गई थी कि यूट्यूब पर अश्लील वीडियो हटा दिए जाते हैं और यही एक्सपोज़र का पैमाना भी है। यही वजह है कि पूनम पांडेय ने रविवार को खुद बताया कि उनके नए वीडियो को यू ट्यूब ने बैन कर दिया है। पूनम ने ट्वीट किया है, ‘‘मेरा दूसरा ट्रेलर ‘द मिरर ऐक्ट’ यू ट्यूब ने बैन कर दिया है।’’

पूनम पांडेय की वेबसाइट पर भी साफ लिखा है कि ‘द मिरर ऐक्ट’ यू ट्यूब की नीतियों के खिलाफ है और इसकी सामग्री आपत्तिजनक है, इस वजह से इस वीडियो को हटा दिया गया है। यह बात अलग है कि इस वीडियो के 59 सेकेंड के ट्रेलर और 3 मिनट 44 सेकेंड के पूरे वीडियो, दोनों ही बड़े आराम  से यूट्यूब पर उपलब्ध हैं। जाहिर है जब वीडियो यूट्यूब पर है तो ‘अश्लीलता और बैन’ की बात महज़ पब्लिसिटी स्टंट भर है। इन वीडियो को तो पिछली बार की तरह एडल्ट श्रेणी में भी नहीं रखा गया है।

इस वीडियो में यह दिखाया गया है कि बिग बॉस में पूनम क्या कर दिखाने की हिम्मत रखती हैं। ठीक बिग बॉस की तर्ज पर ऑटोमेटेड कैमरों से फिल्माए गए इस वीडियो में वैसे तो ज्यादातर जगह सफेद बिकिनी पहने नजर आती हैं, लेकिन एक-दो जगह बॉडी कलर की ब्रा पहने हुए भी हैं। बताया जाता है कि यूट्यूब को किसी ने उन्हीं दृश्यों के बारे में शिकायत की थी और उसे हटा लिया गया। ट्रेलर में इस दृश्य को काट दिया गया है।

गौरतलब है कि पूनम पाण्डेय का बाथरुम वीडियो इंटरनेट पर जबरदस्त तरीके से हिट हुआ है। इसे मिल रहे जबरदस्त रिस्पांस का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि वेबसाइट कई बार क्रैश हो गई। पूनम ने दावा किया है कि दो ही दिनों में दुनिया भर के लगभग 70 लाख लोगों ने उसका बाथरुम वीडियो देख डाला।

मुख्य वीडियो

कट्स लगा हुआ ट्रेलर

संबंधित खबरें:

”बिना मर्दों के रहना भी मुश्किल, लेकिन नहीं होती उनकी कोई इज्ज़त”: प्रियंका चोपड़ा; वीडियो देखें ”बिना मर्दों के रहना भी मुश्किल, लेकिन नहीं होती उनकी कोई इज्ज़त”: प्रियंका चोपड़ा; वीडियो देखें(7)

हाल ही में बॉलीवुड की सबसे अच्छे कपड़े पहनने वाली अभिनेत्री का खिताब जीत चुकी प्रियंका चोपड़ा ज़ुमलों की नंगई पर उतर आईं हैं। उन्होंने मुंबई में हुए एक आयोजन के बाद पत्रकारों से बातचीत में कह डाला कि मर्द ‘इज्ज़तदार’ नहीं होते।

27 वर्षीया प्रियंका चोपड़ा फिल्म इंडस्ट्री में किसी परिचय की मोहताज़ नहीं हैं। सन् 2000 में मिस वर्ल्ड चुने जाने के बाद दक्षिण भारतीय फिल्मों के जरिए बॉलीवुड में एंट्री मारने वाली प्रियंका अब तक करीब 40 फिल्मों में काम कर चुकी हैं। वे एक बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और तीन बार फिल्मफेयर अवार्ड भी जीत चुकी हैं। जमशेदपुर (अब झारखंड) में जन्मी और बरेली में पली-बढ़ी इस खूबसूरत बाला का नाम अब तक कई मर्दों के साथ जुड़ चुका है, लेकिन फिलहाल वे अकेली हैं।

इस साल तीन फिल्में दे चुकी प्रियंका की अगले साल चार फिल्में आने को तैयार हैं और उन्हें बॉलीवुड के सबसे व्यस्त कलाकारों में से माना जाता है। हाल ही में उन्होंने अपने ताजा बयान में यह कह कर सब को चौंका दिया है कि वे अब आराम करने के मूड में हैं।

मर्दों को ‘बिना इज्ज़त का’ बताने वाला बयान उन्होंने मैक्ज़िम पत्रिका के कवर पर ‘हॉटेस्ट गर्ल’ के तौर पर जगह बनाने के बाद दिया है। जब एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि उन्हें मर्दों की पत्रिका में कवर गर्ल बनने का सम्मान प्राप्त कर कैसा लग रहा है, तो उन्होंने तपाक से उल्टा सवाल दागा, ”पुरुष कब से ‘सम्मानीय’ होने लगे?” हालांकि औरतों के मर्दों के साथ रिश्ते को उन्होंने अजीब करार दिया और कहा कि वे पुरुषों के साथ भी नहीं रह सकतीं, उनके बगैर भी नहीं रह सकतीं।

देखें वीडियो

संबंधित खबरें:

क्या अपनी नई वेबसाइट पर न्यूड होने की तैयारी में हैं पूनम पांडे? जारी किया बाथरूम का वीडियो क्या अपनी नई वेबसाइट पर न्यूड होने की तैयारी में हैं पूनम पांडे? जारी किया बाथरूम का वीडियो(7)

पूनम पांडेय की वेबसाइट को आधिकारिक तौर पर लांच होने में अभी तीन दिन बाकी हैं, लेकिन अभी ही उसकी भारतीय अलेक्सा रैंकिंग नौ हजार से भी आगे आ गई है। दुनिया भर की वेबसाइटों के बीच रैंकिंग हालांकि अभी बहुत अच्छी नहीं पहुंची है, लेकिन साइबर वर्ल्ड के खिलाड़ियों का कहना है कि एक महीने के छोटे से समय में इतनी जोरदार उछाल बहुत कम वेबसाइटों को मिलती है। www.poonampandey.co.in नाम की यह वेबसाइट सितंबर की शुरुआत में अपलोड हुई है। शायद इसकी लोकप्रियता ही कारण है कि पूनम के इस वेबसाइट पर अभी से विज्ञापन दिखने लगे हैं। खबर है कि कई बड़ी विज्ञापन एजेंसियों के पास अभी से आगामी महीनों में विज्ञापन देने वालों की बुकिंग हो चुकी है।

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए अपने कपड़े उतारने की घोषणा कर सनसनी फैला चुकी पूनम इस वेबसाइट पर क्या परोसेंगी इसकी झलक वो पहले ही दे चुकी हैं। हालांकि यूट्यूब पर उन्होंने अपना वीडियो ‘एडल्ट’ यानि वयस्कों की श्रेणी में डाल रखा है, लेकिन अपनी वेबसाइट पर सबसे उपर लगे एक खास स्क्रीन में इसे बिना किसी रोक-टोक के देखा जा सकता है। करीब चार मिनट (3 मिनट 53 सेकेंड) के अपने वीडियो में पूनम ने क्रिकेट मैच के समय किया गया अपना वादा तो नहीं निभाया है, लेकिन एक छोटे से बाथरुम में ‘बिकिनी बाथ’ का जो प्रदर्शन किया है उसे ‘गरमा-गरम’ कह कर प्रचारित किया जा रहा है।

पूनम को वैसे तो बॉलीवुड में कोई खास नाम नहीं मिल पाया है, लेकिन वे मॉडलिंग की दुनिया में खासी शोहरत बटोर चुकी हैं। 20 वर्षीया पूनम इस साल यानि सन 2011 के बहुचर्चित किंगफिशर कैलेंडर पर भी अर्धनग्न दिख चुकी हैं। इसके अलावा वे रियलिटी शो खतरों के खिलाड़ी- सीजन-4 के जरिए छोटे पर्दे पर भी अपनी एंट्री मार चुकी हैं। उनके बिग बॉस सीजन-5 में भी आने की चर्चा थी, लेकिन आखिरी समय में उन्हें जगह नहीं मिली। पूनम के करीबी सूत्रों का कहना है कि यह वेबसाइट अभी लॉंच कर के वे बिग बॉस के आयोजकों को अपना ‘कद’ दिखाना चाहती हैं।

फिल्म इंडस्ट्री के जानकारों का कहना है कि पूनम पांडेय भी उसी तर्ज़ पर चल रही हैं जिस पर कुछ साल पहले मल्लिका शेहरावत चल कर सफलता के झंडे गाड़ चुकी हैं।  वे किसी ना किसी कारण से हमेशा चर्चा में बनी रहती हैं। जून में उनके किसी शुभचिंतक ने यू ट्यूब पर एक एमएमएस अपलोड कर दिया था तब भी इसे देखने के लिए लोगों में होड़ मच गई। उस समय बताया गया था कि एक फोटो शूट के लिए वे कास्ट्यूम चेंज कर रही थीं और उनकी इस क्रिया को किसी ने चुपके से शूट कर अपलोड कर दिया।

पूनम ने न सिर्फ ट्विटर पर इस वीडियो का लिंक बांट दिया था बल्कि अपने फेसबुक के पेज पर भी इसे डाल दिया। इंटरनेट पर सबसे ज्यादा डाउनलोड की जाने वाली मॉडल पूनम ने ट्वीट किया था, ”पूनम पांडे के एमएमएस को देखें… समझ नहीं आ रहा कि इस पर कैसे रिएक्ट करूं… मैं एक मैगजीन के लिए बिकीनी में शूट कर रही थी , तभी किसी ने छुपकर इसे बना दिया और पोस्ट कर दिया।” उस वक्त उनके यूट्यूब लिंक को दो दिनों में ही 25 हजार हिट्स मिल गए थे।

हालांकि हर बार फुल न्यूड होने का दावा करने वाली पूनम ने अब तक अपनी घोषणा पर कभी अमल नहीं किया है, लेकिन लगता है वे अपनी वेबसाइट की लोकप्रियता के लिए ऐसा भी कर गुजरेंगी। लेकिन तब उन्हें यूट्यूब पर जगह नहीं मिलेगी क्योंकि उसकी अपनी सीमाएं हैं। शायद पूनम अपनी नई वेबसाइट इसीलिए लॉंच कर रही हैं।

संबंधित खबरें:

मीडिया में सब को पता था प्रशांत भूषण को देशद्रोही बयान पर मिलेगी लात-घूंसों की सज़ा मीडिया में सब को पता था प्रशांत भूषण को देशद्रोही बयान पर मिलेगी लात-घूंसों की सज़ा(3)

पिछले कई दिनों से भगत सिंह क्रांति सेना नाम के एक संगठन के युवा अध्यक्ष तेजेंदर पाल सिंह बग्गा, श्रीराम सेना की दिल्ली इकाई के नौजवान अध्यक्ष इन्दर वर्मा और दोनों के विचारों से प्रभावित एक और किशोर विष्णु गुप्ता मीडिया के अपने संपर्कों से प्रशांत भूषण के किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में जाने की जानकारी प्राप्त कर रहे थे। कई पत्रकारों से उन्होंने इसके बारे में पूछा था कि टीम अन्ना के इस अहम सदस्य को कैसे और कहां पकड़ा जा सकता है। बुधवार को भूषण के टीवी इंटरव्यू चलने और कैमरा मौजूद रहने की भी उन्हें पुख्ता जानकारी थी। सवाल यह उठता है कि क्या इस हादसे (या ड्रामे) की जानकारी मीडिया को पहले से थी और वह लाइव फुटेज़ की लालच में चुप था? सवाल यह भी है कि क्या पत्रकारों ने इसकी चेतावनी पहले दे दी थी और वकील साहब ने जान-बूझ कर लात खाई?

 

दरअसल दोनों ही संगठन खुद को देशभक्त मानने वाले ऐसे नौजवानों के हैं जो अन्ना आंदोलन के हिंदूवादी योग गुरु बाबा रामदेव से दूरी बनाने के पैंतरे से उसकी ‘असलियत’ समझ लेने का दावा कर रहे थे। इन संगठनों का मानना है कि टीम अन्ना कांग्रेस के इशारे पर ही काम कर रही है। दोनों के फेसबुक प्रोफाइल पर जाएं तो उनकी विचारधारा की भी धलक मिलती है जिसके मुताबिक राहुल गांधी के पक्ष में जनमत बनाना ही अन्ना के आंदोलन का मूल मकसद है। दोनों संगठन, खास कर भगत सिंह क्रांति सेना के सदस्य एक अर्से से फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों के माध्यम से टीम अन्ना के अन्य सदस्यों की ‘पोल खोलने’ में जुटे हैं।

भगत सिंह क्रांति सेना कुछ महीने पहले तब चर्चा में आया था जब लेखक खुशवंत सिंह ने अपने पिता सर शोभा सिंह के नाम पर विंडसर प्लेस का नाम रखने की मुहिम चला रखी थी। यह ऐतिहासिक तथ्य है कि सर शोभा सिंह ने असेंबली बम कांड मामले में शहीद भगत सिंह के खिलाफ अदालत में गवाही दी थी। उस वक्त किसी भी राजनीतिक दल ने इस मुद्दे पर साफ सफ कुछ भी कहने से बचने की कोशिश की थी, तब सिर्फ इसी सेना ने जंतर-मंतर पर धरना दिया था। बाद में हंगामा बढ़ने पर मनमोहन सिंह सरकार ने विवादास्पद लेखक के बदनाम पिता के नाम पर किसी भी सार्वजनिक स्थल  का नामकरण करने से मना कर दिया था।

भगत सिंह क्रांति सेना के अध्यक्ष तेजेंदर पाल सिंह बग्गा का परिवार मूल रूप से बिहार के रहने वाला है और एक अर्से से दिल्ली में बसा हुआ है। एक सिख होने के बावजूद बग्गा का मानना था कि दो सिख (खुशवंत सिंह और मनमोहन सिंह) अपने धर्म के लोगों के दिलों की भावनाएं नहीं समझते हैं। प्रशांत भूषण की पिटाई पर बग्गा ने ट्विटर, फेसबुक और एसएमएस के जरिए न सिर्फ इस कांड की जिम्मेदारी ली बल्कि हमले में शामिल रहे इंदर वर्मा के परिवार को सरिता विहार में और अपने पिता को तिलक नगर में पुलिस द्वारा उठाए जाने की भी जानकारी दी। बग्गा ने बड़े उत्साह में फोन पर प्रशांत भूषण की पिटाई की जानकारी देते हुए बताया, ”उसने हमारे देश को तोड़ने की कोशिश की, मैंने उसका सिर तोड़ने की कोशिश की.. हिसाब बराबर..”

 

दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस के कुछ नेता प्रशांत भूषण की पिटाई पर खुशी जता रहे हैं, जबकि हकीकत ये है कि बग्गा और उनके साथी टीम अन्ना के सदस्यों से जितनी नफरत करते हैं उससे कहीं ज्यादा घृणा वे अन्ना के खिलाफ मोर्चा खोले कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह के प्रति रखते हैं। फेसबुक पर ये ग्रुप उन्हें ‘पिग’-विजय कह कर बुलाता है। कुछ दिनों पहले उनके संगठन ने सुब्रहमण्यम स्वामी के घर पर हुए हमले के खिलाफ पुलिस स्टेशन पर धरना भी दिया था और उनके ताजा रहस्योद्घाटनों को प्रचारित करने में भी जुटा था।

 

प्रशांत भूषण की पिटाई में गिरफ्तार हुए इंदर वर्मा मूल रूप से पंजाव के जालंधर के निवासी हैं, लेकिन काफी अर्से से दिल्ली में हैं। कुछ ही महीने पहले उन्हें श्रीराम सेना की दिल्ली इकाई का अध्यक्ष बनाया गया था और यह ताजपोशी हिन्दुस्थान मोर्चा के अध्यक्ष व पूर्व सांसद बीएल शर्मा ‘प्रेम’ के हाथों बाकायदा एक समारोह आयोजित कर हुई थी। श्रीराम सेना ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति में साफ लिखा है कि यह पिटाई प्रशांत भूषण के देश विरोधी बयान के कारण की गई है।

 

प्रेस विज्ञप्ति में इन्द्र वर्मा के बयान के मुताबिक, “प्रशांत भूषण का कश्मीर पर दिया गया भारतीय विरोधी बयान असहनीय है। हमारी सेना और सुरक्षाबलों के खिलाफ अनर्गल बयान देने वाले दुश्मन के एजेंट के समान है। हमें हैरानी है कि हमारी देश की राष्ट्रपति जो तीनों सेनाओं की सुप्रीम कमांडर है, प्रशांत भूषण जैसे लोगों को देखते ही गोली मरने का आदेश क्यों नहीं देती। खैर हम भारत वासियों के भी कुछ फ़र्ज़ है। हमें ऐसे देशद्रोही को सबक सिखाना ही होगा। जय हिंद-जय हिंद की सेना।”

 

प्रेस विज्ञप्ति में आगे लिखा है कि प्रशांत भूषण, जो टीम अन्ना के सदस्य हैं, ने कश्मीर पर बयान दिया था कि “कश्मीर से सेना हटाई जाए क्योंकि भारतीय सेना वहां पर अत्याचार कर रही है।” भूषण ने ये भी कहा था कि कश्मीरियों को आत्मनिर्णय का अधिकार मिलना चाहिए। प्रशांत भूषण ने इरोम शर्मीला के साथ सुर मिलाते हुए AFSPA का भी विरोध किया था।

सवाल यह है कि जब मीडिया में सब को पता था तो क्या एक वर्ग की सहानुभूति बग्गा और उसके साथियों के साथ थी जिसने उनकी मदद की? या फिर जाने-अनजाने ही बग्गा और उनके साथियों ने अपने संदेश को फैलाने के लिए मीडिया का इस्तेमाल किया? अगर ऐसा है तो मीडिया में भी कई लोग हैं जिन्हें इस्तेमाल होने पर गर्व है।

 

संबंधित खबरें:

प्रसिद्ध खबरें..

  • Sorry. No data yet.
Ajax spinner

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.