Loading...
You are here:  Home  >  'violence'
Latest

पूर्वोत्तर के निवासियों का शेष भारत से खौफज़दा होकर पलायन..

By   /  August 17, 2012  /  देश  /  2 Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..खुद पर हमले से भयभीत पूर्वोत्तर के भारतीयों ने आंध्र प्रदेश, कर्नाटक व महाराष्ट्र से पलायन शुरू कर दिया है. पूर्वोत्तर के लोगों को धमकी भरे एसएमएस मिल रहे हैं. इससे लोगों का पलायन बढ़ रहा है. मुंबई से करीब डेढ़ हजार लोग गुवाहाटी एक्सप्रेस से असम की […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

गुजरात दंगे को ना भूल पाने वाले मीडिया को नज़र नहीं आया असम दंगा…

By   /  July 28, 2012  /  मीडिया  /  6 Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..जिस मीडिया ने गुजरात दंगों के भूत को महज नरेन्द्र मोदी की बुराई करने के लिए इतने सालों से जिन्दा रखा है और मौके बेमौके गुजरात दंगों पर अपनी सड़ी बासी रिपोर्ट को नया मुलम्मा, नयी चाशनी चढा कर पेश करता रहता है. उसी मीडिया को असम के […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

आखिर ये दंगे होते ही क्यों है…

By   /  July 28, 2012  /  मीडिया  /  4 Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..– राजीव गुप्ता|| 1948 के बाद भारत में पहला सांप्रदायिक दंगा 1961 में  मध्यप्रदेश के जबलपुर शहर में हुआ ! उसके बाद  से अब तक  सांप्रदायिक दंगो की झड़ी सी लग गयी !  बात चाहे 1969 में गुजरात के दंगो  की हो , 1984 में सिख विरोधी हिंसा की हो, 1987 में मेरठ के दंगे हो जो लगभग दो […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

आसाम के दंगों का जिम्मेदार कौन….

By   /  July 25, 2012  /  राजनीति  /  1 Comment

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..इसे आसाम का दुर्भाग्य ही कहा जायेगा कि कभी वह भीषण बाढ़ की चपेट में आता है और लाखों असमी नागरिक बेघरबार हो जाते हैं. बाढ़ पीड़ित दुबारा अपना आशियाना बसा पायें उससे पहले ही गुवाहाटी में एक लड़की के साथ कुछ लोग दरिंदों की तरह बर्ताव कर […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Latest

गुवाहाटी की वह बेख़ौफ़ भीड़ हमारे अपने समाज का चरित्र है, सम्मान नैतिकता का पाठ पढ़ा देने से नहीं आता

By   /  July 22, 2012  /  बहस  /  2 Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..-चंद्रकांता|| महिलाओं को घूरना, छेडखानी करना, सार्वजनिक स्थानों पर फब्तियां कसा जाना, उन्हें लेकर चुटकुलेबाजी इन सबकी सामाजिक स्वीकार्यता इतनी अधिक है कि अभियुक्त तो इन्हें अपराध मानता ही नहीं है इनकी बेलाग बारंबारता (फ्रीक्वेंसी) से महिलाए भी इनकी अभ्यस्त हो गयी हैं. भीड़ का यह रूप एक […]


इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: