नई दिल्‍लीः सौ बरस के सफर की कुछ झलकियां

– नलिन चौहान ।।

तीसरे दिल्ली दरबार का एक ऐतिहासिक चित्र

किसी भी भारतीय को यह जानकर हैरानी होगी कि आज की नई दिल्ली किसी परंपरा के अनुसार अथवा स्वतंत्र भारत के राजनीतिक नेताओं की वजह से नहीं, बल्कि एक सौ साल (1911) पहले आयोजित तीसरे दिल्ली दरबार में ब्रिटेन के राजा किंग जॉर्ज पंचम की घोषणा के कारण देश की राजधानी बनी…

लॉर्ड हॉर्डिंग ने लिखा है कि अपने समृद्ध प्राचीन इतिहास के बावजूद जिस समय दिल्ली को राजधानी बनने का मौक़ा दिया गया, उस समय वह किसी भी लिहाज़ से एक प्रांतीय शहर से ज़्यादा नहीं थी। लॉर्ड कर्जन के बंगाल विभाजन की घोषणा (1903) के बाद से ही इसका विरोध कर रहे और एकीकरण की मांग को लेकर आंदोलनरत बंगालियों की तरह दिल्ली वालों ने कोई मांग नहीं रखी और न कोई आंदोलन छेड़ा। किंग जॉर्ज पंचम की घोषणा से हर कोई हैरान था, क्योंकि यह पूरी तरह गोपनीय रखी गई थी।

उनकी भारत यात्रा के छह महीने पहले ही ब्रिटिश भारत की राजधानी के स्थानांतरण का निर्णय हो चुका था। इंग्लैंड और भारत में दर्जन भर व्यक्ति ही इससे वाक़ि़फ थे. राजा की घोषणा के समानांतर बांटे गए गजट और समाचार पत्रकों को भी पूरी गोपनीयता के साथ छापा गया…  

सात दिसंबर, 1911 को ब्रिटेन के राजा और रानी (जार्ज पंचम और क्वीन मेरी) दिल्ली पहुंचे। शाही दंपत्ति को एक जुलूस की शक्ल में शहर की गलियों से होते हुए विशेष रूप से लगाए गए शिविरों के शहर (किंग्सवे कैंप) में गाजे-बाजे के साथ पहुंचाया गया…

किंग जॉर्ज पंचम और क्वीन मेरी ने किंग्सवे कैंप में आयोजित दिल्ली दरबार में 15 दिसंबर, 1911 को नई दिल्ली शहर की नींव के पत्थर रखे। बाद में इन पत्थरों को नॉर्थ और साउथ ब्लॉक के पास स्थानांतरित कर दिया गया और 31 जुलाई, 1915 को अलग-अलग कक्षों में रख दिया गया। स्थापना दिवस समारोह में लॉर्ड हार्डिंग ने कहा कि दिल्ली के इर्द-गिर्द अनेक राजधानियों का उद्घाटन हुआ है, पर किसी से भी भविष्य में अधिक स्थायित्व अथवा अधिक ख़ुशहाली की संभावना नहीं दिखती…

अंग्रेज सत्रह सौ सत्तावन से कलकत्ते में राज करते रहे, लेकिन दिल्ली राजधानी बनाने के महज छत्तीस साल बाद ही उनके विश्वव्यापी साम्राज्य का सूरज डूब गया।

नलिन चौहान

 

(नलिन चौहान दिल्ली सरकार के सूचना-प्रसार विभाग में डिप्टी डायरेक्टर पद पर तैनात हैं। आईआईएमसी से पत्रकारिता का डिप्लोमा प्राप्त नलिन ने दिल्ली के राजधानी बनने के सौ साल पर प्रकाश डाला है चौथी दुनिया में प्रकाशित अपने लेख में। यहां हमने उनके मूल लेख से कुछ झलकियां उनसे साभार प्रकाशित की हैं।)

Facebook Comments Box

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *