कोई तो बताये कहाँ से आया इतना रुपया अन्ना टीम के पास?

-सुग्रोवर||
इसमें कोई शक या शुबह नहीं कि अन्ना हजारे एक निहायत नेक किस्म के देशभक्त इन्सान हैं और उनके अनशन के पीछे उनका देशभक्ति का ज़ज्बा ही काम कर रहा है. लेकिन यही बात अन्ना की टीम के बारे में कहना मेरे लिए तब तक संभव नहीं है, जब तक की टीम अन्ना इस आन्दोलन में पारदर्शिता न लाये और कुछ सवालों का संतुष्ट करने वाला जवाब ना दे दे.
यह तो एक बच्चा भी जानता है कि इस आन्दोलन को परवान चढ़ाने पर काफी खर्चा किया गया होगा. जानकारों का मानना है कि इस पर करीब पचास से सत्तर करोड़ रुपये खर्च किये गए होंगे. ऐसे में जेहन में एक सवाल बारम्बार उमड़ता है कि इतनी बड़ी राशि आखिर जुटायी कैसे गयी होगी? कहाँ से आया ये धन? आखिर कौन है इतना बड़ा दानदाता? क्या नाम है उसका? करता क्या है वोह?  क्या फायदा है उस धन्ना सेठ का इस आन्दोलन से?

 

गरीब मजदूरों से तो उम्मीद कि नहीं जा सकती कि ये राशि उन्होंने अपनी मज़दूरी में से निकाल कर दे दी होगी. खुद केजरीवाल या किरण बेदी अपनी जेब से इतनी बड़ी राशि खर्च करने की हैसियत नहीं रखते. रहा सवाल भूषण पिता पुत्र की जोड़ी का तो वे भी इतने बड़े देशभक्त नहीं जो अपनी गांठ ढीली कर दें और वोह भी गुप-चुप में.

 

निश्चित तौर पर कोई धन्ना सेठ ही होगा जिसने ये राशि उपलब्ध करवाई होगी. अगर ये सच है, तो उसका नाम जनता के सामने आना चाहिए ताकि इस देश की जनता यह जान सके कि उसे छला तो नहीं जा रहा. किसी का हित साधन तो नहीं हो रहा इस आन्दोलन के ज़रिये? हो सकता है कि आप लोग इन सवालों को भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन को कमज़ोर करने कि चाल समझें लेकिन आप भी ठन्डे दिमाग से इन सवालों पर गौर करेंगे तो ये सवाल जो अब तक सिर्फ मुझे ही नहीं, बड़े बड़े बुध्दिजीवियों के दिलो-दिमाग में गूंज रहें हैं, आपके मस्तिष्क में भी कोहराम मचा देगें.
मेरे इन सवालों का कोई जवाब आपको सूझता हो तो कृपया बताएं.

Facebook Comments Box

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *