काटजू को फिर नागवार गुजरा मीडिया का रवैयाः खिलाड़ियों को भारत रत्न की मांग को बताया बकवास

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज और प्रेस काउंसिल के अध्यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू के विवादास्पद बयानों का सिलसिला कायम है। अपने ताज़ा बयान में काटजू ने क्रिकेटरों और फिल्मी सितारों को भारत रत्न दिए जाने की मांग पर तल्ख टिप्पणी की है। उनका कहना है कि क्रिकेटरों और फिल्मी सितारों को भारत रत्न देना इस पुरस्कार का मजाक उड़ाना होगा क्योंकि इन लोगों का समाज के लिए कोई योगदान नहीं है।

काटजू ने इस बारे में कहा, ”लोग क्रिकेटरों और फिल्मी सितारों को भी भारत रत्न देने की बात कर रहे हैं। हम लोग सांस्कृतिक स्तर के बहुत ही निचले पायदान पर जा रहे हैं। हम अपने असली हीरो को नजरअंदाज करते हैं और सतही लोगों के बारे में बातें करते हैं। आज हमारा देश बहुत ही निर्णायक दौर से गुजर रहा है। हमें ऐसे लोगों की जरूरत है जो देश को दिशा देकर इसे आगे ले जा सकें। वे जीवित न भी हों तो भी ऐसे लोगों को भारत रत्न देना चाहिए।”

सवाल यह उठता है कि काटजू खुद को पत्रकार समझते हैं या उन्हें संचालित करने वाला? कुछ लोगों का मानना है कि वे बार-बार अपनी पसंद देश के लोगों पर थोपने की जुगत में रहते हैं। हाल ही में जब मीडिया ने हिन्दी फिल्मों के सदाबहार हीरो देव आनंद को भाव-भीनी श्रद्धांजलि दी तो भी काटजू साहब बौखला उठे। उन्होंने तपाक से मीडिया की आलोचना करते हुए कह डाला कि ये गलत हो रहा है।

ऐसा अक्सर देखने को मिलता है कि मीडिया फिल्म और मनोरंजन जगत की घटनाओं के बहाने काफी समय जन सरोकार के मामलों से दूर रहने में बिताता है, लेकिन शायद काटजू साहब यह भूल रहे थे कि नौजवान हो या बुजुर्गवार, देव आनंद साहब के लिए सम्मान शायद ही किसी के दिल में न हो।

काटजू ने कहा कि उन्होंने मिर्जा गालिब और शरत चंद्र चटोपाध्याय के लिए भारत रत्न की मांग की थी, जिसके लिए उनकी आलोचना हो चुकी है। ”मैं यह कहना चाहता हूं कि मरणोपरांत पुरस्कार देने में कोई बुराई नहीं है। इससे पहले भारत रत्न कई विभूतियों को मरणोपरांत मिला है। इनमें सरदार पटेल औैर डॉ. अंबेडकर शामिल हैं।” उन्होंने जोड़ा।

पहले भी काटजू ने अपने विवादास्पद बयान में कहा था कि मौजूदा दौर में ज़्यादातर पत्रकारों को इतिहास, भूगोल, राजनीति विज्ञान, अर्थशास्त्र, दर्शनशास्त्र की जानकारी नहीं है।

Facebook Comments Box

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *