अवैध वसूली प्रकरण : सहारा का स्ट्रिंगर पुलिस गिरफ्त में, साधना का स्ट्रिंगर फरार

जमशेदपुर में सहारा एवं साधना चैनल के स्ट्रिंगरों द्वारा एक महिला ग्राम प्रधान से अवैध वसूली करने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस मामले में सहारा के स्ट्रिंगर विनोद केशरी की गिरफ्तारी हो चुकी है जबकि साधना के स्ट्रिंगर शंकर गुप्‍ता को पुलिस खोज रही है। इस मामले में पोटका के ब्‍लाक प्रमुख ने विनोद की जमकर पिटाई भी की थी। पुलिस ने हाता के मुखिया रुपा सरदार की शिकायत पर दोनों के खिलाफ कल ही मामला दर्ज कर लिया था।

उल्‍लेखनीय है कि किसी खबर में गड़बड़ी की शिकायत लेकर ये लोग हाता की मुखिया रुपा सरदार के पास वसूली के लिए गए थे। इन लोगों पर आरोप था कि ये लोग पैसा न देने पर खबर दिखाने की धमकी दे रहे थे। महिला प्रधान से इन लोगों ने दस-दस हजार रुपये की मांग की थी, परन्‍तु उन्‍होंने कुछ रुपये देकर ही मामला सलटा दिया था। वसूली किए जाने की जानकारी मुखिया के ब्‍लाक प्रमुख भाई को हो गई तथा उसने दोनों पत्रकारों की खोज शुरू कर दी। शंकर गुप्‍ता तो हाथ नहीं आए पर विनोद केशरी प्रमुख और उनके लोगों के हत्‍थे चढ़ गए। विनोद केशरी को इनलोगों ने जमकर पीटा। इसके बाद मुखिया रुपा सरदार की शिकायत पर पुलिस ने दोनों स्ट्रिंगरों के खिलाफ आईपीसी की धारा 384 व 385 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया।

पुलिस ने सहारा के स्ट्रिंगर विनोद केशरी को तो गिरफ्तार कर लिया परन्‍तु साधना न्‍यूज का स्ट्रिंगर अब भी पुलिस की पकड़ से बाहर है। हालांकि कल मीडिया दरबार से बातचीत में सहारा के स्ट्रिंगर विनोद केशरी ने कहा था कि उसे जानबूझकर फंसाया जा रहा है। उसका इस वसूली कांड से कुछ लेना-देना नहीं है बल्कि प्रमुख अपने खिलाफ कई खबरें किए जाने से नाराज था तथा साजिश के तहत उन लोगों को फंसा दिया है। शंकर गुप्‍ता का भी पक्ष जानने की कोशिश की परन्‍तु उनसे बात नहीं हो पाई। पोटका पुलिस ने मीडिया दरबार से दोनों पत्रकारों के खिलाफ मामला दर्ज होने तथा विनोद की गिरफ्तार की पुष्टि की।

Facebook Comments Box

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *