घट रही है ‘किरपा’, भक्तों ने जमा कराया कम पैसा, निर्मल बाबा पर कानूनी पचड़े भी बढ़े

‘किरपा’ के कारोबारी निर्मल बाबा की मुसीबतें बढ़ने लगी हैं। उन्‍होंने शुक्रवार को ‘आज तक’ को दिए गए इंटरव्यू में बड़े ही बोल्ड तरीके से कहा था कि उनका सालाना टर्न ओवर 235-238 करोड़ रुपये के आसपास का है और वह पूरी रकम पर इन्कम टैक्‍स भी देते हैं। लेकिन शनिवार को रांची के अखबार ‘प्रभात खबर’ ने उनके खातों से जुड़ी जो जानकारी सार्वजनिक की है, उससे बाबा का दावा झूठा लग रहा है। अखबार के मुताबिक निर्मल बाबा के दो खाते हैं। पहला खाता निर्मल दरबार के नाम से है जिसका नंबर टीवी पर चलता रहता है। दूसरा निर्मलजीत सिंह नरूला के नाम से है जिसका नंबर है 1546000102129694। इस खाते का नंबर टीवी पर नहीं दिखाया जाता, लेकिन इस खाते में चार जनवरी 2012 से 13 अप्रैल 2012 के बीच करीब 123 करोड़ (कुल 1,23,02,43,974) रुपये जमा हुए। इस राशि में से 105.56 करोड़ की निकासी भी हुई। 13 अप्रैल को इस खाते में 17.47 करोड़ रुपए बचे थे।

निर्मल बाबा को विभिन्न प्रकार की नकदी जमा पर 13 मई 2011 से 31 मार्च 2012 तक के बीच ब्‍याज के रुप में 85.77 लाख रुपये मिले थे। बाबा की कमाई पर अब इनकम टैक्‍स विभाग और प्रवर्तन निदेशालय की भी नजर है। संभव है, जल्‍द ही बाबा को इनके सामने सफाई भी देनी पड़ेगी। आयकर विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, फाइनांशियल इंटेलिजेंस यूनिट (एफआईयू) इस बात पर नजर रखे हुए है कि निर्मल बाबा कितना कमाते हैं और कहां खर्च करते हैं।बाबा ने 25 करोड़ की एफडी भी करा रखी है।

इस बीच बाबा पर भक्‍तों की ‘किरपा’ घटती दिख रही है। ‘प्रभात खबर’ ने आज खबर छापी है कि निर्मल दरबार के नाम से आईसीआईसीआई बैंक के उस खाते (संख्या 002-905-010-576) में शुक्रवार को सिर्फ 34 लाख रुपये जमा किए गए हैं जिसमें पहले हर रोज औसतन एक करोड़ रुपये जमा हो रहे थे। पहले जहां औसतन चार से साढ़े चार हजार लोग प्रतिदिन निर्मल बाबा के खाते में राशि जमा कर रहे थे, वहीं शुक्रवार शाम पांच बजे तक यह संख्या 1800 भी नहीं पहुंच पाई।

बाबा को लेकर लोगों में संदेह बढ़ने की बात इंटरनेट सर्च ट्रेंड से भी साबित हो रही है। पहले जहां गूगल पर निर्मल बाबा का नाम सर्च क लोग बड़ी संख्‍या में गूगल पर निर्मल बाबा फ्रॉड की वर्ड डाल कर सर्च कर रहे हैं।

बाबा पुलिस और अदालत के शिकंजे में भी फंस सकते हैं। उनके खिलाफ चार शहरों में शिकायतें भी दर्ज हो गई हैं और लोग सड़कों पर भी उतर रहे हैं। नागपुर में अखिल भारतीय अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ने निर्मल बाबा के विरोध में प्रदर्शन किया। कार्याध्यक्ष उमेश चौबे व महासचिव हरीश देशमुख के नेतृत्व में मोर्चा निकाला गया। केंद्र सरकार से मांग की गई कि निर्मल बाबा के विरुद्ध धोखाधड़ी का प्रकरण चलाए। प्रदर्शन में फिरा के उपाध्यक्ष व तर्कशील संस्था पंजाब के अध्यक्ष बलविंदर बरनाला के अलावा अन्य कार्यकर्ता शामिल थे। समिति बाबा को अपनी चमत्‍कारिक शक्ति दिखाने की चुनौती भी दे चुका है।

Facebook Comments Box

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *