मीडिया View All →

उनके लिए नौ मिनट पूनम का चाँद देखना..

By   19 hours ago

-सुनील कुमार।। फिर आकाशवाणी हुई है कि 5 तारीख को रात 9 बजे लोग अपने दरवाजों पर आकर, अपनी बालकनी से, 9 मिनट तक दिया मोमबत्ती, टॉर्च, मोबाइल फोन, किसी भी से रौशनी करें। 130 करोड़ हिंदुस्तानियों के एक साथ ऐसा करने से देश की एकता सामने आएगी और देश अँधेरे से लड़ सकेगा। जब […]

Read More →

स्वास्थ्य सुविधाओं पर सबका हक़..

By   1 day ago

दुनिया भर में कोरोना वायरस ने मानव जाति के समक्ष अस्तित्व का संकट खड़ा कर दिया है। आज के दौर में जब हम खुद को विकसित मानने का दंभ पाले हुए हैं। लेकिन एक अतिसूक्ष्म वायरस ने हमें आईना दिखा दिया है। यह समय बहुत कठिन है, लेकिन यही सही वक्त भी है जब हम […]

Read More →

आपका ध्यान क्यों हटाया जाना चाहिए..

By   2 days ago

1000 किलोमीटर की यात्रा, अक्सर पैदल, (सरकारी) असफलता पर प्रकाश डालता है.. -संजय कुमार सिंह।। 30 मार्च की रात दिन भर की खबरों के बाद मुझे लगा कि लॉकडाउन के बाद मजदूरों के पलायन की खबरें अब मीडिया में नहीं आने वाली। मुख्य रूप से इसका कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हुई बदनामी को कना ही […]

Read More →

पीएम-केयर्स फंड को होना होगा पारदर्शी..

By   2 days ago

देश में पहले से ‘प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष’ के रहते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक नया राहत कोष या ट्रस्ट ‘पीएम-केयर्स फंड’ (प्राईम मिनिस्टर्स सिटिजंस असिस्टेंस एंड रिलीफ इन इमर्जेंसी सिचुएशंस फंड) बनाकर एक नये विवाद को जन्म दे दिया है। उनके इस कदम को जहां एक ओर संदेह की दृष्टि से देखा जा रहा […]

Read More →

संपूर्णबंदी का पहला हफ्ता..

By   3 days ago

देशव्यापी बंदी का पहला सप्ताह बीत चुका है। बीते सात दिनों में कोरोना के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ और मृतकों की संख्या भी बढ़ी। मौतें इसलिए हो रही हैं क्योंकि इस बीमारी की गंभीरता को पहले समझा नहीं गया और उस मुताबिक तैयारी नहीं की गई। लेकिन अभी भी हमारे पास वक्त है […]

Read More →

क्या मीडिया में लॉकडाउन की परेशानी का शोर अब थम जाएगा..

By   4 days ago

-संजय कुमार सिंह।। मेरा मानना है कि कोरोना पर मीडिया में शोर अब थम जाएगा। जो दिखाना था दिखा लिया गया। अब मजदूरों के पलायन की चर्चा रुक जाएगी। राहत सामग्री बंटने की खबरें दिखेंगी और अब सब ठीक बताया जाएगा। इसका कारण यह है कि सरकार ऐसे ही काम करती है। जमीन पर काम […]

Read More →

यह शर्मनाक दृश्य है..

By   4 days ago

यह महान दृश्य है, चल रहा मनुष्य है, अश्रु स्वेद रक्त से,  लथपथ लथपथ लथपथ, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ।  बच्चनजी ने इंसान की जिजीविषा, कर्मठता और दृढ़इच्छाशक्ति का वर्णन करते हुए यह पंक्तियां लिखी थीं, लेकिन अगर आज के संदर्भ में वे लिखते तो, महान दृश्य की जगह शर्मनाक दृश्य लिखते। आंसू, पसीने और खून से […]

Read More →

आत्मचिंतन का मौका..

By   4 days ago

पूरा देश इस वक्त गंभीर हालात से जूझ रहा है औऱ ऐसे में भी मोदीजी ने मन की बात कर ही ली। आज उन्होंने संपूर्णबंदी के चलते हो रही तकलीफों के लिए माफी मांगी। लेकिन इसे जरूरी बताया। जब नोटबंदी का फैसला उन्होंने अचानक लिया था, तब भी कहा था कि यह जरूरी है और […]

Read More →

ऐसी खबरें पढ़ने के लिए अखबार मंगाते रहिए..

By   5 days ago

-संजय कुमार सिंह।। दैनिक जागरण में आज पहले पन्ने पर छपी इस खबर को देखिए – अखबारों की सप्लाई चेन के सभी सामान की ढुलाई पर छूट। कहने की जरूरत नहीं है कि सरकार प्रचार के लिए अखबारों को बंद से मुक्त रखे हुए है और अखबार काम की खबरें तो छापते नहीं यह बताने […]

Read More →

यह अँधेरी सुरंग अंदाज से कुछ अधिक ही लम्बी रहेगी..

By   6 days ago

-सुनील कुमार।। दिल्ली से गावों की ओर लौटते मजदूरों की तो तस्वीरें पल-पल में आ रहीं हैं, वे दिल दहला रही हैं, लेकिन पिछले दो दिनों से उनके बारे में लिखने के बाद आज फिर उसी पर लिखना ठीक नहीं, अब से कुछ देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोलने वाले हैं, तो आज उन्हीं को […]

Read More →

देश के हाई प्रोफाइल VVIP और सोशल डिस्टेंसिंग..

By   6 days ago

-विष्णु नागर।। कल्पना करने के अपने मजे हैं। फिलहाल 15 अप्रैल तक सोशल डिस्टेंसिंग में हूँ । कामवाली बाई को हमने सवैतनिक अवकाश दे दिया है और मिलजुलकर हम काम कर रहे हैं।इतनी ‘गलती’ जरूर कर रहे हैं कि इसकी न सेल्फी ले रहे हैं, न एकदूसरे का काम करते हुए फोटू मोबाइल से ले […]

Read More →

सरकार गोरी-अंग्रेज थी तब भी और अब काली-देसी है, तब भी..

By   7 days ago

-सुनील कुमार।। हिंदुस्तान की बड़ी तकलीफदेह तस्वीरें सामने आ रही हैं, आती ही जा रही हैं। कोरोना से प्रभावित किसी और देश में सड़कों पर बेवजह-बेसहारा लोगों के सैकड़ों किलोमीटर सफ़र की ऐसी तस्वीरें देखने नहीं मिलीं क्योंकि वे हिंदुस्तान से अधिक सम्पन्न देश भी थे। हिंदुस्तान की सरकार विदेशों से तो हिंदुस्तानियों को मुफ्त […]

Read More →

    देश View All →

    9 मिनट बत्ती गुल करना पावर ग्रिड को पड़ेगा भारी..

    By   18 hours ago

    कुछ बातें : (नो ) लाइट + कैमरा + एक्शन.. 1.कोरोना के खिलाफ अपने ‘ परावैज्ञानिक ‘ दर्शन को भारत में लागू करने के प्रयासों की नई कड़ी के रूप में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज प्रातःकाल नौ बजे राष्ट्र के नाम संबोधन में सभी देशवासियों से रविवार 5 अप्रैल 2020 को रात्रि नौ बजे […]

    Read More →

    एम्स का चंदा पीएम केयर्स फंड में चला गया..

    By   21 hours ago

    -संजय कुमार सिंह। मैं शुरू से पीएम केयर्स फंड के खिलाफ हूं। प्रधानमंत्री का काम नहीं है कि वे चंदा बटोरें और उससे देश सेवा करें। उन्हें देश सेवा के लिए तनख्वाह मिलती है और यह पूर्णकालिक पद है। दूसरी ओर, देश में चंदा देने वाले लोग हैं, व्यवस्था है और जरूरत है इसलिए प्रधानमंत्री […]

    Read More →

    पासपोर्ट और राशन कार्ड के बीच सरकारी तौर-तरीकों से खिंच गई है एक गहरी खाई..

    By   2 days ago

    -सुनील कुमार।।सच की लड़ाई बड़ी मुश्किल होती है। उसे झूठ से लडऩा होता है, जो कि बड़ा आकर्षक होता है, सनसनीखेज भी होता है, और लोगों के दिमाग पर जोर भी नहीं डालता। आज हिंदुस्तान में जब लोग चारों तरफ देश भर में बुरी तरह फंस गए बेबस, बेघर मजदूरों को देख रहे हैं, जो […]

    Read More →

    इस बार सरकार बैंक खुला रखने के लिए क्यों परेशान है?

    By   7 days ago

    -संजय कुमार सिंह।। देश भर में अचानक लागू किए गए लॉक डाउन में जब परीक्षाएं नहीं हो रही हैं, अस्पतालों के ओपीडी बंद कर दिए गए हैं, लोगों को घर से निकलना ही नहीं है तब बैंक खुले रखने का मकसद मुझे अभी तक समझ में नहीं आया है। बाद में पता चला कि डाकघर […]

    Read More →

    विश्व स्वास्थ्य संगठन की भारत को चेतावनी..

    By   7 days ago

    -श्याम मीरा सिंह।। WHO ने भारत को चेतावनी दी है कि कंट्रीवाइड लॉकडाउन कम्प्लीट सॉल्यूशन नहीं है। इससे सिर्फ और सिर्फ तैयारी करने के लिए अधिक समय मिल सकता है, कम्प्लीट सॉल्यूशन के लिए हेल्थ डिपार्टमेंट को अग्रेशिव तरीके से एक्शन लेने होंगे, अधिक से अधिक टेस्ट लेने होंगे ताकि कोरोना इंफेक्शन के मरीजों को […]

    Read More →

    मोदी सरकार ने गरीबों को दी राहत..

    By   1 week ago

    -पंकज चतुर्वेदी।। कोरोना संकट में सरकार द्वारा गरीबों के लिए सकारात्मक कदम जिनकी तारीफ की जाना चाहिए। स्वास्थ्य कर्मचारियों को मेडिकल इंश्योरेंस कवर वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि जो लोग इस जंग को लड़ रहे हैं, चिकित्सा के क्षेत्र में काम कर रहे हैं उन्हें आगामी तीन माह तक 50 लाख का बीमा कवर […]

    Read More →

    A businessman’s open letter to PM Modi ..

    By   2 weeks ago

    Dear Prime Minister Modi Ji, I write this with fear and hope. India cannot survive when the SSI, SME, Startup Sectors suffer and die. The task force you set up under the Finance Minister hasn’t yet started working. I am suggesting 10 things that we would want the government to consider, with the hope that […]

    Read More →

    प्रधानमंत्री मोदी को एक कारोबारी का खुला पत्र..

    By   2 weeks ago

    प्रिय प्रधानमंत्री मोदी जी, मैं यह पत्र डरता हुआ उम्मीद के साथ लिख रहा हूँ। अगर छोटे उद्योग, एसएमई, स्टार्टअप आदि क्षेत्र परेशान हों और खत्म हो जाएं तो भारत बचा नहीं रह सकता है। वित्त मंत्री के तहत जो आपने जो टास्क फोर्स बनाई है उसने अभी तक काम शुरू नहीं किया है। मैं […]

    Read More →

    समग्रता में देखी जाए नक्सल समस्या..

    By   2 weeks ago

    देश में कोरोना की महामारी के बीच छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में माओवादियों के साथ मुठभेड़ में सुरक्षा बलों के 17 जवानों के शहीद होने की दुखद घटना घट गई। यूं तो जब से राज्य में कांग्रेस ने भूपेश बघेल के नेतृत्व में सरकार बनाई है, तब से बस्तर के विकास और आदिवासियों के हितों […]

    Read More →

    आइए, देखें दिल्ली सरकार के इस विज्ञापन में क्या नहीं है

    By   2 weeks ago

    -संजय कुमार सिंह।। आज दिल्ली सरकार का एक विज्ञापन सभी अखबारों में प्रमुखता से छपा है और अच्छी बात है कि हिन्दी में (भी) है। इसका शीर्षक है, “कुछ एहतियात जो दें कोरोना को मात”। कहने की जरूरत नहीं है कि इसमें एहतियात ही बताए गए हैं और जिसे इनका पालन करना है वह कैसे […]

    Read More →

    जनता कर्फ्यू के नाम पर सरकारी अत्याचार, वीडियो देखें..

    By   2 weeks ago

    -कुमार सौवीर।। अब तो सरकार ही बताये कि उसने कोरोना-संक्रमण को रोकने के लिए जनता में जान-जागरूकता के लिए जनता-कर्फ्यू का आह्वान किया था, या जनता-कर्फ्यू के नाम पर सरकारी-उत्पीड़न की कार्रवाई। मत भूलिए कि इस महामारी को रोकने के लिए सरकार ने पिछले तीन महीनों तक नागरिकों को सिर्फ रिंगटोन ही सुनाई थी, कोई […]

    Read More →

    यह कडवा सच है..

    By   2 weeks ago

    -पंकज चतुर्वेदी।। शाहीन बाग़ आन्दोलन पहले जैसा रहा नहीं . इसमें लोगों की आमद भी कम है , जो लोग पहले एक बड़े जन आन्दोलन का हिस्सा बनने शामिल हो रहे थे, उनकी सलाहों को अपनी जिद से कुचलने और उन्हें संघी तक कहने से बड़ी संख्या में लोग आहत हैं अभी वे चेहरे सामने […]

    Read More →

      राजनीति View All →

      Don’t Communalize; Fight Corona Not the People..

      By   16 hours ago

      The Govt. and RSS-BJP running the Central Govt. came out of political quarantine to which they had been confined by their mindless handling of the Corona outbreak, as the news of cases from Tableegh’s gathering at Nizamuddin Markaz surfaced. They sensed the opportunity to brandish their communal knife which was getting rusted since the outbreak […]

      Read More →

      योगी ने बसें भेजीं, अरविन्द पर आरोप लगा..

      By   5 days ago

      मजदूरों के पलायन पर उंगली भाजपा की ओर.. दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी भाजपा के सोशल मीडिया हमले का मुकाबला करने में लगी है। पार्टी को प्रवासी मजदूरों के पलायन के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। सिर्फ इसलिए कि उसने योगी आदित्यनाथ की बसें पकड़ने निकले मजदूरों की सहायता करने की कोशिश की। उत्तर […]

      Read More →

      आज का दौर और पंडित नेहरु..

      By   3 weeks ago

      -पंकज चतुर्वेदी।। पंडित नेहरु वे भारतीय नेता थे जो आज़ादी की लडाई के दौरान और उसके बाद अपनी मृत्यु तक सत्ता में भी साम्प्रदायिकता , अंध विश्वास से लड़ते रहे- पार्टी के भीतर भी और बाहर भी . एक तरफ जिन्ना की सांप्रदायिक राजनीती थी तो उसके जवाब में कांग्रेस का बड़ा वर्ग हिन्दू राजनीति […]

      Read More →

      अमित शाह दिल्ली पुलिस का बचाव क्यों कर रहे हैं?

      By   3 weeks ago

      -संजय कुमार सिंह।। आज हिन्दुस्तान टाइम्स में यह खबर पढ़कर मुझे इतनी हंसी आई कि आज अखबार नहीं पढ़ने का कोटा पूरा हो गया। अमूमन अखबारों में पढ़ने, हंसने या जानने के लिए कुछ ढूंढ़ना पड़ता है और मुझे अक्सर वह सब द टेलीग्राफ में मिलता है। आज हिन्दुस्तान टाइम्स ने इसे प्रमुखता से उपलब्ध […]

      Read More →

      मसाने की इस होली में कौन किसे दिगम्बर कहे!

      By   3 weeks ago

      ज्योतिरादित्य सिंधिया के भारतीय जनता पार्टी में चले जाने का मामला पूरी तरह से उनके निर्णय लेने के अधिकार से संबंधित है। फिर, यह दलबदल का कोई पहला मामला तो नहीं है; और न ही वह अंतिम होने जा रहा है। भारत का लोकतांत्रिक व राजनैतिक इतिहास दलबदल के छोटे-बड़े अनगिन किस्सों का गवाह रहा […]

      Read More →

      सिंधिया के भाजपा जाने के मायने, कांग्रेस के लिए, भाजपा के लिए भी..

      By   3 weeks ago

      -सुनील कुमार।। हाल के वक्त में देश में एक सबसे बड़ा दलबदल ज्योतिरादित्य सिंधिया का हुआ जो कि कांग्रेस छोड़कर भाजपा में चले गए। कांग्रेस छोडऩा एक अलग बात होती, कांग्रेस पार्टी तो शरद पवार और संगमा ने भी छोड़ी थी, ममता बैनर्जी ने भी छोड़ी थी, और जगन मोहन रेड्डी ने भी छोड़ी थी। […]

      Read More →

      पैंट उतारकर धर्म जांचने वालों के लिए ज्ञान बकौल द टेलीग्राफ..

      By   3 weeks ago

      -संजय कुमार सिंह।। दिल्ली दंगों पर कल, ‘होली के बाद’ संसद में चर्चा हुई। जब सब कुछ हो लिया तो संसद में गृहमंत्री ने बताया कि दंगों में 52 भारतीय मरे, 526 भारतीय जख्मी हुए। उन्होंने कहा कि धर्म के आर पर उनमें भेदभाव नहीं किया जाए। अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ ने इसे अमितशाह की […]

      Read More →

      बेवफाई का बहाना..

      By   3 weeks ago

      कुछ तो मजबूरियां रहीं होंगी, यूँ ही कोई बेवफा नहीं होता, शायर बशीर बद्र का यह शेर बहुत अच्छा है, लेकिन इसकी आड़ में बेवफाई को सही नहीं ठहराया जा सकता। वफादारी शर्तों से बंधी नहीं हो सकती। नैतिकता का यह तकाजा, निस्वार्थ, बिना किसी लोभ के निभाया जाना चाहिए। और यह बात ज्योतिरादित्य सिंधिया […]

      Read More →

      भाजपा कितनी बुरी है

      By   3 weeks ago

      -संजय कुमार सिंह।। भाजपा उच्च स्तर पर झूठ बोलने वालों की पार्टी है। झूठ बोलने का पूरा तामझाम है, पार्टी के लिए झूठ फैलाने का काम करने वाले लोग जाने-पहचाने हैं और उनकी झूठ की पोल कई बार खुल चुकी है। मीडिया को गोदी में कर लिया गया है और सोशल मीडिया पर झूठ फैलाने […]

      Read More →

      ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने का मतलब..

      By   3 weeks ago

      -संजय कुमार सिंह।। ज्योतिरादित्य अगर सिर्फ कांग्रेस छोड़ते तो यह माना जा सकता था कि पार्टी में उनकी उपेक्षा हो रही थी और पर्याप्त सम्मान नहीं मिल रहा था इसलिए उन्होंने पार्टी छोड़ दी। इसमें कोई बुराई नहीं थी। सामान्य बात थी। कोई भी पार्टी किसी व्यक्ति को उसकी अपेक्षा के अनुसार सम्मान दे या […]

      Read More →

      कुछ भी बोल देने वाले चौकीदारों की टोली

      By   4 weeks ago

      -संजय कुमार सिंह।।केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार (07 मार्च 20) को पुणे के बीजे मेडिकल कॉलेज में ‘जन औषधि दिवस’ के मौके पर कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा उठाए गए कड़े सुरक्षा कदमों के कारण पिछले छह साल में देश में एक भी बम विस्फोट नहीं हुआ। सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा, […]

      Read More →

      घावों पर मरहम की बजाय पुन : एसिड का लेप

      By   1 month ago

      केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कोलकाता में एक रैली को संबोधित करते हुए एक बार फिर से स्पष्ट कर दिया है कि नागरिकता संशोधन कानून का चाहे कोई कितना भी विरोध कर ले, केन्द्र सरकार इससे पीछे हटने वाली नहीं है। इसमें नई बात कुछ भी नहीं है। अनेक मौकों पर शाह के अलावा […]

      Read More →

        गौरतलब View All →

        इंडिया दैट इज भारत के संविधान को ख़तरा..

        By   2 weeks ago

        उत्तर आधुनिक महाभारत (छठी किश्त) न्यू इंडिया में.. -चंद्र प्रकाश झा।। भारत के संविधान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वप्न न्यू इंडिया में पलट देने की अर्से से चल रही कोशिशें अब नंगे रूप में सामने आने लगी हैं. भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सदस्य राकेश सिन्हा ने सदन में एक प्राईवेट बिल लाने की […]

        Read More →

        जस्टिस गोगोई सारी मर्यादा भूल गए..

        By   3 weeks ago

        -चंद्र प्रकाश झा।। उत्तर आधुनिक महाभारत के मायने : छठी किश्त लोचा जस्टिस गोगोई का.. 1.भारत में किसी के भी सरकारी सेवा से सेवानिवृत्ति के बाद दो साल तक उस व्यक्ति को किसी भी पद पर नियुक्ति न करने का नियम है.इसे ‘ लॉक इन पीरियड ‘ कहते हैं.2. वर्ष 2014 में नरेंद्र मोदी सरकार […]

        Read More →

        Why to abandon the Constitution of India..

        By   3 weeks ago

        Bharat for a new constitution of ‘New India.. -Chandra Prakash Jha।। Even before the Constituent Assembly of Independent India was constituted and it discussed, debated upon , formulated and finally passed draft of the Constitution of India that was adopted and came into full force with effect from 26 January 1950 , the country’s citizens […]

        Read More →

        निराशा के अंधकार में जल उठे हैं आशाओ के हज़ारो दिये..

        By   4 weeks ago

        -चंद्र प्रकाश झा।। नागरिकता संशोधन अधिनियम (2019) , नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (एनआरसी) और नेशनल रजिस्टर ऑफ पॉपुलेशन (एनआरपी) का देशव्यापी विरोध शुरू होने के बाद कुछेक आह्लादकारी बातें उभरी हैं.एक तो यह कि भारतीय संविधान की किताबों की रिकॉर्ड खरीद हो रही है.संविधान की किताब बेस्ट सेलर मान लिया गया है.भारत के संविधान की […]

        Read More →

        उत्तर आधुनिक महाभारत के मायने :05 (दिल्ली हिंसा)

        By   4 weeks ago

        -चंद्र प्रकाश झा।। भारत के लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सर्वप्रथम कम्युनिस्ट मुख्यमंत्री, ईएमएस नम्बूदरिपाद की लिखी एक किताब याद आती है।किताब का शीर्षक है: क्राइसिस इन टू केओस। यह शीर्षक भारत के मौजूदा उन हालात में बिल्कुल सटीक लगता है, जिनमें भारतीय संघ गणराज्य और उसकी राजसत्ता के संकटों के अर्थनीतिक, सामाजिक और राजनीतिक ही […]

        Read More →

        शाहीन बाग: सरकार की मिट्टी पलीद न हो जाये..

        By   1 month ago

        -चंद्र प्रकाश झा।। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस (एनडीए) की मोदी सरकार के नए बनाये नागरिकता संशोधन अधिनियम, 2019 (सीएए) और कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूनाइटेड प्रोग्रेसिव अलायंस (यूपीए) सरकार द्वारा 2005 में लागू ‘ नेशनल सिटिज़नशिप रजिस्टर ‘ (एनसीआर) और नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) आदि के खिलाफ अपनी मांगों […]

        Read More →

        उत्तर आधुनिक महाभारत के मायने-सुप्रीम कोर्ट:03

        By   1 month ago

        -चंद्र प्रकाश झा।। भारत के लोकतांत्रिक रूप से सर्वप्रथम निर्वाचित कम्युनिस्ट मुख्यमंत्री,ई.एम.एस.नम्बूदरिपाद की लिखी एक किताब याद आती है.किताब का शीर्षक है: क्राईसेस इनटू केओस.यह शीर्षक भारत के मौजूदा उन हालात में बिलकुल सटीक लगता है जिनमें भारतीय संघ गणराज्य और उसकी राजसत्ता के संकटो के अर्थनीतिक,सामाजिक और राजनीतिक ही नहीं, न्यायिक-संवैधानिक रूप भी गहराने […]

        Read More →

        उत्तर-आधुनिक महाभारत के मायने: 02 :’ न्यू इंडिया ‘ में सुप्रीम कोर्ट

        By   1 month ago

        -चंद्र प्रकाश झा || ‘ न्यू इंडिया ‘ में मीडिया के अधिकतर हिस्से ने नए हुक्मरानों के सामने पहले ही घुटने टेक दिए हैं, जिसके साक्ष्य 16 वीं लोक सभा चुनाव के बाद 16 मई 2014 को केंद्र में पहली बार श्री नरेंद्र दामोदर मोदी की सरकार के गठन के उपरान्त लगातार मिलते रहे हैं. […]

        Read More →

        उत्तर आधुनिक महाभारत के मायने:01 सुप्रीम कोर्ट..

        By   2 months ago

        -चंद्र प्रकाश झा || ” इंडिया दैट इज़ भारत ” गणराज्य की बरस 2020 की राजसत्ता और उसके पीछे के सत्ताधारी वर्ग के सामने संकट चौतरफा है, प्रधानमंत्री मोदी जी का ‘सब चंगा सी ‘का आलाप बेसुरा हैं. उसे गाने की कोशिश शायद बैसाखनंदन (गदहे) भी नहीं कर सकते हैं. सत्य यह है कि संकट एक नहीं अनेक हैं. वे आपस में इस कदर गुत्थमगुत्था हो गए […]

        Read More →

          नज़रिया View All →

          उनके लिए नौ मिनट पूनम का चाँद देखना..

          By   19 hours ago

          -सुनील कुमार।। फिर आकाशवाणी हुई है कि 5 तारीख को रात 9 बजे लोग अपने दरवाजों पर आकर, अपनी बालकनी से, 9 मिनट तक दिया मोमबत्ती, टॉर्च, मोबाइल फोन, किसी भी से रौशनी करें। 130 करोड़ हिंदुस्तानियों के एक साथ ऐसा करने से देश की एकता सामने आएगी और देश अँधेरे से लड़ सकेगा। जब […]

          Read More →

          स्वास्थ्य सुविधाओं पर सबका हक़..

          By   1 day ago

          दुनिया भर में कोरोना वायरस ने मानव जाति के समक्ष अस्तित्व का संकट खड़ा कर दिया है। आज के दौर में जब हम खुद को विकसित मानने का दंभ पाले हुए हैं। लेकिन एक अतिसूक्ष्म वायरस ने हमें आईना दिखा दिया है। यह समय बहुत कठिन है, लेकिन यही सही वक्त भी है जब हम […]

          Read More →

          पीएम-केयर्स फंड को होना होगा पारदर्शी..

          By   2 days ago

          देश में पहले से ‘प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष’ के रहते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक नया राहत कोष या ट्रस्ट ‘पीएम-केयर्स फंड’ (प्राईम मिनिस्टर्स सिटिजंस असिस्टेंस एंड रिलीफ इन इमर्जेंसी सिचुएशंस फंड) बनाकर एक नये विवाद को जन्म दे दिया है। उनके इस कदम को जहां एक ओर संदेह की दृष्टि से देखा जा रहा […]

          Read More →

          संपूर्णबंदी का पहला हफ्ता..

          By   3 days ago

          देशव्यापी बंदी का पहला सप्ताह बीत चुका है। बीते सात दिनों में कोरोना के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ और मृतकों की संख्या भी बढ़ी। मौतें इसलिए हो रही हैं क्योंकि इस बीमारी की गंभीरता को पहले समझा नहीं गया और उस मुताबिक तैयारी नहीं की गई। लेकिन अभी भी हमारे पास वक्त है […]

          Read More →

          यह शर्मनाक दृश्य है..

          By   4 days ago

          यह महान दृश्य है, चल रहा मनुष्य है, अश्रु स्वेद रक्त से,  लथपथ लथपथ लथपथ, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ।  बच्चनजी ने इंसान की जिजीविषा, कर्मठता और दृढ़इच्छाशक्ति का वर्णन करते हुए यह पंक्तियां लिखी थीं, लेकिन अगर आज के संदर्भ में वे लिखते तो, महान दृश्य की जगह शर्मनाक दृश्य लिखते। आंसू, पसीने और खून से […]

          Read More →

          आत्मचिंतन का मौका..

          By   4 days ago

          पूरा देश इस वक्त गंभीर हालात से जूझ रहा है औऱ ऐसे में भी मोदीजी ने मन की बात कर ही ली। आज उन्होंने संपूर्णबंदी के चलते हो रही तकलीफों के लिए माफी मांगी। लेकिन इसे जरूरी बताया। जब नोटबंदी का फैसला उन्होंने अचानक लिया था, तब भी कहा था कि यह जरूरी है और […]

          Read More →

          यह अँधेरी सुरंग अंदाज से कुछ अधिक ही लम्बी रहेगी..

          By   6 days ago

          -सुनील कुमार।। दिल्ली से गावों की ओर लौटते मजदूरों की तो तस्वीरें पल-पल में आ रहीं हैं, वे दिल दहला रही हैं, लेकिन पिछले दो दिनों से उनके बारे में लिखने के बाद आज फिर उसी पर लिखना ठीक नहीं, अब से कुछ देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोलने वाले हैं, तो आज उन्हीं को […]

          Read More →

          सरकार गोरी-अंग्रेज थी तब भी और अब काली-देसी है, तब भी..

          By   7 days ago

          -सुनील कुमार।। हिंदुस्तान की बड़ी तकलीफदेह तस्वीरें सामने आ रही हैं, आती ही जा रही हैं। कोरोना से प्रभावित किसी और देश में सड़कों पर बेवजह-बेसहारा लोगों के सैकड़ों किलोमीटर सफ़र की ऐसी तस्वीरें देखने नहीं मिलीं क्योंकि वे हिंदुस्तान से अधिक सम्पन्न देश भी थे। हिंदुस्तान की सरकार विदेशों से तो हिंदुस्तानियों को मुफ्त […]

          Read More →

          सडक़ों और फुटपाथों पर अनगिनत बेबस..

          By   1 week ago

          -सुनील कुमार।। अभूतपूर्व और असाधारण हालात असाधारण फैसलों की मांग करते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में 21 दिन का कोरोना-लॉकडाऊन करके यही काम किया है। यह वक्त इस चूक को गिनाने का नहीं है कि मोदी ने राहुल गांधी की चेतावनी के करीब चालीस दिन बाद यह कार्रवाई की। यह वक्त यह गिनाने […]

          Read More →

          देर आयद, दुरुस्त आयद..

          By   1 week ago

          आख़िरकार राहत पैकेज का ऐलान जिस राहत पैकेज का कई दिनोंसे इंतजार था, आखिरकार आज उसकी घोषणा वित्तमंत्री ने कर ही दी। उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते कि कोईभूखा या तंगी में रहे। सरकार गरीबों तक पैसा पहुंचाएगी। एक लाख 70 हजार करोड़ का राहत पैकेज सरकार देगी। ऐसे मौके पर मजदूर और गरीब […]

          Read More →

          इंसानियत को जिंदा रखने का मौका..

          By   1 week ago

          कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए मंगलवार रात 8 बजे प्रधानमंत्री ने घोषणा की कि अब 21 दिन की ताला बंदी होगी। कोरोना संक्रमण स्टेज 2 से स्टेज 3 तक न पहुंचे, इसलिए जरूरी है कि लोग घरों पर ही रहें, बाहर न निकलें, दूसरों के संपर्क में न आएं। मुमकिन है 15 अप्रैल […]

          Read More →

          ऐसे कोरोना-काल में कैदियों को भीड़ भरी जेल में क्यों रखा है?

          By   1 week ago

          सुप्रीम कोर्ट ने दो दिन पहले राज्यों से कहा है कि वे जेलों में बंद कैदियों को पैरोल पर छोडऩे के लिए उच्चस्तरीय पैनल बनाएं जो कि सात बरस से अधिक तक कैद रह चुके सभी को पैरोल पर छोडऩे पर विचार करे। अदालत ने भारतीय जेलों में क्षमता से बहुत अधिक भरे गए कैदियों […]

          Read More →

            संकट View All →

            पासपोर्ट और राशन कार्ड के बीच सरकारी तौर-तरीकों से खिंच गई है एक गहरी खाई..

            By   2 days ago

            -सुनील कुमार।।सच की लड़ाई बड़ी मुश्किल होती है। उसे झूठ से लडऩा होता है, जो कि बड़ा आकर्षक होता है, सनसनीखेज भी होता है, और लोगों के दिमाग पर जोर भी नहीं डालता। आज हिंदुस्तान में जब लोग चारों तरफ देश भर में बुरी तरह फंस गए बेबस, बेघर मजदूरों को देख रहे हैं, जो […]

            Read More →

            खून में कारोबार, महामारी का डर और निर्यात की छूट..

            By   2 days ago

            -संजय कुमार सिंह।। कोरोना से निपटने के लिए सरकार क्या कर रही है यह बिल्कुल रहस्य है। जो कार्रवाई हुई है वह काफी देर से यह अब सर्वविदित है। इस बीच चिकित्सा उपकरण और सुरक्षा सामग्री के निर्यात की एक खबर जो प्रमुखता से छपनी चाहिए थी नहीं के बराबर छपी। उसे कायदे से फॉलो […]

            Read More →

            11 जनवरी से 31मार्च- 80 दिन 1920 घंटे..

            By   3 days ago

            -मुकेश कुमार सिंह और गिरीश मालवीय के साथ राजीव मित्तल।। चलिए चीन से शुरुआत करें–वुहान में 17 नवम्बर को मछुआरिन वुई में नोवेल कोरोना वायरस पाए जाने का जब पहला मामला सामने आया तो चीन इस बीमारी से पूरी तरह अनजान था..रोगी बनते रहे, इलाज होता रहा… वहाँ हड़कम्प मचा 31 दिसम्बर को, जब एक […]

            Read More →

            मजहब के नाम पर देश पर थोप डाला सबसे बड़ा खतरा!

            By   4 days ago

            -सुनील कुमार।। दिल्ली की बहुत घनी बस्ती निजामुद्दीन में मुस्लिमों की एक ऐसी बड़ी धार्मिक बैठक कोरोना के खतरे के बीच हुई कि जो मामूली समझबूझ के भी खिलाफ जाती है। इसमें करीब दो हजार लोग जुटे, और इसी भीड़ के बीच देश में लॉकडाउन हुआ। बाद में यहां से निकलकर लोग देश भर में […]

            Read More →

            बादल दिल्ली में फटा और पूरा देश डूब गया..

            By   5 days ago

            -सुनील कुमार।। लॉकडाउन के दौरान देश भर से पुलिस ज्यादती के बहुत सी खबरें आ रहीं हैं। तस्वीरें और वीडियो बताते हैं कि बेकसूरों को किस तरह लाठियां पड़ रही हैं। दरअसल पुलिस सरकार का सबसे पहले दिखने वाला चेहरा होता है। हर मुसीबत के वक्त पुलिस ही सबसे आगे, मुसीबत के सामने होती है। […]

            Read More →

            विश्व स्वास्थ्य संगठन की भारत को चेतावनी..

            By   7 days ago

            -श्याम मीरा सिंह।। WHO ने भारत को चेतावनी दी है कि कंट्रीवाइड लॉकडाउन कम्प्लीट सॉल्यूशन नहीं है। इससे सिर्फ और सिर्फ तैयारी करने के लिए अधिक समय मिल सकता है, कम्प्लीट सॉल्यूशन के लिए हेल्थ डिपार्टमेंट को अग्रेशिव तरीके से एक्शन लेने होंगे, अधिक से अधिक टेस्ट लेने होंगे ताकि कोरोना इंफेक्शन के मरीजों को […]

            Read More →

            अप्रवासी मज़दूरों के लिए राहत की खबर..

            By   7 days ago

            -श्याम मीरा सिंह।। एक राहत की ख़बर है, उत्तरप्रदेश सरकार ने दिल्ली के आसपास के बॉर्डर जैसे नोएडा, गाजियाबाद के आसपास करीब 80 बसें लगा दीं हैं, जो हर दो घण्टे पर प्रवासी मजदूरों को उनके गृह जिले तक पहुंचाने का काम करेंगी। इससे पहले जैसे ही सोशल मीडिया और मैनस्ट्रीम मीडिया ने प्रवासी मजदूरों […]

            Read More →

            कोविड-19 से निपटने खातिर आपदा प्रबंधन अधिनियम लागू, जानिए क्या है ये.?

            By   7 days ago

            -दिनेशराय द्विवेदी।। कोविद-19 महामारी के फैलने से रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की शक्तियों का उपयोग करते हुए की है। इस आदेश के जरिये पहली बार आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 का उपयोग किया गया है और राज्य सरकारों को केंद्र सरकार ने राज्यों […]

            Read More →

            इस महामारी के दौरान कहाँ है भाजपा और काँग्रेस..

            By   1 week ago

            -नारायण बारेठ।। उम्र 40 उम्र 135 साल एक इस वक्त सबसे बड़ी पार्टी है , एक सबसे पुरानी जमात है कितना अच्छा होता अगर इस विपत्ति में फंसे लोगो के लिए खाने की पहली खेप लेकर इन दोनों में से एक कोई पहुंचता। अच्छा होता अगर ये दोनों अलग अलग जगह जरुरतमंदो के लिए लंगर […]

            Read More →

            लॉक डाउन गरीबों के लिये भयावह त्रासदी..

            By   1 week ago

            -श्याम मीरा सिंह।। देश में लॉकडाउन के बाद महानगरों की पुलिस ने बेघरों को पीटना शुरू कर दिया। उनसे सड़कों के फुटपाथ, नुक्कड़ खाली करवा लिए गए. और वापस गांव जाने के लिए फोर्स करना शुरू कर दिया। आपने सब्जी के बन्द ठेलों को भी गिराती पुलिस के वीडियोज देख ही लिए होंगे। फैक्ट्रियों में […]

            Read More →

            कोरोना से मौत हो सकती है, होना ज़रूरी नहीं!

            By   1 week ago

            -श्याम मीरा सिंह।। भले ही कोविड-19 का वाजिब इलाज अभी तक नहीं है, लेकिन ऐसा नहीं है कि इसके होने से मृत्यु होना तय ही है. असल में इससे संक्रमित लोगों की मृत्यु दर बेहद सामान्य है. कुछ आंकड़े आपके लिए हैं, जो पैनिक हो चुके माहौल को शायद कुछ कम करें, WHO की रिपोर्ट […]

            Read More →

            काश मोदी का कोरोना चिंतन पहले होता..

            By   1 week ago

            -जयशंकर गुप्त।। कोरोना को लेकर प्रधानमंत्री जी की चिंता वाजिब है। वाकई अगले 21 दिन नहीं संभले तो 21 साल पीछे चले जाएंगे। हमने और हमारे परिवार ने तो चार दिन पहले से ही अपने को घर में ‘लाक डाउन’ कर लिया है। काश कि प्रधानमंत्री का यह चिंतन दो महीने पहले सामने आता। लोग […]

            Read More →

              व्यंग्य View All →

              देश के हाई प्रोफाइल VVIP और सोशल डिस्टेंसिंग..

              By   6 days ago

              -विष्णु नागर।। कल्पना करने के अपने मजे हैं। फिलहाल 15 अप्रैल तक सोशल डिस्टेंसिंग में हूँ । कामवाली बाई को हमने सवैतनिक अवकाश दे दिया है और मिलजुलकर हम काम कर रहे हैं।इतनी ‘गलती’ जरूर कर रहे हैं कि इसकी न सेल्फी ले रहे हैं, न एकदूसरे का काम करते हुए फोटू मोबाइल से ले […]

              Read More →

              जो मोदी से भी न डरे वे अब कोरोना से डरना सीख रहे..

              By   2 weeks ago

              -विष्णु नागर।। हम बहुत कुछ सीख रहे हैं। आप कहेंगे कि सरकार की आलोचना कर रहे हैं, नहीं भाई , मैं तो अपनी भी आलोचना नहीं कर रहा हूँ। मैं तो कह रहा हूँ, पहले हम जो सीख रहे थे, उसे हम और तेजी से सीख रहे हैं बल्कि बहुत कुछ नया भी सीख रहे […]

              Read More →

              व्हाट्सएप: अथ श्री कोरोना कथा..

              By   2 weeks ago

              -विष्णु नागर।। हम हिंदुस्तानी और उनमें भी विशेषकर हिंदुत्ववादी कुछ बातें पक्के तौर पर जानते हैं। पहली यह कि भारत कभी जगदगुरु  था और मोदीजी उसे फिर से जगद्गुरु बनानेवाले हैं। कोरोना गया और भारत जगद्गुरु बना। दूसरी बात पहले से जुड़ी हुई है कि हिंदू संस्कृति महान थी, महान है और युगों -युगों तक […]

              Read More →

              शताब्दी में समोसे की मानहानि..

              By   2 weeks ago

              -मुकेश नेमा।। अब कोई जीभ का मारा हर बार ,बार बार ,लगातार समोसा कैसे खा सकता है ! भोपाल नई दिल्ली शताब्दी मे चढ़िये ! ये दोपहर तीन बजे हबीबगंज से दिल्ली के लिये रवाना होती है ! आप चढ़ते है ,अपनी सीट तलाशते है ,सामान को सीट के ऊपर लगे रैक पर ठिकाने लगाते […]

              Read More →

              संघ से बचपन में ही निजात पा ली थी..

              By   3 weeks ago

              -विष्णु नागर।। संघी अगर जवाहर लाल नेहरू को इतना गरियाते हैं तो उसके ठोस कारण हैं। उस जमाने में बड़े हो रहे करोड़ों भारतीयों में मैं भी एक हूँ, जो नेहरू जी के कारण संघ में जाने से बाल -बाल बच गया। संघ एक अच्छे स्वयंसेवक से वंचित हो गया! मैं वीर रस का कवि […]

              Read More →

              किस किस को चाहिए वैलेंटाइन.?

              By   2 months ago

              -मुकेश नेमा।। तीसरी सदी की बात है ! रोम में तब के राजा क्लॉडियस को लगा कि शादी करने से पुरूषों की अकल और ताक़त दोनों ख़त्म हो जाते है ! ऐसा राजा को क्यों लगा ये बात आजतक साफ़ नहीं है ! हो सकता है ये राजा के निजी अनुभव रहे हों ! जो […]

              Read More →

              प्रोमिस करने से पहले दिमाग थपथपा लें..

              By   2 months ago

              -मुकेश नेमा।। समझदार क़िस्म के बाबू आज के दिन से सबसे ज़्यादा डरते हैं ! प्रामिस कर बैठे आप तो फिर बचा क्या ! आप प्रामिस कर लें या प्रेम कर लें ! दोनों बातें एक साथ कभी मुमकिन रही नहीं कभी ! जो संवेदनशील क़िस्म के लड़के आज के दिन प्रामिस कर बैठते हैं […]

              Read More →

              चोर के घर चोरी..

              By   2 months ago

              -मुकेश नेमा।। बैंक वाले बुरा ना मानें ! वो खुद चोर होते हैं ! क्रेडिट कार्ड के रखरखाव के नाम से ,मिनिमम बैलेंस के नाम से और भी दूसरे दर्जनों बहानों से पब्लिक का धन चुरा लिया जाता है ! यदि हमारी दयालु सरकार पाँच लाख तक जमा की ज़िम्मेदारी नहीं लेती तो बैंक वाले […]

              Read More →

              ईरानी होटल सी बेनूर कांग्रेस…

              By   2 months ago

              -राजीव मित्तल।। वैशाली के जंगल में पीपल के पेड़ पर दो डालों के बीच में टिके बर्बरीक उर्फ बॉब और चैनली बाला के बीच 2004 में हुआ एक संवाद.. बॉब, ये बताओ कि कांग्रेस का ईरानी होटल से क्या कनेक्शन है!! चैनली, एओ ह्यम ने तो एक कमरे पर कांग्रेस का बोर्ड टांगा और अपना […]

              Read More →

              नया भारत लिफ्ट वाले अदनान सामी का ही तो है..

              By   2 months ago

              -मुकेश नेमा।। अदनान को मिला ! ठीक मिला ! उनको लिफ़्ट मिली ! मिलना ही चाहिये थी ! वो सच्चे हक़दार है इसके ! वो हल्के होने के आंदोलन के अगुआ है ! कभी लंबा चौड़ा रह चुका यह आदमी अब केवल लंबा रह गया है ! पहली पहली बार जब देखे गये थे वो […]

              Read More →

              ये जो मंगल मिसिर हैं, पसीने का प्यासा..

              By   2 months ago

              -कलीम अव्वल।। मैं अभी फ़ज्र की नमाज़ के लिए वुज़ू कर रहा था कि मिसराइन का काल आ गया. फून उठाया तो मिसराइन बिना भूमिका और बिना लोकाचार शुरू हो गयीं ; ” अरे तंजू बाबू जल्दी आवा, मिसिर पगला गयल बा. “ मैंने पूछा क्या हो गया # लेकिन उधर से फून कट गया […]

              Read More →

              रोइये मत बल्कि हंसिये..

              By   3 months ago

              -विष्णु नागर।। थोड़ा हँस भी लिया करें यारोंं हम। हँसी का खजाना हमारे सामने खुला पड़ा है और हम हैं कि खुलकर हँस नहीं रहे हैं!हँसो यार,हँसो।अरे मैं सड़े हास्य सीरियलों की फेंफेंफें की बात नहीं कर रहा,फिल्मों के हिंसक मनोरंजन की बात नहीं कर रहा, फर्जी डिग्रीधारी की बात कर रहा हूँ। वह रोज […]

              Read More →

                कला व साहित्य View All →

                देश के हाई प्रोफाइल VVIP और सोशल डिस्टेंसिंग..

                By   6 days ago

                -विष्णु नागर।। कल्पना करने के अपने मजे हैं। फिलहाल 15 अप्रैल तक सोशल डिस्टेंसिंग में हूँ । कामवाली बाई को हमने सवैतनिक अवकाश दे दिया है और मिलजुलकर हम काम कर रहे हैं।इतनी ‘गलती’ जरूर कर रहे हैं कि इसकी न सेल्फी ले रहे हैं, न एकदूसरे का काम करते हुए फोटू मोबाइल से ले […]

                Read More →

                जो मोदी से भी न डरे वे अब कोरोना से डरना सीख रहे..

                By   2 weeks ago

                -विष्णु नागर।। हम बहुत कुछ सीख रहे हैं। आप कहेंगे कि सरकार की आलोचना कर रहे हैं, नहीं भाई , मैं तो अपनी भी आलोचना नहीं कर रहा हूँ। मैं तो कह रहा हूँ, पहले हम जो सीख रहे थे, उसे हम और तेजी से सीख रहे हैं बल्कि बहुत कुछ नया भी सीख रहे […]

                Read More →

                व्हाट्सएप: अथ श्री कोरोना कथा..

                By   2 weeks ago

                -विष्णु नागर।। हम हिंदुस्तानी और उनमें भी विशेषकर हिंदुत्ववादी कुछ बातें पक्के तौर पर जानते हैं। पहली यह कि भारत कभी जगदगुरु  था और मोदीजी उसे फिर से जगद्गुरु बनानेवाले हैं। कोरोना गया और भारत जगद्गुरु बना। दूसरी बात पहले से जुड़ी हुई है कि हिंदू संस्कृति महान थी, महान है और युगों -युगों तक […]

                Read More →

                शताब्दी में समोसे की मानहानि..

                By   2 weeks ago

                -मुकेश नेमा।। अब कोई जीभ का मारा हर बार ,बार बार ,लगातार समोसा कैसे खा सकता है ! भोपाल नई दिल्ली शताब्दी मे चढ़िये ! ये दोपहर तीन बजे हबीबगंज से दिल्ली के लिये रवाना होती है ! आप चढ़ते है ,अपनी सीट तलाशते है ,सामान को सीट के ऊपर लगे रैक पर ठिकाने लगाते […]

                Read More →

                संघ से बचपन में ही निजात पा ली थी..

                By   3 weeks ago

                -विष्णु नागर।। संघी अगर जवाहर लाल नेहरू को इतना गरियाते हैं तो उसके ठोस कारण हैं। उस जमाने में बड़े हो रहे करोड़ों भारतीयों में मैं भी एक हूँ, जो नेहरू जी के कारण संघ में जाने से बाल -बाल बच गया। संघ एक अच्छे स्वयंसेवक से वंचित हो गया! मैं वीर रस का कवि […]

                Read More →

                Book Extracts : New India Mein Mandi Publisher Note..

                By   1 month ago

                -Swapnil Srivastav , CEO , NotNul CP JHA’S E-BOOK IN HINDI “NEW INDIA MEIN MANDI” IS FOOD FOR THOUGHT FOR MODERN POLICY MAKERS AND ANLYSTS”With GDP growth rate for 2019-20 having dipped to an estimated an alarming 5 per cent as against 6.8 per cent in FY19, India’s economy is in a pretty bad shape.  The […]

                Read More →

                काला धन का काला जादू..

                By   1 month ago

                पुस्तक अंश : न्यू इंडिया में मंदी.. अचानक बड़े ही नाटकीय अंदाज में 8 दिसंबर 2016 को रात आठ बजे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजकीय टेलीविजन , दूरदर्शन से राष्ट्र को संबोधन में देश के 500 रूपये और 1000 रुपये के करेंसी नोटों के विमुद्रीकरण (नोटबंदी) की घोषणा कर उस कदम को उसी […]

                Read More →

                पुस्तक अंश : न्यु इंडिया में मंदी : लेखकीय वक्तव्य..

                By   1 month ago

                -चंद्र प्रकाश झा (सुमन) ।। कुछ बातें: हमने मुंबई में बरसों तक आर्थिक-वित्तीय पत्रकारिता करने से बहुत पहले इन विषयों पर लिखने की शुरुआत इस पुस्तक में कालाधन पर शामिल आलेख से ही की थी.वो पहली बार 16 मई 1985 को पाक्षिक अखबार पींग (रोहतक , हरियाणा ) में छपा था.इसके संस्थापक-सम्पादक डी.आर.चौधरी दयाल सिंह […]

                Read More →

                न्यू इंडिया में एयर इंडिया..

                By   1 month ago

                -चंद्र प्रकाश झा।। एयर इंडिया को बेचने की कोशिशें कई बार टांय-टांय फिस्स हो चुकी हैं. लेकिन मोदी सरकार ने एक बार फिर उसे बेचने की ठानी है. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने नवम्बर 2019 में टाईम्स ऑफ इंडिया के साथ भेंटवार्ता में कहा कि सरकार चाहती है कि मार्च 2020 तक इसकी बिक्री […]

                Read More →

                वह अज़ीब स्त्री..

                By   1 month ago

                -वीरेन्दर भाटिया।। लोग बताते हैं कि जवानी में वह बहुत सुन्दर स्त्री थी। हर कोई पा लेने की जिद के साथ उसके पीछे लगा था। लेकिन शादी उसने एक बहुत साधारण इंसान से की जिसका ना धर्म मेल खाता था, ना कल्चर। वह सुन्दर भी खास नहीं था और कमाता भी खास नहीं था। बहुत […]

                Read More →

                किस किस को चाहिए वैलेंटाइन.?

                By   2 months ago

                -मुकेश नेमा।। तीसरी सदी की बात है ! रोम में तब के राजा क्लॉडियस को लगा कि शादी करने से पुरूषों की अकल और ताक़त दोनों ख़त्म हो जाते है ! ऐसा राजा को क्यों लगा ये बात आजतक साफ़ नहीं है ! हो सकता है ये राजा के निजी अनुभव रहे हों ! जो […]

                Read More →

                प्रोमिस करने से पहले दिमाग थपथपा लें..

                By   2 months ago

                -मुकेश नेमा।। समझदार क़िस्म के बाबू आज के दिन से सबसे ज़्यादा डरते हैं ! प्रामिस कर बैठे आप तो फिर बचा क्या ! आप प्रामिस कर लें या प्रेम कर लें ! दोनों बातें एक साथ कभी मुमकिन रही नहीं कभी ! जो संवेदनशील क़िस्म के लड़के आज के दिन प्रामिस कर बैठते हैं […]

                Read More →

                  सोशल मीडिया View All →

                  मोदीजी का नया तमाशा..

                  By   1 month ago

                  गंभीर से गंभीर मुद्दे का तमाशा कैसे बनाया जा सकता है, यह मौजूदा सरकार और उसके मुखिया यानी मोदीजी से सीखना चाहिए। जब देश के युवा उनसे रोजगार की आस लगाए बैठे थे, तो वे टीवी स्टूडियो के नीचे पकौड़ा तलने को भी रोजगार बता रहे थे। जब किसान उनसे राहत की उम्मीद कर रहे […]

                  Read More →

                  ऐसे व्हाट्सऐप्प फॉर्वार्ड से बचिए-बचाइए..

                  By   1 month ago

                  -संजय कुमार सिंह।। मेरे पास एक व्हाट्सऐप्प फॉर्वार्ड आया है जिसे भेजने वाली एक महिला हैं, दिल्ली के दो अच्छे स्कूलों में बड़े बच्चों को पढ़ा चुकी हैं। एमए, पीएचडी पर अब रिटायर हैं। बच्चों की शादी हो चुकी है। बेटा विदेश में है। यह सब इसलिए कि उन्होंने जो संदेश मुझे फॉर्वार्ड किया उसे […]

                  Read More →

                  एक नए अराजक औजार ने किस तरह बदलकर रख दिया पुराने अहंकारी मीडिया को..

                  By   1 month ago

                  -सुनील कुमार।। सोशल मीडिया को लोग देश और दुनिया के अमन-चैन को खत्म करने वाला मान लेते हैं, और बहुत से लोगों को यह गलतफहमी भी रहती है कि वॉट्सऐप मैसेंजर भी एक सोशल मीडिया है। मैसेंजर तो एक के संदेश को दूसरे तक पहुंचाता है, और वॉट्सऐप जैसे ग्रुप में भी बस उसी ग्रुप […]

                  Read More →

                  पहले विश्वास करें, फिर इस्तेमाल करें..

                  By   1 month ago

                  -सुनील कुमार।।दुनिया में जब सोशल मीडिया का इस्तेमाल बढ़ा, तो एक लतीफा चल निकला कि अमरीकी सरकार ने सीआईए का बजट छोटा काट दिया है कि अब लोग खुद होकर अपने बारे में इतना कुछ लिखने लगे हैं कि अधिक जासूसी की तो जरूरत ही नहीं रह गई। मानो इतना ही काफी नहीं था, तो […]

                  Read More →

                  गार्गी कॉलेज में लड़कियों के साथ हुई बदतमीजी के चलते सोशल मीडिया पर हंगामा..

                  By   2 months ago

                  दिल्ली के गार्गी कॉलेज के वार्षिक समारोह में छात्राओं के साथ कुछ बाहरी लोगों द्वारा की गई अश्लील हरकतों के कारण देशभर में हंगामा मच गया है और सोशल मीडिया के यूजर्स इस मसले पर काफी क्रोधित नज़र आ रहे हैं. मानवाधिकारों के लिए काम करने वाले संस्कृतिकर्मी अजित साहनी ने अपनी वाल पर पोस्ट […]

                  Read More →

                  हिंसक होने का नहीं बल्कि गांधी के रास्ते चलने का वक़्त है..

                  By   4 months ago

                  -सौरभ वाजपेयी।। हमारे जैसे लोग और संगठन CAA और NRC के विरोध में इसलिए उतरे हैं कि यह हमारे देश और उसके संविधान की आत्मा के विरुद्ध साजिश है। हम इसलिए नहीं आये कि कोई भी अनियंत्रित भीड़ पागल होकर बसें जलाने लगे और पुलिस पर पत्थर बरसाने लगे। राज्य यही चाहता है कि आप […]

                  Read More →

                  अमित शाह का इस्तीफा क्यों नहीं होना – चाहिए पर पाठकों की राय

                  By   2 years ago

                  -संजय कुमार सिंह॥ सीबीआई जज बीएच लोया की संदिग्ध मौत, उसके कारण, प्रभाव आदि पर जब विवाद हो गया और सारी चीजें खुल कर सामने आ गईं तथा यह तय हो गया कि इस मामले की जांच फिर से कराए जाने पर सुप्रीम कोर्ट में विचार होगा तो मैंने लिखा था की जब शक की […]

                  Read More →

                  झूठ-सच बोलकर गुब्बारे में बैठ गए, हमें देखिए, जमीन पर ही हैं..

                  By   2 years ago

                  -उषा पंडित की फेसबुक पोस्ट – हिंदी अनुवाद: संजय कुमार सिंह|| प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2014 में जब चुनाव प्रचार कर रहे थे तो उन्होंने आयकर खत्म करने को मुश्किल संभावना कहा था। इसके साथ गुजरात में उनके बहुत काम करने या परिश्रमी होने की अफवाहों तथा मंदिर के मुकाबले शौचालयों को महत्वपूर्ण बना दिए जाने […]

                  Read More →

                  मी लार्ड ! भगवान करे आपसे किसी का पाला ना पड़े..

                  By   2 years ago

                  –राकेश कायस्थ॥ उन दिनों मैं एक बच्चा पत्रकार हुआ करता था। रिपोर्टर के तौर पर मेरे पास जो बीट्स थी, उनमें MRTP comission भी शामिल था। अंग्रेजी में monopolies and ristrictive treade practices comission, हिंदी नाम— प्रतिबंधित और एकाधिकार व्यापार व्यवहार आयोग। कमीशन का दफ्तर दिल्ली के शाहजहां रोड पर था, जहां उसकी अपनी अदालत […]

                  Read More →

                  नीलोत्पल मृणाल ने फ़ेसबुक पर जिग्नेश मेवानी को लिखा खुला ख़त..

                  By   2 years ago

                  जिग्नेश मेवानी, सॉरी! तुमने अचानक से निराश किया।तुम्हें ताज़ा ताज़ा आज तक न्यूज़ के एक कार्यक्रम में सुना।अच्छा नही लगा। साथी एक तो मुझ साधारण को जिसे बमुश्किल कुछ सौ दो सौ लोग एक दो कारणों से जानते होंगे,उसमें भी सारे नही भी। पर जितने जानते होंगे उसमें भी आधे आज से मुझे, संघी हो […]

                  Read More →

                  योगी आदित्यनाथ बनाम विपक्ष..

                  By   3 years ago

                  -विवेक सामाजिक यायावर|| अभी शपथ ग्रहण भी नहीं हुआ और आप हुआ-हुआ करने लगे। यदि हुआ-हुआ ही करना था तो भाजपा को इतने भारी बहुमत से जिताया क्यों। यदि आपको यह लगता है कि भारी बहुमत EVM की करामात है तो उतरिए सड़क पर और बचाइए लोकतंत्र को, खाइए लाठियां, जाइए जेल, करिए अपना सीना […]

                  Read More →

                    अपराध View All →

                    शहीद जवान का जूता और उसके हिस्से का निवाला..

                    By   2 weeks ago

                    -रानू तिवारी।। सुकमा जिले में जो जवानों की नक्सलियों से मुठभेड़ हुई जिसमें 17 जवान मारे गए उसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग करने के लिए घटनास्थल पहुंचा। घटनास्थल पर कुछ ज्यादा करने को नहीं था पेड़ों पर बस गोलियों के निशान थे नक्सलियों का एक जिंदा ग्रेनेड था और कुछ जगहों पर खून के निशान थे। ये […]

                    Read More →

                    जान और नियम ताक पर रखकर हो रहा है यूपी एमपी में अवैध बालू परिवहन ..

                    By   1 month ago

                    बालू ढुलाई का नशा ऐसा कि ज़िन्दगी की परवाह नहीं करते ट्रैक्टर चालक.. बाँदा, हमीरपुर से अधिक एमपी में केन नदी बनी अवैध बालू निकासी का गढ़.. -आशीष सागर दीक्षित।। बाँदा / महोबा / छतरपुर। लाल बालू के काले खेल मे जान और नियम दोनो को ताक पर रखकर बालू चोर अवैध परिवहन को अंजाम […]

                    Read More →

                    विश्व हिन्दू महासभा के अध्यक्ष की हत्या स्मृति और दीपेंद्र ने की थी..

                    By   2 months ago

                    -श्याम मीरा सिंह।। विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की हत्या का मामला सुलझ चुका है. इंडिया टूडे और आजतक ने रिपोर्ट की है कि रणजीत बच्चन का हत्या, किसी और ने नहीं बल्कि उसकी दूसरी पत्नी स्मृति और उसके बॉयफ्रेंड दीपेंद्र ने की है। दरअसल रंजीत बच्चन और उसकी दूसरी पत्नी स्मृति के […]

                    Read More →

                    यूट्यूबर गुंजा कपूर बुर्का पहन स्टिंग करने पहुँची शाहीन बाग़..

                    By   2 months ago

                    बुर्का (Burqa) पहन कर आईं गुंजा कपूर (Gunja Kapoor) शाहीन बाग में प्रदर्शन (Shaheen Bagh Protest) के दौरान वहां की कुछ महिलाओं से बातचीत कर रही थीं. इस दौरान महिलाओं को उन पर शक हुआ जिसके बाद पुलिस (Delhi Police) को बुलाकर उन्हें वहां से बाहर किया गया. पुलिस ने गुंजा को हिरासत में लेकर […]

                    Read More →

                    राष्ट्रपति मैडल से सम्मानित डीएसपी आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार..

                    By   3 months ago

                    –पंकज चतुर्वेदी।। अपनी बहादुरी के लिए राष्‍ट्रपति मैडल से सम्‍मानित जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के एक अधिकारी को शनिवार को दो आतंकियों के साथ श्रीनगर-जम्‍मू हाईवे पर एक गाड़ी में सफर करते वक्‍त पकड़ा गया. पुलिस सूत्रों ने बताया कि ये आतंकी दिल्‍ली जा रहे थे. संवेदनशील श्रीनगर अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे पर तैनात डीएसपी दविंदर सिंह […]

                    Read More →

                    क़ातिलों को सज़ा दिलवाने कनाडा से 89 वीं बार भारत आया बेटा, 16 साल पहले हुई थी माँ की हत्या..

                    By   3 months ago

                    “मैं अपनी माँ को न्याय दिलाने के लिए 16 साल से भटक रहा हूँ”.. आरोपी सुभाष अग्रवाल के ख़िलाफ़ है इंटरपोल रेड कॉर्नर नस, वो टोरंटो क्षेत्र में एक कनाडाई नागरिक के रूप में रहता है मुम्बई: 16 साल में 89वीं बार, वैंकूवर (कनाडा) के व्यवसायी संजय गोयल अपनी माँ की हत्या के ख़िलाफ़ न्याय […]

                    Read More →

                    बिजनौर में 6 पुलिसकर्मियों पर हत्या का मामला दर्ज..

                    By   3 months ago

                    सीएए के विरोध को लेकर नहटौर उपद्रव के नौवें दिन पुलिस ने तत्कालीन थाना इंचार्ज व एक दरोगा समेत छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ सुलेमान की हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने यह कार्रवाई मृतक सुलेमान के भाई की तहरीर पर की है। -पंकज चतुर्वेदी।। नहटौर में 20 दिसंबर को हुए बवाल में गोलीबारी […]

                    Read More →

                    धारा 144 जमानती अपराध है लेकिन पुलिस बना रही पोस्टर बॉय..

                    By   3 months ago

                    -पंकज चतुर्वेदी।। बीस दिसम्बर को देश के कई हिस्सों के साथ गाज़ियाबाद में हुयी दुर्भाग्यपूर्ण अशांति अब यहाँ की पुलिस के लिए सोने का अंडा देने वाली मुर्गी बन गयी है , जिले के विभिन्न थानों में दर्ज सात एफ़आईआर में कोई सात सौ नामज़द और कई हज़ार अज्ञात लोग दर्ज कर लिए गये हैं। […]

                    Read More →

                    राजस्थान पुलिस ने पायल रोहतगी को किया गिरफ्तार..

                    By   4 months ago

                    -पंकज चतुर्वेदी।। हर समय बकवास करने वाली अभिनेत्री पायल रोहतगी को गिरफ्तार किया गया। पायल ने पंडित नेहरू के परिवार पर तथ्यहीन और अभद्र टिप्पणी की थी। उसे अहमदाबाद से राजस्थान की बूंदी पुलिस ने गिरफ्तार किया। बिग बॉस फेम अभिनेत्री पायल रोहतगी को बूंदी पुलिस ने मोती लालनेहरू पर वीडियो बनाने के मामले में […]

                    Read More →

                    पुलिस का न्याय – आरोपी दबंग है तो पीड़िता की हत्या, आरोपी गरीब है तो एनकाउंटर..

                    By   4 months ago

                    आज गौहनिया बाजार में प्रगतिशील महिला संगठन ने समाज में बलात्कार की बढती घटनाओं, पीड़िताओं की हत्या एवं पुलिस द्वारा बलात्कारियों की रक्षा करने के विरोध में सभा कर रैली निकाली। हाथो में झण्डे व स्लोगन लिखी तख्तियां लिए सभा कर नारे लगाए व मांग की कि ‘‘बलात्कारियों को सजा देने की गारंटी करो‘‘, ‘‘नया […]

                    Read More →

                    न वकील, न दलील, मारे गए जलील..

                    By   4 months ago

                    -कुमार सौवीर।। अगर आप इस जीवन-दर्शन को स्वीकार कर चुके हैं तो यकीन मानिए मौत अब आपके, आपके घर और परिवार-कुटुम्ब के दरवाजे तक पहुंच चुकी है। हम हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपियों को आज पुलिस एनकाउंटर में मौत के हवाले किये जाने की पुलिसिया कार्रवाई पर बात कर रहे हैं। जहां महिलाएं पुलिसवालों को […]

                    Read More →

                    पुलिस वालों द्वारा राहजनी के संकेत मिलते हैं विवेक तिवारी की हत्या के पीछे

                    By   2 years ago

                    -सुरेंद्र ग्रोवर॥ लखनऊ में हुई विवेक तिवारी की हत्या न तो फेक एनकाउंटर है और न ही सेल्फ डिफेन्स में चलाई गई गोली से हुई मौत. इस मामले को ग़ौर से देखने  पर पता चलता है कि मामले के पीछे कुछ पुलिस वालों द्वारा रात के अंधेरे में की जाने वाली सशस्त्र राहजनी के संकेत मिलते हैं. […]

                    Read More →
                      Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
                      WhatsApp chat
                      %d bloggers like this: