मीडिया View All →

कांग्रेस के बड़े नेताओं को सबक सिखाना चाहते हैं राहुल गांधी

By   2 months ago

-शकील अख्तर॥ राहुल गांधी ने कांग्रेस को ठीक से झकझोर दिया है। हवा में उड़ते पत्तों की तरह कांग्रेसी नेताओं की समझ में नहीं आ रहा है कि उनका क्या होगा। अधिकांश कांग्रेसी नेताओं को पार्टी की चिन्ता नहीं है उन्हें फिक्र यह है कि वे अब गणेश परिक्रमा किस की करेंगे। राहुल भी जानते […]

Read More →

रियाज़उद्दीन शेख़ की विदाई के मायने..

By   2 months ago

–अनिल शुक्ल॥ रियाज़उद्दीन शेख़ के नाम से ‘मीडिया दरबार’ के पुरस्कारों की घोषणा स्वागत योग्य है। सुझाव है कि इसके लिए ऐसे युवाओं को चुना जाय जो छोटे जनपदों में रहकर ईमानदार और निर्भीक पत्रकारिता की मशाल जलाने की कोशिश में मशगूल हैं। ज़ाहिर है ‘क़लम’ को भोथरा बनाये जाने के राज्यगत आतंक के इस […]

Read More →

मोदी का इंटरव्यू जो था ही नहीं..

By   3 months ago

-प्रशांत टण्डन॥ प्रधानमंत्री को चुनावी रैली में भी एक स्टेट्समैन की तरह बोलना चाहिये न कि किसी छुटभइये नेता की तरह घंटाघर पर ललकारने वाले भाषण की तरह. पिछले प्रधानमंत्रियों के चुनावी भाषण ऐसे ही रहे हैं. माना कि मोदी एक अग्रेसिव प्रचारक हैं और उन्हे झूठ सच का फ़र्क खत्म करके भाषा की मर्यादा […]

Read More →

दैनिक जागरण के महासमर 2019 के चार पन्नों की समीक्षा- विपक्ष और पाठकों की हो रही है हत्या

By   4 months ago

-रवीश कुमार|| तारीख़ 25 मार्च। पन्ना नंबर दो। महासमर 2019। इस पन्ने पर छोटी-बड़ी 14 ख़बरें हैं। 7 ख़बरें भाजपा नेताओं के बयान पर बनाई गईं हैं। मुख्यमंत्री योगी, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, जे पी नड्डा, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी प्राची, भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह। बयानों के आधार पर सातों खबरें विस्तार से […]

Read More →

पाक पर एयर स्ट्राइक का भरपूर चुनावी फायदा मिलेगा भाजपा को..

By   5 months ago

-दिलीप ख़ान || आज तड़के भारतीय वायु सेना ने सरहद पार पाकिस्तान की ज़मीन पर बम बरसाए. इस हमले पर रत्ती भर भी संदेह की कोई वजह नहीं बनती. भारत की तरफ़ से होने वाले किसी भी दावे से पहले पाकिस्तान ने ख़ुद इस घटना की पुष्टि कर दी. पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल […]

Read More →

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के बेटे का विदेशों में काले धन का कारखाना : ‘कैरवां’ की रिपोर्ट

By   6 months ago

कौशल श्रॉफ नाम के एक खोजी पत्रकार ने अमेरिका, इंग्लैंड, सिंगापुर और केमैन आइलैंड से दस्तावेज़ जुटाकर डोभाल के बेटों के काले को सफेद करने और भारत के पैसे को बाहर भेजने के कारोबार का खुलासा कर दिया है. -रवीश कुमार|| कौशल श्रॉफ नाम के एक खोजी पत्रकार ने अमेरिका, इंग्लैंड, सिंगापुर और केमैन आइलैंड […]

Read More →

फ़ैसला अगर ख़िलाफ़ है, कह दो – जज बेईमान है!

By   6 months ago

-नीरेंद्र नागर|| जस्टिस सीकरी ने लंदन में कॉमनवेल्थ ट्राइब्यूनल की पोस्टिंग का प्रस्ताव ठुकराकर बहुत अच्छा किया। कोई भी व्यक्ति जो अपने चरित्र पर कीचड़ उछाला जाना बर्दाश्त नहीं कर सकता, वह ऐसा ही करता। उम्मीद है कि आलोक वर्मा मामले में उनपर जो आरोप लगा था कि चार साल की इस पोस्टिंग के लालच […]

Read More →

अकबर के खिलाफ आरोप गोल करने वाले हिन्दी अखबारों ने उनका जवाब प्रमुखता से छापा, पर आरोप नहीं बताए

By   9 months ago

–संजय कुमार सिंह॥ केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर के खिलाफ आरोप नहीं छापने वाले हिन्दी अखबारों ने आज उनका जवाब पूरे विस्तार से और पूरी प्रमुखता से छापा है। नवभारत टाइम्स में आज पहला पेज पूरा विज्ञापन है पर मास्टहेड के बगल में ईयर पैनल में अकबर की फोटो के साथ लिखा है, दरबार में बने […]

Read More →

पुण्य का प्रताप या पाप..

By   10 months ago

-अतुल चौरसिया|| डिजिटल मीडिया की क्रांति में खबरों की उम्र कम हो गई है. स्मार्टफोन धारकों के लिए सुबह का अख़बार 70-80 प्रतिशत बासी हो चुका होता है. लिहाजा आज से 50 दिन पहले घटी कोई घटना तो लगभग इतिहास का ही हिस्सा हो जाती है. लेकिन सौभाग्य या दुर्भाग्य से यह पोस्ट ट्रुथ युग […]

Read More →

ये इमरजेन्सी नहीं, लोकतंत्र का मित्र बनकर लोकतंत्र की हत्या का खेल है..

By   12 months ago

‘मास्टरस्ट्रोक’ रोकने के पीछे सत्ता का “ब्लैक स्ट्रोक” –पुण्य प्रसून वाजपेयी॥ क्या ये संभव है कि आप प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नाम ना लें । आप चाहें तो उनके मंत्रियो का नाम ले लीजिये । सरकार की पॉलिसी में जो भी गड़बड़ी दिखाना चाहते है, दिखा सकते हैं । मंत्रालय के हिसाब के मंत्री का […]

Read More →

    देश View All →

    पाक पर एयर स्ट्राइक का भरपूर चुनावी फायदा मिलेगा भाजपा को..

    By   5 months ago

    -दिलीप ख़ान || आज तड़के भारतीय वायु सेना ने सरहद पार पाकिस्तान की ज़मीन पर बम बरसाए. इस हमले पर रत्ती भर भी संदेह की कोई वजह नहीं बनती. भारत की तरफ़ से होने वाले किसी भी दावे से पहले पाकिस्तान ने ख़ुद इस घटना की पुष्टि कर दी. पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल […]

    Read More →

    क्या मोदी को चुनाव के पहले ही जाना पड़ सकता है ?

    By   8 months ago

    -अरुण माहेश्वरी॥ सुप्रीम कोर्ट में रफाल सौदे पर कल लगभग साढ़े तीन घंटे की असामान्य जिरह से जो बातें साफ तौर पर सामने आईं, वे थी – 1. इस सौदे पर फ्रांसीसी सरकार की तरफ से कोई गारंटी नहीं दी गई है । अर्थात्, सरकार के इस कथन में कोई सार नहीं है कि यह […]

    Read More →

    क्या सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को हटाने का फ़ैसला अमित शाह ने लिया.?

    By   9 months ago

    -प्रशांत टण्डन॥ 24 अक्तूबर की रात सीबीआई में तख्तापलट की टेलीग्राफ ने जो टाइमलाइन छापी है उसकी शुरुआत होती रात 10 बजे प्रधानमंत्री निवास पर एक बैठक से जिसमे प्रधानमंत्री मोदी के अलावा, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित दोवल और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद थे. इसी बैठक के आधे घंटे बाद यानि 10:30 बजे सीबीआई […]

    Read More →

    नरेंद्र मोदी दिवालिया होने के कगार पर खड़े अनिल अम्बानी का कौन सा क़र्ज़ा उतार रहे हैं..

    By   10 months ago

    –जितेंद्र नरूका॥ जल्दी ही फाइनेंस मिनिस्टर, RBI गवर्नर आदि आदि अर्थशास्त्रियों के बयान आ सकते हैं! “LIC भारतीय जीवन बीमा निगम और GIC जनरल बीमा निगम सक्षम नहीं तो हल्ला मत मचाईए” जैसे HAL से 59,000 करोड़ की डील छीन कर अनिल अंबानी की 2 हफ्ते पूर्व बनी कम्पनी को देने पर पूर्व सेना अध्यक्ष […]

    Read More →

    औरतें, ‘व्यभिचार’ परिवार,नैतिकता और समाज

    By   10 months ago

    -मणिमाला|| भारतीय दंड संहिता की धारा 497 पर आए सुप्रीम कोर्ट फैसले के बाद कुछ लोगों को लग रहा है कि हर औरत व्यभिचारी हुई जा रही है. समाज अनैतिकता के गर्त में गिरा जा रहा है. सवाल उठ रहे हैं कि अब परिवार का क्या होगा? बच्चों का क्या होगा? कुछ लोग तो इतने […]

    Read More →

    पुलिस में महिलाओं का कम होना अखिल भारतीय समस्या

    By   1 year ago

    58 करोड़ महिला आबादी के लिए  देश भर में महज  586 महिला थाने.. –गीता यादव॥ पुलिस में महिलाओं का कम होना दरअसल अखिल भारतीय समस्या है. ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट के मुताबिक भारत में सिर्फ एक लाख 20 हजार महिला पुलिसकर्मी हैं. इनमें भी कुछ राज्यों में हालात बेहद बुरे हैं. जिन महिलाओं […]

    Read More →

    बकरवाल कौन हैं..

    By   1 year ago

    -नारायण बारहठ|| कोई शिकस्त उन्हें वादी ए कश्मीर तक ले गई कश्मीर में तीन नस्लीय समूह है -कश्मीरी ,डोगरी और गुज्जर लेकिन वे जो जबान बोलते है वो न कश्मीरी से मिलती है न डोगरी के करीब है। जम्मू -कश्मीर में गुज्जर और बकरवाल गोजरी भाषा बोलते है। यह राजस्थानी के निकट है। जम्मू में […]

    Read More →

    म्हारो थारो के हुयो..

    By   1 year ago

    -नारायण बारहठ|| ये जम्मू कश्मीर में उस जबान का हिस्सा है जो गूजर- बकरवाल बोलते है।कश्मीर में चौधरी मसूद उस गूजर समुदाय के पहले ग्रेजुएट है। वे पुलिस सेवा में एडिशनल डी जी पद तक पहुंचे और फिर राजौरी में एक यूनिवर्सिटी के संस्थापक कुलपति भी रहे। कहने लगे ‘गूजर रोजमर्रा में म्हारो थारो जैसे […]

    Read More →

    धार्मिक स्थल व्याभिचार के सबसे बड़े अड्डे रहे हैं सदियों से..

    By   1 year ago

    मंदिरों में व्यभिचार की घटनाएं देखकर उस वैदिक साधु ने तान दी थी विरोध के धनुष की प्रत्यंचा और ढेर कर दिया था अध्यात्म की गरिमा के हंताओं को.. -त्रिभुवन|| लोग उसे स्वामी विवेकानंद की तरह प्रेम नहीं करते, क्योंकि वह विदेशी भाषा में विदेशी लोगों को प्रसन्न करने के लिए विदेशी धरती पर नहीं […]

    Read More →

    धर्मध्वजा की आड़ में बलात्कारी

    By   1 year ago

    -अशोक कुमार पाण्डेय|| हिसाब से तो कभी हालात के हिसाब से। मान्यता है कि मूलतः ये काठियावाड़ क्षेत्र के राजपूत थे जो सातवीं-आठवीं शताब्दी में कश्मीर पलायित हो गए थे। कल्हण के यहाँ इनके नौवीं-दसवीं शताब्दी में कश्मीर के सीमावर्ती प्रदेशों में निवास का ज़िक्र आता है। चौदहवीं-पंद्रहवीं शताब्दी में इन्होने इस्लाम अपना लिया लेकिन […]

    Read More →

      राजनीति View All →

      राजस्थान: कांग्रेस का नहीं बल्कि पोपाबाई का राज..

      By   2 months ago

      प्रदेश में रिश्वतखोरी और अराजकता चरम पर अशोक गहलोत का प्रशासन से नियंत्रण खत्म -महेश झालानी॥ राजस्थान में एक बार फिर से पोपाबाई का राज कायम होगया है । अशोक गहलोत जब पहली बार मुख्यमंत्री बने थे तब भी पोपाबाई ने राज पर कब्जा कर लिया था । वहीं स्थिति फिर पैदा होगई है । […]

      Read More →

      राजीव गांधी और राजनीति के पेंच

      By   2 months ago

      -प्रकाश के राय॥ पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कामकाज पर बहुत कुछ अच्छा और ख़राब कहा जा सकता है, लेकिन इस सच से कोई इनकार नहीं कर सकता है कि प्रधानमंत्री के रूप में उन्हें कई त्रासदियों से गुज़रना पड़ा. पद संभालने के साथ उन्होंने इंदिरा गांधी के क़रीबी कद्दावर नेताओं को हाशिये पर डाला […]

      Read More →

      बनारस से प्रियंका के न लड़ने के मायने

      By   3 months ago

      -प्रशांत टण्डन॥ प्रियंका गांधी की बनारस से उम्मीदवारी को हवा देकर न लड़ाने का फैसला करके कांग्रेस ने मोदी को ज़ोर का झटका धीरे से दे दिया है. मतलब शहर में एक दिलचस्प मुक़ाबले का डंका बज गया, टिकट बिक गए और स्टेडियम भी भर गया लेकिन बॉक्सिंग रिंग में दस्ताने पहने मोदी अकेले खड़े […]

      Read More →

      “सफाई कर्मियों को बराबरी का दर्जा चाहिये, पैर धोना उनका अपमान है” बेज़वाड़ा विल्सन

      By   5 months ago

      -हृदयेश जोशी|| सफाई कर्मचारी आंदोलन के संस्थापक और रमन मैग्सेसे अवॉर्ड विजेता बेजवाड़ा विल्सन का कहना है कि कुम्भ में सफाईकर्मियों के पैर धोना असंवैधानिक है। यह उन्हें तुच्छ दिखाकर खुद को महिमामंडित करने जैसा है। विल्सन पिछले कई दशकों से मैला उठाने के काम में लगे लोगों के बीच काम कर रहे हैं और […]

      Read More →

      यूपी का अनाज़ घोटाला नचाता है माया मुलायम को केंद्र के इशारों पर..

      By   10 months ago

      –पंकज चतुर्वेदी॥ उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अनाज का घोटाला असल में देश के सबसे बड़े घोटालों में से एक है, सालों तक पचास जिलों से सार्वजानिक वितरण प्रणाली का अनाज चोरी कर विदेश बेचा जाता रहा . यह अकेले घोटाला मात्र नहीं है- यह राज्य की सियासत का सबसे बड़ा जमूरा भी है […]

      Read More →

      रक्षा मंत्रालय की फाइल से खुले राज़, रफाल के कम दाम से किसे था एतराज़

      By   10 months ago

      -रवीश कुमार|| इंडियन एक्सप्रेस के सुशांत सिंह की ख़बर पढ़िएगा। सितंबर 2016 में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और फ्रांस के रक्षा मंत्री के बीच रफाएल क़रार पर दस्तख़त हुए थे, उसके ठीक पहले रक्षा मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रफाल लड़ाकू विमानों की कीमतों को लेकर सवाल उठाए थे और इसे फाइल में दर्ज़ […]

      Read More →

      देश के राफ़ेल डील पर प्रधानमंत्री मोदी के इस्तीफ़े का इंतज़ार है..

      By   10 months ago

      –प्रशांत टण्डन॥ अप्रेल,1987 में स्वीडिश रेडियो ने खुलासा किया था कि बोफोर्स सौदे में बिचौलिया था और कमीशन दी गई थी. इसके बाद देश की राजनीति में तूफान खड़ा हो गया और राजीव गांधी चुनाव हार गए थे. सरकारे उनकी बनी जिन्होने आरोप लगाये थे, बरसों मुकदमा चला लेकिन राजीव गांधी पर आरोप सिद्ध नहीं […]

      Read More →

      अब राफ़ेल बनाम बोफ़ोर्स..

      By   12 months ago

      -ज्ञानेंद्र पांडेय॥ कहना गलत नहीं होगा कि अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के बहाने मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को सरकार के खिलाफ २०१९ का लोकसभा चुनाव लड़ने का एक मुद्दा मिल गया है। यह मुद्दा होगा राफेल बनाम बोफोर्स। गौरतलब है कि १९८९ के लोकसभा चुनाव में तत्कालीन कांग्रेस सरकार के प्रधान मंत्री स्वर्गीय राजीव गाँधी […]

      Read More →

      मोदी 2002 की कैद में हैं..

      By   1 year ago

      –प्रशांत टंडन॥ प्रधानमंत्री एक ऐसा पद होता है जहां पहुँच कर कोई भी व्यक्ति फिर से चुने जाने की जुगत बिठाने के साथ एक और फिक्र में घिरा रहता है कि इतिहास उसके बारे क्या लिखेगा. इंदिरा गांधी ने तो भविष्य के इतिहासकारों की “सुविधा” के लिये लालकिले में कालपात्र भी गड़वाया था. हालांकि चार […]

      Read More →

      क्या कांग्रेस मुग़ल साम्राज्य का अंतिम अध्याय और राहुल गांधी बहादुर शाह ज़फ़र के ताज़ा संस्करण हैं?

      By   1 year ago

      -त्रिभुवन|| वैसे तो यह टिप्पणी कांग्रेस के तपस्वी और निर्भीक नेता बाबू गंगाशरण सिंह ने भारत-पाकिस्तान युद्ध से कुछ समय पहले तत्कालीन प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री के लिए की थी, लेकिन आज यह टिप्पणी पार्टी के वर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर सटीक बैठती है। बाबू गंगाशरण सिंह इस्पाती नेता थे। आज कांग्रेस में ऐसे नेताओं […]

      Read More →

        बहस View All →

        हम भ्रष्टन के, भ्रष्ट हमारे..

        By   2 years ago

        –हिमांशु कुमार॥ 2 जी मामले में अदालत ने जिन आरोपियों को बरी किया है उनमें डीएमके पार्टी के तत्कालीन मंत्री ए राजा और तमिलनाडु के भूतपूर्व मुख्यमंत्री करूणानिधि की बेटी कनिमोझी मुख्य हैं इसके अलावा बचने वालों में पूंजीपति अनिल अम्बानी, रूईया वगैरह भी शामिल हैं ये लोग जो बरी हुए हैं वे मोदी सरकार […]

        Read More →

        सुप्रीम कोर्ट को आख़िर आपत्ति क्यों.?

        By   2 years ago

        -ओम थानवी॥ भाजपा जीतेगी, सब एग्ज़िट पोल कहते हैं। सही ही होगा। मरज़ी माफ़िक़ चुनाव का समय ख़ुद तय करने की सुविधा पाकर, अरबों की चुनावकालीन ख़ैरात और इतना हिंदू-मुसलमान, भारत-पाक, रफ़ीक-पटेल, ऊँच-नीच, रोरो-फ़ैरी, सी-प्लेन के चमत्कारों के बाद भी भाजपा न जीते तो हैरानी होगी। लेकिन सर्वोच्च अदालत को मतों की पर्चियाँ गिनवाने पर […]

        Read More →

        वंदे मातरम् को संविधान सभा ने राष्ट्रगीत का दर्जा दिया था..

        By   2 years ago

        -गुरदीप सिंह सप्पल॥ दयाल सिंह कालेज का नाम वन्दे मातरम् कालेज करेंगे। क्यों भई? ठीक है कि तुम अभी अभी नींद से जागे हो। ठीक है कि तुम्हारा देशप्रेम नया नया हिल्लोरें मार रहा है, ठीक वैसे ही जैसे कहते हैं कि नया नया मुल्ला ज़ोर ज़ोर से बाँग देता है। तुम्हें राष्ट्रगीत से अपनी […]

        Read More →

        बैंकों का ख़स्ता हाल, यूबीआई का घाटा बढ़ा..

        By   2 years ago

        –अरूण माहेश्वरी॥ मोदी-जेटली दावा कर रहे थे कि नोटबंदी से बैंकों का ख़ज़ाना नगदी से भर जायेगा, उद्योगों को आसान दरों पर क़र्ज़ मिलेगा, बैंकों को भारी लाभ होगा, जनता की तकलीफ़ों के बावजूद अर्थ-व्यवस्था का विकास होगा । जीडीपी, जिसे आर्थिक विकास का सबसे बड़ा मानदंड माना जाता है और पूँजी निर्माण (अर्थात उद्योगों […]

        Read More →

        हैलो, मैं जॉन डो बोल रहा हूँ..

        By   2 years ago

        -गिरीश मालवीय|| अमेरिका में 1941 में बनी जॉन डो नामक एक फिल्म बहुत लोकप्रिय हुई थी. तभी से अपने आपको गुमनाम रखकर खुफिया कामों में लगे अमेरिकी लोग अपना परिचय अक्सर इसी नाम से देते हैं. आजकल जो बहुत से खुलासे विकीलीक्स, पनामा पेपर्स ओर अब पैराडाईज पेपर्स की शक्ल में हुए हैं उनके मूल […]

        Read More →

        इंडियन एक्सप्रेस के खुलासे में पहले पेज पर फोर्टिस के डॉक्टर अशोक सेठ..

        By   2 years ago

        -संजय कुमार सिंह|| इंडियन एक्सप्रेस ने अपने खुलासे में पहले पेज पर फोर्टिस के डॉक्टर अशोक सेठ का मामला भी छापा है। शीर्षक में ही कहा गया है कि डॉ. सेठ अपने मरीजों के लिए जिस कंपनी के स्टेंट का उपयोग करते थे उन्हें उसके शेयर मिले थे। इस खबर के साथ डॉ अशोक सेठ […]

        Read More →

        इंफोसिस को विलेन बनाने की कोशिश, अब उसकी भी सुनिए..

        By   2 years ago

        -संजय कुमार सिंह|| आप पढ़ चुके हैं कि व्यापारियों की संस्था कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) ने जीएसटी दाखिल करने में हो रही समस्याओं के लिए जीएसटी नेटवर्क के पोर्टल और इसे बनाने तथा इसका रख-रखाव करने वाली कंपनी – इंफोसिस को जिम्मेदार ठहराया है। और इसकी जांच कराने तथा इसपर श्वेत पत्र जारी […]

        Read More →

        जीएसटी दरों से प्लास्टिक उद्योग खफा

        By   2 years ago

        -संजय कुमार सिंह|| जीएसटी लागू होने से पहले प्लास्टिक उत्पादों पर 12.5 प्रतिशत उत्पाद शुल्क और वैट लगता था। इस आधार पर जीएसटी कौंसिल ने प्लास्टिक के ज्यादातर उत्पादों पर 18 फीसदी जीएसटी लागू किया लेकिन कथित लक्जरी आयटम पर 28 फीसदी की दर तय कर दी गई। अब इसमें जीएसटी का फायदा क्या हुआ? […]

        Read More →

        श्याम रंगीला की मिमिक्री का एक और पहलू..

        By   2 years ago

        -संजय कुमार सिंह|| नरेन्द्र मोदी की मिमिक्री करने वाले श्याम रंगीला के वीडियो क्लिप से संबंधित एक और विवाद इस समय गर्म है और मामला चूंकि टेलीविजन कार्यक्रम और फिल्मी व टीवी कलाकारों से जुड़ा हुआ है इसलिए लोग पर्याप्त दिलचस्पी ले रहे हैं। दसअसल ‘द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज’ में पीएम मोदी की नकल […]

        Read More →

        क्लासरूम बनाम स्टाफरूम..

        By   3 years ago

        -दिलीप सी मण्डल।। भारत के कैंपस में असंतोष सतह के नीच अरसे से खदबदा रहा था. हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के पीएचडी स्कॉलर रोहित वेमुला की सांस्थानिक हत्या ने तापमान को बढ़ाकर वहां पहुंचा दिया, जहां यह असंतोष फट पड़ा. आज पूरे देश में, हर यूनिवर्सिटी में छात्र और तमाम अन्य लोकतांत्रिक और न्यायप्रिय जमातों के […]

        Read More →

          मनोरंजन View All →

          संघर्ष की आग में तपकर निखरा नवाजुद्दीन..

          By   1 year ago

          -नवीन शर्मा॥ हिंदी सिनेमा में कई ऐसे अभिनेता हैं जो चांदी की चम्मच लेकर पैदा हुए और पहली ही फिल्म में हीरो की भूमिका निभाने का मौका मिल गया। खासकर जिनके मां-पिता या अन्य कोई रिश्तेदार या परिचित फिल्मों में जुड़ा हो। उनकी लिये बॉलीवुड का फिल्म सफर थोड़ा आसान हो जाता है. वहीं दूसरी […]

          Read More →

          शून्य से शिखर तक और फिर वापस..

          By   1 year ago

          -वीर विनोद छाबड़ा॥ भगवान दादा अपने ज़माने के सुपर स्टार थे। वो अपने दौर को यों याद करते थे – फारेस रोड से लैमिंग्टन रोड तक का सफर यों तो महज़ पंद्रह-बीस मिनट का है, मगर यह फासला तय करने में मेरे बारह साल खर्च हुए। मोटा थुलथुल जिस्म, चौड़ा चौखटा और ऊपर से छोटा […]

          Read More →

          शुक्र है लौटा सिनेमा सऊदिया में..

          By   2 years ago

          -विष्णु खरे॥ अपने भारत महान में यह कल्पना कोई दूर की कौड़ी नहीं कि घर में भले ही किसी शाम दिया-बत्ती न हो,चूल्हा न जले,लेकिन पिक्चर देखने ज़रूर जाएँगे.टिकट न मिलने पर कुनबे में मातम छा जाता है,मियाँ-बीवी में सुबह तक बोलचाल बंद रहती है,दोस्तों में झूमा-झटकी हो जाती है.यह तो सोचा ही नहीं जा […]

          Read More →

          पद्मावती: एक तीर से कई शिकार..

          By   2 years ago

          –नदीम एस. अख़्तर॥ IIM जैसे प्रबंधन संस्थानों में पढ़ रहे छात्रों को करणी सेना और संजय लीला भंसाली से सीखना चाहिए. केस स्टडी करना चाहिए. मार्केटिंग, पब्लिसिटी, राजनीति, धर्म, इतिहास, ग्लैमर, बॉलिवुड और व्यावहारिक दुनियावी दुकानदारी का अद्भुत मेल. यानी एक तीर से कई-कई शिकार. नवोदित संगठनों के लिए करणी सेना रोल मॉडल है. हींग […]

          Read More →

          रोज़ाना बाहुबली की अद्वितीय लोकप्रियता..

          By   2 years ago

          -अजय ब्रह्मात्‍मज॥ इस सदी में ऐसी कोई भारतीय फिल्‍म नहीं दिखती, जिसने पूरे देश के दर्शकों को समान रूप से आकर्षित किया हो। एसएस राजामौली की ‘बाहुबली’ के आरंभ और अंत के कलेक्‍शन ने ट्रेड पंडितों को चौंका दिया है। पूरे देश में ‘बाहुबली’ के प्रति खुशी और उत्‍साह की लहर है। ऐसे दर्शक घर […]

          Read More →

          अभागे ओम पुरी का असली दर्द..

          By   3 years ago

          -निरंजन परिहार|| ओम पुरी की मौत पर उस दिन नंदिता पुरी अगर बिलख बिलख कर रुदाली के अवतार में रुदन – क्रंदन करती नहीं दिखती, तो ओम पुरी की जिंदगी पर एक बार फिर नए सिरे से कुछ नया लिखने का अपना भी मन नहीं करता. पति के अंतिम दर्शन पर आंखों में छटपटाते अश्रुओं […]

          Read More →

          सैराट के विराट दृश्यों के बीच एक लघु दर्शक..

          By   3 years ago

          -रवीश कुमार॥ सैराट के दृश्य बार बार आँखों पर समंदर की लहरों के थपेड़े जैसे लग कर चले जाते हैं । दिल दिमाग़ कहीं और उलझा रहता है तभी अचानक फ़िल्म की तस्वीर ज़हन में कहीं से उभर आती है । जब से सैराट देखी है सैराट से भाग नहीं पा रहा हूँ । ऐसा […]

          Read More →

          ‘मिस टनकपुर हाज़िर हो’ के डायरेक्टर विनोद कापड़ी को जान का खतरा..

          By   4 years ago

          राजनीति पर कटाक्ष करती फिल्म ‘मिस टनकपुर हाजिर हो’ के निर्देशक विनोद कापड़ी ने पुसिल सुरक्षा की गुहार लगाई है। कापड़ी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की खाप पंचायत से उन्हें जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं। ‘मिस टनकपुर हाजिर हो’ का ट्रेलर लॉन्च होने के बाद दर्शकों सहित अमिताभ बच्चन, राजकुमार हिरानी […]

          Read More →

          सनी लियोनी को घर से निकाला, मकान खाली कराया..

          By   4 years ago

          पोर्न की दुनिया से निकल कर बॉलीवुड में अच्छी पहचान बनाने वाली अभिनेत्री सनी लियोनी को घर से निकाल दिया गया है. उनकी मकान मालकिन ने सनी लियोनी की कुछ आदतों के चलते उनसे अपना मकान खाली करा लिया है. द न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक मुंबई के अंधेरी स्थित एक अपार्टमेंट […]

          Read More →

          Jasraj Bhatti’s ‘The Story of a Story’ selected at Film Fests..

          By   4 years ago

          Film gets selected at Riverside International Film Festival & The Dada Saheb Phalke Film Festival Kargil War based 7-minutes B&W film depicts the struggles of a writer Chandigarh, March 24th Tuesday, 2015 (Kulbir Singh Kalsi):-International award winning director Jasraj Singh Bhatti’s latest short film ‘The Story of a Story’ is officially selected at prestigious International […]

          Read More →

            अपराध View All →

            पुलिस वालों द्वारा राहजनी के संकेत मिलते हैं विवेक तिवारी की हत्या के पीछे

            By   10 months ago

            -सुरेंद्र ग्रोवर॥ लखनऊ में हुई विवेक तिवारी की हत्या न तो फेक एनकाउंटर है और न ही सेल्फ डिफेन्स में चलाई गई गोली से हुई मौत. इस मामले को ग़ौर से देखने  पर पता चलता है कि मामले के पीछे कुछ पुलिस वालों द्वारा रात के अंधेरे में की जाने वाली सशस्त्र राहजनी के संकेत मिलते हैं. […]

            Read More →

            अपराधी का बचाव दरअसल दूसरा अपराधी तैयार करना है..

            By   1 year ago

            -संजय कुमार सिंह|| कोई भी आदमी अपराध इसी उम्मीद में करता है कि वह पकड़ा नहीं जाएगा। गुस्से में हत्या हो जाना अलग बात है। पर सोच-समझ कर अपराध करने वाला कोई भी व्यक्ति अगर सोचेगा तो ये भी कि जमानत के लिए वकील कौन होगा, उसकी फीस कितनी होगी, उसकी गिरफ्तारी के बाद ये […]

            Read More →

            हिरण को तो सलमान ने मारा, क्या नुरूल्ला को किसी ने नहीं मारा.?

            By   1 year ago

            -नवीन शर्मा|| अभिनेता सलमान खान को काले हिरण के शिकार के मामले में पांच साल की कैद और दस हजार रुपये जुर्माने की सजा हुई है। यह फैसला घटना के बीस वर्ष बाद आया है। इतने वर्षों बाद आया यह फैसला हमारी न्यायिक व्यवस्था की विसंगतियों की ओर भी इशारा करता है। वहीं कुछ वर्ष […]

            Read More →

            वीडियोकॉन घोटाला: धूत ने चंदा कोचर के साथ मिलकर आईसीआईसीआई बैंक को चूना लगाया..

            By   1 year ago

            जो लोग पीएसयू बैंको के निजीकरण के पक्ष में माहौल बना रहे थे उन्हें आज आईसीआईसीआई बैंक के सीईओ चंदा कोचर पर भ्रष्टाचार और परिवारवाद के सनसनीखेज आरोप को जरूर देखना चाहिए. खेल बहुत सिम्पल है.. -गिरीश मालवीय|| दिसंबर 2008 में वीडियोकॉन समूह के मुखिया वेणुगोपाल धूत , चंदा कोचर के पति दीपक कोचर और उनके […]

            Read More →

            श्रीदेवी की मौत: हार्टअटैक तो नहीं था – बाथ टब में डूबने पर भी कई सवाल हैं..

            By   1 year ago

            –प्रशांत टंडन॥ दुबई पुलिस ने श्रीदेवी की मौत की जांच अभियोजन विभाग (प्रोसीक्यूशन) ठीक किया क्योंकि इस मौत में बहुत कुछ असामान्य लग रहा है. पुलिस को उनके पति बोनी कपूर को एहतियातन हिरासत में भी रखना चाहिए. किसी नतीजे पर पँहुचे बगैर कुछ उलझे हुये सवाल हैं जिनके जवाब बोनी कपूर को देने हैं. […]

            Read More →

            देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले में देश के सबसे अमीर अम्बानी परिवार का दामाद शामिल

            By   1 year ago

            –गिरीश मालवीय॥ यदि यह हेडलाइन आपको आज के अखबारों में, न्यूज़ चैनलों की ब्रेकिंग न्यूज़ में नही दिखाई दे रही है इसका मतलब है कि मीडिया पूरा बिक चुका है जो ऊपर लिखा है वह 100 प्रतिशत सत्य है लेकिन कोई बताएगा नही ! कल जिस नीरव मोदी का नाम पीएनबी घोटाले में सामने आ […]

            Read More →

            आधार में लगी सेंध, महज़ 500 रूपये और 10 मिनट में एक अरब से ज्यादा लोगों के आधार का ब्यौरा होगा

            By   2 years ago

            -रचना खैरा॥ अभी पिछले नवंबर में ही यूआईडीएआई ने जोर देकर कहा था कि “आधार डाटा पूरी तरह सुरक्षित है और यूआईडीएआई में कोई डाटा लीक या गड़बड़ी नहीं हुई है।” आज दि ट्रिब्यून ने एक ऐसी सेवा “खरीदी” जिसकी पेशकश अनाम विक्रेता व्हाट्सऐप्प पर करते रहते हैं। इसके तहत भारत में अभी तक बने […]

            Read More →

            पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

            By   2 years ago

            -संजय कुमार सिंह|| इंडियन एक्सप्रेस ने आज विदेशी कंपनियों में धन जमा करने के मामलों का अब तक का सबसे बड़ा खुलासा किया है। खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय संघटन की इस खोज में 714 भारतीय लिंक मिले हैं और ऐसी फर्में भी हैं जिनकी जांच सीबीआई कर रही है। अखबार इससे पहले पनामा पेपर छाप […]

            Read More →

            इंडियन एक्सप्रेस ने किया धमाका, 1.34 करोड़ दस्तावेजों से किए कर चोरी के बड़े खुलासे..

            By   2 years ago

            पिछले साल 8 नवंबर 2016 को मोदी सरकार ने कालेधन पर कड़ा प्रहार करने लिए पुराने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद कर दिए थे। इसके बाद उम्मीद से काफी कम मात्रा में काला धन बाहर आया और इसके बड़े हिस्से की हेरा-फेरी होने की बात सामने आई। सरकार नोटबंदी की सालगिरह को ऐंटी […]

            Read More →

            मुकेश मोदी फर्जी लाइसेंस से हथियार रखने के आरोप में ATS की हिरासत में..

            By   2 years ago

            राजस्थान के सिरोही निवासी सहकारी बैंकिंग के बेताज बादशाह मुकेश मोदी फर्जी लाइसेंस के ज़रिये आग्नेय अस्त्र रखने के मामले में ATS द्वारा अहमदाबाद में हिरासत में ले लिए गए. मुकेश मोदी को अपनी गिरफ्तारी की पहले से ही आशंका थी और अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए मोदी ने बहुत हाथ पैर मारे और […]

            Read More →

              व्यंग्य View All →

              मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या हँस रहे हैं

              By   1 year ago

              -त्रिभुवन|| अगले साल होने वाले आम चुनाव नज़दीक आ रहे हैं और देश का राजनीतिक परिदृश्य बहुत ही रोचक हो गया है। ख़ासकर नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी ने इस परिदृश्य में कई रंग भर दिए हैं। मैं प्रसिद्ध टीवी शो “टाॅम ऐंड ज़ेरी” का बहुत शौकीन रहा हूं और मेरे बच्चों ने यह शो […]

              Read More →

              मोदी जी सुनिए तो..

              By   1 year ago

              -अंशुल कृष्णा॥ आदरणीय मोदी जी, अभी अभी केतली से चाय लेकर एक मगरमच्छ नुमा पकौड़ा हाथ में लिया ही था कि एक खबर देखकर चौंक गया ,खबर थी कि आप फिलिस्तीन में हैं और वहां 6 अहम करारों में एक करार नेहरू स्कूल को लेकर भी है ,वही नेहरू जो प्रधानमंत्री न होते तो देश […]

              Read More →

              उधर करनी सेना की करनी गणतंत्र को मुंह बिरा रही है, मैं भैंस को खींचे चले जा रहा हूँ..

              By   1 year ago

              -अभिषेक प्रकाश॥ इस गणतंत्र पर मैं एक बेहद खूबसूरत भैंस के साथ लौटा हूं। डब्बल बॉडी, चमकता श्याम वर्ण,मांसल शरीर चेहरे पर संतुष्टि भरी मुस्कान पर आंखों में बेचैनी लिए यह भैस उज्ज्वल व सशक्त भारत की निशानी है! बस समस्या एक है कि भैंस की काम-इच्छा जग गई है! और यौवन इच्छाओं का जगना […]

              Read More →

              तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..

              By   3 years ago

              आप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली बार वे बहुत परेशान हैं। जिस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया, और जिसे वे मां कहते रहे हैं, उस […]

              Read More →

              साहेब के नाम एक ख़त..

              By   3 years ago

              -रीमा प्रसाद|| थोड़ी उलझन में हूँ .. अपने खत की शुरूआत किस संबोधन से करूं. सिर्फ शहाबुद्दीन कहूंगी तो ये आपकी महानता पर सवाल होगा. शहाबुद्दीन जी या साहेब कहूंगी तो मेरा जमीर मुझे धिक्कारेगा. सो बिना किसी संबोधन के साथ और बिना किसा लाग लपेट के इस खत की शुरुवात करती हूं. सबसे पहले […]

              Read More →

              देशभक्ति की ओवरडोज़..

              By   3 years ago

              -आरिफा एविस॥ नए भारत में देशभक्ति के मायने औए पैमाने बदल गये हैं. इसीलिए भारतीय संस्कृति की महान परम्परा का जितना प्रचार प्रसार भारत में किया जाता है शायद ही कोई ऐसा देश होगा जो यह सब करता हो. सालभर ईद, होली, दीवाली, न्यू ईयर पर सद्भावना सम्मेलन, मिलन समारोह इत्यादि राजनीतिक पार्टियाँ करती रहती […]

              Read More →

              बोलो अच्छे दिन आ गये..

              By   3 years ago

              -आरिफा एविस॥ देश के उन लोगों को शर्म आनी चाहिए जो सरकार की आलोचना करते हैं और कहते हैं कि अच्छे दिन नहीं आये हैं. उनकी समझ को दाद तो देनी पड़ेगी मेमोरी जो शोर्ट है. इन लोगों का क्या लोंग मेमोरी तो रखते नहीं. हमने तो पहले ही कह दिया ये मामूली जुमला नहीं […]

              Read More →

              हरेक बात पर कहते हो घर छोड़ो..

              By   3 years ago

              -आरिफा एविस || घर के मुखिया ने कहा यह वक्त छोटी-छोटी बातों को दिमाग से सोचने का नहीं है. यह वक्त दिल से सोचने का समय है, क्योंकि छोटी-छोटी बातें ही आगे चलकर बड़ी हो जाती हैं. मैंने घर में सफाई अभियान चला रखा है और यह किसी भी स्तर पर भारत छोड़ो आन्दोलन से कम […]

              Read More →

              पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं..

              By   3 years ago

              -आरिफा एविस॥ पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं गिरा जो इतनी आफत कर रखी है. रोज ही तो दुर्घटनाएं होती हैं. अब सबका रोना रोने लगे तो हो गया देश का विकास.और विकास तो कुरबानी मांगता है खेती का विकास बोले तो किसानों की आत्महत्या. उद्योगों का विकास बोले तो मजदूरों की छटनी, तालाबंदी. सामाजिक […]

              Read More →

              पुरस्कार का मापदंड..

              By   3 years ago

              -आरिफा एविस|| पुरस्कार किसी भी श्रेष्ठ व्यक्ति के कर्मो का फल है बिना पुरस्कार के किसी भी व्यक्ति को श्रेष्ठ नहीं माना जाना चाहिए. बिना पुरस्कार व्यक्ति का जीवन भी कुछ जीवन है? जैसे “बिन पानी सब सून.” इसलिए कम से कम जीवन में एक पुरस्कार तो बनता है जनाब. चाहे वह राष्ट्रीय, प्रदेशीय, धार्मिक, […]

              Read More →

                कला व साहित्य View All →

                मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या हँस रहे हैं

                By   1 year ago

                -त्रिभुवन|| अगले साल होने वाले आम चुनाव नज़दीक आ रहे हैं और देश का राजनीतिक परिदृश्य बहुत ही रोचक हो गया है। ख़ासकर नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी ने इस परिदृश्य में कई रंग भर दिए हैं। मैं प्रसिद्ध टीवी शो “टाॅम ऐंड ज़ेरी” का बहुत शौकीन रहा हूं और मेरे बच्चों ने यह शो […]

                Read More →

                मोदी जी सुनिए तो..

                By   1 year ago

                -अंशुल कृष्णा॥ आदरणीय मोदी जी, अभी अभी केतली से चाय लेकर एक मगरमच्छ नुमा पकौड़ा हाथ में लिया ही था कि एक खबर देखकर चौंक गया ,खबर थी कि आप फिलिस्तीन में हैं और वहां 6 अहम करारों में एक करार नेहरू स्कूल को लेकर भी है ,वही नेहरू जो प्रधानमंत्री न होते तो देश […]

                Read More →

                उधर करनी सेना की करनी गणतंत्र को मुंह बिरा रही है, मैं भैंस को खींचे चले जा रहा हूँ..

                By   1 year ago

                -अभिषेक प्रकाश॥ इस गणतंत्र पर मैं एक बेहद खूबसूरत भैंस के साथ लौटा हूं। डब्बल बॉडी, चमकता श्याम वर्ण,मांसल शरीर चेहरे पर संतुष्टि भरी मुस्कान पर आंखों में बेचैनी लिए यह भैस उज्ज्वल व सशक्त भारत की निशानी है! बस समस्या एक है कि भैंस की काम-इच्छा जग गई है! और यौवन इच्छाओं का जगना […]

                Read More →

                सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी भूमिका..

                By   2 years ago

                हिन्दू कालेज में ‘जनता पागल हो गई है’ तथा ‘खोल दो’ का मंचन.. -चंचल सचान॥ दिल्ली। हिन्दू कालेज की हिन्दी नाट्य संस्था ‘अभिरंग’ द्वारा कालेज पार्लियामेंट के वार्षिक समारोह ‘मुशायरा’ के अन्तर्गत दो नाटकों का मंचन किया गया। भारत विभाजन के प्रसंग में सआदत हसन मंटो की प्रसिद्ध कहानी ‘खोल दो’ तथा शिवराम के चर्चित […]

                Read More →

                तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..

                By   3 years ago

                आप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली बार वे बहुत परेशान हैं। जिस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया, और जिसे वे मां कहते रहे हैं, उस […]

                Read More →

                साहेब के नाम एक ख़त..

                By   3 years ago

                -रीमा प्रसाद|| थोड़ी उलझन में हूँ .. अपने खत की शुरूआत किस संबोधन से करूं. सिर्फ शहाबुद्दीन कहूंगी तो ये आपकी महानता पर सवाल होगा. शहाबुद्दीन जी या साहेब कहूंगी तो मेरा जमीर मुझे धिक्कारेगा. सो बिना किसी संबोधन के साथ और बिना किसा लाग लपेट के इस खत की शुरुवात करती हूं. सबसे पहले […]

                Read More →

                देशभक्ति की ओवरडोज़..

                By   3 years ago

                -आरिफा एविस॥ नए भारत में देशभक्ति के मायने औए पैमाने बदल गये हैं. इसीलिए भारतीय संस्कृति की महान परम्परा का जितना प्रचार प्रसार भारत में किया जाता है शायद ही कोई ऐसा देश होगा जो यह सब करता हो. सालभर ईद, होली, दीवाली, न्यू ईयर पर सद्भावना सम्मेलन, मिलन समारोह इत्यादि राजनीतिक पार्टियाँ करती रहती […]

                Read More →

                मुद्रा राक्षस की मौत और हिंदी साहित्य का पानी..

                By   3 years ago

                -नवीन कुमार जब से मुद्रा राक्षस के निधन की ख़बर आई है मुझे रह-रहकर युसूफ मियां याद आ रहे हैं। युसूफ मियां लखनऊ की एक फुटपाथ पर जूते-चप्पलों की मरम्मत करके घर चलाते थे। जून के महीने में लखनऊ में प्रधानमंत्री का दौरा हुआ। पूरे शहर को उनके स्वागत में तोरण द्ववारों से पाट दिया […]

                Read More →

                बोलो अच्छे दिन आ गये..

                By   3 years ago

                -आरिफा एविस॥ देश के उन लोगों को शर्म आनी चाहिए जो सरकार की आलोचना करते हैं और कहते हैं कि अच्छे दिन नहीं आये हैं. उनकी समझ को दाद तो देनी पड़ेगी मेमोरी जो शोर्ट है. इन लोगों का क्या लोंग मेमोरी तो रखते नहीं. हमने तो पहले ही कह दिया ये मामूली जुमला नहीं […]

                Read More →

                हरेक बात पर कहते हो घर छोड़ो..

                By   3 years ago

                -आरिफा एविस || घर के मुखिया ने कहा यह वक्त छोटी-छोटी बातों को दिमाग से सोचने का नहीं है. यह वक्त दिल से सोचने का समय है, क्योंकि छोटी-छोटी बातें ही आगे चलकर बड़ी हो जाती हैं. मैंने घर में सफाई अभियान चला रखा है और यह किसी भी स्तर पर भारत छोड़ो आन्दोलन से कम […]

                Read More →

                  साझी दुनिया View All →

                  मेरा भी अपहरण और रेप हो सकता था.. अपूर्वा प्रताप सिंह

                  By   2 years ago

                  -अपूर्वा प्रताप सिंह॥ अप्रैल 2013 में मेरी बड़ी कज़िन बहन की शादी थी और तभी मेरे exams हो रहे थे। पापा ने मुझे डिस्टर्ब न हो इसलिए घर के पास ही एक होटल में मेरे लिए रूम बुक किया था ताकि में वही रहूं और पढूं। मेरा केमिस्ट्री का पेपर सुबह 7 बजे से था। […]

                  Read More →

                  बंदा बनना है तो कंधा बन ..

                  By   3 years ago

                  -सुजाता॥ कई दिन हो गए टीवी पर शाहरुख लड़कों को सीख दे रहे हैं कि अगर फेयर और हैण्डसम नहीं होगा तो लड़कियाँ तुझे कंधा बना कर इस्तेमाल करेंगी और तेरे हाथ खुछ नहीं आएगा। रंगभेदी और लिंगभेदी यह विज्ञापन मुझे बार-बार खतरनाक लगता है। इस विज्ञापन से लड़कियाँ बार बार ऑफेण्डेड क्यों न महसूस […]

                  Read More →

                    व्यापार View All →

                    बड़े कारोबारियों के लिए जगह छोड़ती जा रही हैं छोटी इकाइयाँ

                    By   2 years ago

                    –संजय कुमार सिंह॥ सन 2007 की बात है। रिलायंस फ्रेश शुरू हुआ था। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद-नोएडा में इसकी शाखाएं थीं। एक मेरे घर के पास भी एक शाखा थी। और चीजों के साथ वहां सब्जियां बहुत सस्ती और ताजी मिलती थीं। मंडी से सस्ती सब्जी खरीदने में होने वाली असुविधा यहां नहीं थी। एयरकंडीशन […]

                    Read More →

                    नियमों में छूट का फायदा नहीं, छोटे कारोबारियों को मार देगा जीएसटी..

                    By   2 years ago

                    -संजय कुमार सिंह|| मेरी फर्म का चालू खाता जिस बैंक में है उसमें जाना नहीं होता है। नेटबैंकिंग चका-चक चलता है। कई दिनों से मैसेज आ रहा है केवाईसी पूरा नहीं है। 2005 में खाता खुला था – केवाईसी पूरा नहीं है का कोई मतलब नहीं है। नेटपर पूरा करने की कोशिश की तो बताया […]

                    Read More →

                    पैराडाइज़ पेपर्सः सामने आई ऐपल की गुप्त टैक्स मांद

                    By   2 years ago

                    पैराडाइज़ पेपर्स रिपोर्टिंग टीम,बीबीसी पैनोरमा ‘द पैराडाइज़ पेपर्स’ से पता चला है कि दुनिया में सबसे ज़्यादा मुनाफ़ा कमाने वाली फर्म के पास एक नया गुप्त ढांचा है जो उसे अरबों रुपए का टैक्स बचाते रहने में मदद करेगा. दस्तावेज़ों से पता चला है कि ऐपल ने किस तरह 2013 में अपनी विवादित ‘आयरिश कर […]

                    Read More →

                    रोज बदलते नियमों से कारोबारी को कोई फायदा नहीं..

                    By   2 years ago

                    -संजय कुमार सिंह|| इसमें कोई शक नहीं है कि कर व्यवस्था के रूप में जीएसटी एक अच्छी प्रणाली है। इस प्रणाली से किसी को शिकायत नहीं है। वैसे ही जैसे कालेधन को खत्म करने के लिए नोटबंदी एक अच्छा तरीका है पर उसे लागू करने का तरीका ऐसा था कि फायदा हुआ नहीं, नुकसान जरूरत […]

                    Read More →

                    छह महीने पुराने स्टॉक के नियम से परेशान हैं कारोबारी..

                    By   2 years ago

                    -संजय कुमार सिंह|| जीएसटी नियमों के अनुसार देश में इसकी शुरुआत, यानी एक जुलाई 2017 के छह महीने बाद संबंधित इनवॉयस के बगैर किसी सामान पर ट्रांजिशनल क्रेडिट का दावा नहीं किया जा सकेगा। यानी छह महीने पहले खरीदे गए सामान अगर अभी तक नहीं बिके हैं तो उसे बेचने और उसपर जीएसटी लेने जमा […]

                    Read More →

                    पीढ़ियों के संघर्ष में ‘मूर्ति’ के सामने ‘सिक्के’ की बलि

                    By   2 years ago

                    -बब्बन सिंह॥ ये तो पहले से तय था कि वर्तमान वैश्विक माहौल व प्रमोटरों के साथ लगातार मतभेदों के कारण विशाल सिक्का इन्फोसिस के एमडी और सीईओ पद पर बहुत दिन नहीं रह पाएंगे और आज ऐसा हो भी गया। उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उनकी जगह अंतरिम तौर पर यूबी प्रवीण राव को […]

                    Read More →

                    सत्यम घोटाले में रामलिंगा राजू समेत 10 आरोपी दोषी करार, कल सजा मिलेगी..

                    By   4 years ago

                    त्यम कंप्यूटर सर्विसेज लिमिटेड (SCSL) में करोड़ों रुपये के लेखा घोटाले में रामलिंगा राजू समेत सभी 10 आरोपियों को दोषी माना गया है. मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत शुक्रवार को सजा का ऐलान करेगी. केस की जांच सीबीआई ने की है. सभी आरोपियों को आईपीसी की धारा 120बी और 420 के तहत दोषी […]

                    Read More →

                    Automobile Industry in India – Great Potential for Growth

                    By   4 years ago

                    If there is one industry in India, that has a high potential for growth, it is the automobile industry here. The passenger vehicle industry in India is one of the fastest growing segments, registering a CAGR of 12.9% and above. It is all geared up to become the fourth largest industry in the world by […]

                    Read More →

                    मेगा मौल्ड इंडिया और प्रोमोटेक इंफ्राटेक पर सेबी ने कसी नकेल, निवेशकों के पैसे लौटाने के निर्देश..

                    By   4 years ago

                    कोलकाता / मुंबई: बाजार नियामक सेबी ने कोलकाता की दो और चिटफंड कंपनी मेगा मौल्ड इंडिया व प्रोमोटेक इंफ्राटेक के खिलाफ नोटिस जारी किया है. दोनों कंपनियों को निवेशकों से जुटायी गयी राशि वापस करने को कहा गया है. सेबी ने दोनों कंपनियों के सीएमडी व अन्य निदेशकों को चेतावनी दी है कि अगर वह […]

                    Read More →

                    दिल्ली में प्रॉपर्टी महंगी, बढ़े सर्कल रेट..

                    By   5 years ago

                    -वीरेंद्र वर्मा|| दिल्ली सरकार के रेवेन्यू डिपार्टमेंट ने सभी कैटिगरी के लिए सर्कल रेट में 20 फीसदी की बढ़ोतरी कर दी है. मल्टीस्टोरी फ्लैट, ग्रुप हाउिसंग सोसायटी, प्राइवेट बिल्डरों के फ्लैट और कमर्शल इमारतों के लिए सर्कल रेट और कंस्ट्रक्शन कॉस्ट बराबर रखी गई है. सरकार के इस प्रस्ताव पर उंगली भी उठ रही हैं. […]

                    Read More →
                      Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
                      %d bloggers like this: