Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  देश  >  Current Article

रक्षा मंत्री बने भक्षक, पत्नी की आठ पेंटिंग्स एयर इंडिया को बिकवाई 25 करोड़ में

By   /  June 22, 2012  /  10 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

-प्रवीण शुक्ल||
केंद्र सरकार में बैठे मंत्री किस तरह देश को चूना लगा रहे हैं इसका ताज़ा उदाहरण है केन्द्रीय रक्षा मंत्री ए के एंटोनी. यह रक्षा मंत्री देश की कैसी शानदार रक्षा कर रहे हैं कि इनकी पत्नी एलिज़ाबेथ एंटोनी की आठ पेंटिंग्स लगातार घाटे के कारण बंद होने के कगार पर खड़ी एयर इंडिया द्वारा पच्चीस करोड़ रूपये में खरीदने की खबर आयी है. वह भी तब जबकि एयर इंडिया रोज करीब १२ करोड के घाटे में जा रहा है, उसको 13 प्लेन लीज़ पर दूसरी कंपनियों को देने पड़ रहे है, वेतन देने तक को तीन महीनों से लाले पड़े हुए है घाटे की वज़ह से प्लेन ग्राउंड किये जा रहे है .

सूत्रों के अनुसार एयर इंडिया द्वारा रक्षा मंत्री ए.के. एंटनी की पत्नी एलिजाबेथ एंटनी को पच्चीस करोड रूपए देकर खरीदी गयी इन आठ पेंटिंग्स को तिरुवनंतपुरम और कोच्ची हवाई अड्डे पर लगाया जायेगा.
मज़े कि बात ये कि इन पेंटिंग्स को खरीदने के लिए कोई निविदा भी नहीं आमंत्रित की गयी और ना ही एयर इंडिया इनको खरीदने का आधार बता रहा है. यही नहीं भारी आर्थिक तंगी के दौर में और पायलेट हड़ताल के चलते इन पेंटिंग्स का भुगतान भी सिर्फ तीन दिनों में कर दिया गया. बताया जाता है कि इस भुगतान के लिए एकाउंट सेक्शन पर ऊपर से भारी दवाब था.
जानकारों का मानना है कि इतनी बड़ी राशी से भारत के कई बड़े चित्रकारों से कई अलग अलग पेंटिंग्स बनवाई जा सकती थी. मगर मंत्री पत्नी को फायदा पहुंचाने  के लिए आनन फानन में यह खरीद कर ली गयी.
Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

10 Comments

  1. karan kumar says:

    KON KAHTE HEY KE RAKSH MANTRI SAAF CHAVI KA HAI

  2. yes desh hai veer javano ka albelon ka mastano ka yes purane log kah gaye hai.

  3. great..this is called inteligence….

  4. Arun Patnaik says:

    All bloody F*****s.

  5. NAMASKAR
    AISE KRITAY KARNAA DESH KE KHAZANE KO LOOTNAA HAI………
    JO AIRLINES , SAMAY PAR APNE WORKERS KO SALARY NAHI DE SAKATAA,
    25 CROR LAGA KAR , PAINTING KAISE KHREED SAKTAA HAI…….. RAKSHA MANTRI JI EK TEER SE DO SHIKAAR KIYE HAI?

    BIBI KI PAINTING ITNI MAHNGI BIKWAAKAR…….. DESH KA KHAZAANA KHALI HI NAHI KIYAA……… BIBI KA NAAM PAINTING KI DUNIYAA ME SATHAPIT KAR DIYAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAAA.

  6. Bhalchandra Shitole says:

    Good salesman, Sarkarne deshko bechna shuru kiya, apne hi deshse.

  7. SUDHIR KASAR says:

    यह हमारे देश को और इन नेता ओ को क्या हो गया है , जो लगातार आर्थिक रूप से
    जर्जर हो रही व्येवस्था को ठीक करने के बजाय उसे और भी निम्न और कमजोर बनाने पर
    आमादा हो रहे है, क्या इन्हें यह भय नहीं रह गया है क्या,जहापर इस तरह की कमजोर
    अर्थव्यवस्था होती है, वहापर अक्सर क्रांती होती है , अत उने सावधान हो जाना चाहिए .

  8. Dinesh Kumar says:

    nata ji ab to honest bana ka bahana mat karo, ab too aapki pol kul gy ha, yadi jara bhi iman ha to apna home ma jaker bato

  9. Punit Shukla says:

    kamine ki aulado ab to sudhar jao lutna band kro.

  10. Dr Shashikumar Hulkopkar says:

    The key posts in govt organizations are the easy way for such type of infomercials deals which are only in their interest & benefits THE REAL MOTTO OF THE SUCH CRIMINALS ” SELF BEFORE SERVICE’ Really they shall have aim to protect govt/ organizations interest & thgey should really prevent such self motivated crimes

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

एक क्रांतिकारी सफर का दर्दनाक अंत..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: