Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

भोजपुरी मंच के नए चेहरे हुए सम्मानित: श्वेता तिवारी और मनोज भावुक सर्वश्रेष्ठ

By   /  April 1, 2012  /  6 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

 

 

मनोज भावुक को बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड (मेल) और श्वेता तिवारी को बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड (फीमेल) से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उन्हें पूर्वांचल एकता मंच द्वारा दिल्ली में आयोजित छठे विश्व भोजपुरी सम्मेलन में दिया गया।

इस अवसर पर हिन्दी एवं भोजपुरी सिनेमा जगत की कई बड़ी हस्तियाँ सुनील शेट्टी, कुणाल सिंह, राजकुमार, आर. पाण्डेय, असलम शेख, कानू मुखर्जी, रानी चटर्जी, रिंकू घोष, संगीता तिवारी, स्मृति सिन्हा, सीमा सिंह, प्रिया शर्मा, सुजीत पुरी, अजय दीक्षित, सुदीप पाण्डेय, चिंटू पाण्डेय और संगीत जगत से उदित नारायण, भरत शर्मा व्यास, मालिनी अवस्थी, देवी, इन्दू सोनाली व अजीत आनंद आदि मौजूद थे।

 

 

इस दो दिवसीय विश्व भोजपुरी सम्मेलन का उदघाटन लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने किया। इस आयोजन में पहली बार भोजपुरी सिनेमा पर ऐसा अद्भुत विशेष सत्र आयोजित किया गया था जिसमें लाखों की भीड़ में फिल्म समीक्षक मनोज भावुक द्वारा निर्मित भोजपुरी सिनेमा के 50 साल के सफ़र पर एक डोक्युमेंट्री भी दिखाई गई। इसे फिल्मकारों और दर्शकों ने खूब पसंद किया। कार्यक्रम का सफल संचालन मनोज भावुक एवं श्वेता तिवारी ने किया। (प्रेस विज्ञप्ति)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 6 years ago on April 1, 2012
  • By:
  • Last Modified: May 9, 2012 @ 7:44 pm
  • Filed Under: मीडिया

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

6 Comments

  1. JO NACH KI TASWEER AYI WAH PURAI AYOJAN KO SARMSAR KAR GAI KHABAR HAI KI JO FREE MAI AYAI YA CHANDA DIYA WO HI SAMANIT HUAI.

  2. Shweta tiwari jee aur Manoj Bhawuk ko Samman ki hardik badhai….Shweta ji ko main vyaktigat roop se janta hun….isliye unhe best anchor ke taur par sammanit kiye jane par behad khush hoon…badhai aap dono ko..

  3. vijay says:

    manoj bhawuk aur shweta bhojpuri manch ke liye naye nahi hain ……kai varshon se ye log bhojpuri me apna yogdaan dete aa rahen hain ….is liye bhojpuri manch ke liye ye dono naye nahi hain ……meri taraf se asseem subhkamnayen dono ko

  4. Vijay Pandey says:

    manoj bhawuk aur shweta bhojpuri manch ke liye naye nahi hain ……kai varshon se ye log bhojpuri me apna yogdaan dete aa rahen hain ….is liye bhojpuri manch ke liye ye dono naye nahi hain ……meri taraf se asseem subhkamnayen dono ko

  5. Vijay Pandey says:

    manoj bhawuk aur shweta bhojpuri manch ke liye naye nahi hain ……kai varshon se ye log bhojpuri me apna yogdaan dete aa rahen hain ….is liye bhojpuri manch ke liye ye dono naye nahi hain ……meri taraf se asseem subhkamnayen dono ko

  6. भावुक को एक और अवार्ड मुबारक हो ।.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

ये इमरजेन्सी नहीं, लोकतंत्र का मित्र बनकर लोकतंत्र की हत्या का खेल है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: