/सनकी पति ने पत्नी के गुप्तांग पर ताला जड़ दिया..

सनकी पति ने पत्नी के गुप्तांग पर ताला जड़ दिया..

क्या कभी आप कल्पना कर सकते हैं कि नारी के यौनांग पर पर ताला जड़ा जा सकता है? नहीं न? मगर इंदौर के सोहनलाल चौहान ने अपनी पत्नी को इस नारकीय वेदना को झेलने पर मजबूर कर रखा था. पीड़ित महिला पिछले चार सालों से पति सोहनलाल चौहान द्वारा किये गए इस बेरहम जुल्म को अपने सीने में छुपाये अपने पांच बच्चों की खातिर पति के साथ अपना गुजर बसर कर रही थी. पत्नी पर शक करने वाले इस पति के दिल में कभी भी अपनी पत्नी और बच्चों के लिए दया नहीं आई.

सोहनलाल चौहान को अपनी पत्नी के चरित्र पर शक था इसलिए उस ने अमानवीयता की सारी हदें पार करते हुए पत्नी के गुप्तांग पर ताला लगा दिया. इसका राज फाश सोमवार को तब हुआ जब इंदौर के संयोगितागंज थाना क्षेत्र के इदरिस नगर में सोमवार को जहरीला पदार्थ खा लेने पर एक महिला को अस्पताल लाया गया. अस्पताल में डॉक्टरों ने इस महिला की जांच की तो उस महिला के जननांग पर ताला लगा देख उनके होश उड़ गए और डॉक्टरों ने तत्काल पुलिस को सूचना दी. इस पर पुलिस ने आरोपी पति को हिरासत में ले लिया है.

पीडिता के पति ने पुलिस को बताया है कि उसके परिवार की नौ महिलाए जब प्रेमियों के लिए अपना घर छोड़ कर भाग गई तो उसे अपनी बीवी पर भी एतबार नहीं रहा और उसकी पत्नी किसी ओर व्यक्ति के साथ न भाग जाए या किसी अन्य के साथ शारीरिक सम्बन्ध न बना ले इस डर से उसने अपनी पत्नी के गुप्तांग में ही ताला लगा दिया.
दरअसल सोहन को ये सब अपने ही परिवार की महिलाओं की हरकतों के कारण करना पडा. सोहन की माने तो उसकी खुद की तीन बहनों सहित परिवार की नौ महिलाए अब तक अपने प्रेमियों के साथ भाग चुकी है. इन घटनाओं को देखकर सोहन को डर लगने लगा की कही उसकी पत्नी सीता बाई भी न भाग जाए या किसी ओर से शारीरिक सम्बन्ध न बना ले इसी डर के कारण उसने तीन साल पहले पत्नी के गुप्तांग में छेद कर ताला डाला दिया.

पांच बच्चो का पिता सोहन रोज़ सुबह पत्नी के प्राइवेट पार्ट में ताला गलाकर चाबी अपने साथ ले जाता था. चाबी कोई ओर न ले ले इस डर से वो चाबी को हमेशा अपनी पेंट की मोरी में छिपा कर रखता था. सोहन के पुलिस को दिए गए बयान के अनुसार वह सुबह ताला लगा जाता था और शाम को ताला खोल देता था. यही नहीं ताला ख़राब होने की स्थिति से बचने के लिए उसने वैकल्पिक तौर पर घर में दो तीन ताले अतिरिक्त रख रखे थे.

पीडिता सीता बाई के अनुसार सोहन उस पर तो शक करता ही था उसकी अपनी बेटी पर भी नीयत खराब थी. इसी वजह से सोमवार दोपहर उसका उसकी पत्नी सीता बाई से विवाद हुआ था. पति की खराब नीयत से दुखी सीता बाई ने जहर खा लिया. सीता बाई को इसके बाद इलाज के लिए एम् वाय अस्पताल लाया गया, यहा जब डाक्टर ने महिला को यूरिन नली लगाने की कोशिश की तो वहां ताला लगा डॉक्टर चकित रह गए और मामले की सूचना संयोगितागंज थाने को दी. इसके बाद पुलिस ने आरोपी सोहन को ढूंढा और पत्नी के गुप्तांग में लगे ताले की चाबी ली. देर रात अस्पताल में डाक्टर्स ने महिला का चेक अप किया साथ ही गुप्तांग में लगे ताले को निकाला.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.