ताज़ा खबरें

ऊर्जा सुरक्षा और प्रौद्योगिकी सबसे पहली ज़रूरत.. सत्ता की वफादार पुलिस और बलि का बकरा आम जनता.. दम तोड़ती अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता.. गरीब अडाणी का तो सत्यानाश हो गया.. प्रदूषण से दुनिया के शतरंज खिलाड़ियों के खेल पर खतरा.. महिला सशक्तिकरण से अधिक महिलाओं के नेतृत्व की ज़रूरत.. अडानी बना सरकार के गले की हड्डी.. अडाणी या धूमकेतु.?

हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. वीरभद्र सिंह के बेटे और शिमला ग्रामीण से विधायक विक्रमादित्य सिंह मुसीबत में फंस गए हैं। शिमला-ग्रामीण से कांग्रेस के विधायक एवं शिमला बुडहर राजपरिवार के सदस्य विक्रमादित्य सिंह पर उनकी पत्नी सुदर्शना सिंह ने गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि विक्रमादित्य सिंह अपनी प्रेमिका अमरीक से भी उसे प्रताड़ित करवाते थे। उन्होंने उनके बैडरूम में भी सीसीटीवी कैमरे लगवा दिए थे और उन पर नजर रखते थे। उन्हें अपनी सुरक्षा को लेकर डर है, इसलिए उन्होंने अदालत में वाद पेश कर सुरक्षा के साथ भरण-पोषण की मांग की है।

उदयपुर की आमेट हवेली में रह रही विक्रमादित्य सिंह की पत्नी सुदर्शना सिंह का कहना है कि शादी के तीन-चार महीने तक ही उसे घर की बहू की तरह रखा गया और उसके बाद उसके साथ दुर्व्यवहार होने लगा। इसकी शिकायत जब उसने अपनी सास प्रतिभा सिंह और अन्य परिजनों से की तो उन्होंने भी विक्रमादित्य सिंह का साथ दिया। उसे पता चला कि यह सब विक्रमादित्य की प्रेमिका अमरीक सिंह के इशारे पर हो रहा है।

पंडित के कहने पर अमरीक से नहीं की थी शादी

सुदर्शना सिंह ने बताया कि विक्रमादित्य सिंह का संबंध उनकी शादी से पहले ही अमरीक सिंह से चल रहा था। अमरीक सिंह चंड़ीगढ़ की रहने वाली है। उन्हें ससुराल में रहकर पता चला कि विक्रमादित्य सिंह अमरीक से ही शादी करना चाहते थे लेकिन किसी पंडित ने उन्हें बताया कि यदि उन्होंने उसके साथ पहली शादी की तो उसकी मौत हो जाएगी। इसे टालने के लिए षड़यंत्रपूर्वक विक्रमादित्य ने उनके साथ शादी की। राज परिवार होने से उनके परिजन भी उनके झांसे में आ गए और करोड़ों रुपए खर्च करके उसकी शादी विक्रमादित्य से हुई थी। जब तक विक्रमादित्य के पिता वीर भद्र सिंह जीवित थे, तब तक उसे सम्मान के साथ रखा गया और उनकी मौत के बाद उसे प्रताड़ित करने लगे। यहां तक उसके राजघराने को छोटा कहकर अपमानित किया जाने लगा। उसका करोड़ों का स्त्रीधन हड़प लिया, जिसमें सोने—चांदी के हीरा जड़ित जेवरात और अन्य सामान था, उसे भी नहीं लौटाया।

रहने को एक मकान और पांच लाख रुपए महीना खर्चा मांगा

सुदर्शना सिंह का कहना है कि वह सुरक्षित नहीं है। उसे पूरी सुरक्षा के साथ एक मकान की जरूरत है, जो विक्रमादित्य और उसके परिवार को पूरी करनी होगी। इसके अलावा उनकी हैसियत के अनुसार हर महीने पांच लाख रुपए का खर्चा भरण-पोषण के लिए देना होगा। इस संबंध में उन्होंने उदयपुर के पारिवारिक न्यायालय में वाद पेश किया है। उल्लेखनीय है कि राजसमंद जिले के आमेट राजपरिवार की बेटी सुदर्शना सिंह की शादी शिमला राजघराने के विक्रमादित्य सिंह के साथ साल 2019 में हुई थी।

Facebook Comments Box

Leave a Reply