ताज़ा खबरें

कांग्रेस ‘कमल छाप नस्ल’ से निज़ात पाए.. मोदी की महाविजय, महिला मतदाता नायिका ? जरा आंकड़े देखें कि किन तबकों के बड़े जज कितने मोदी को बेनकाब करता सोनिया गांधी का लेख.. सुप्रीम कोर्ट के शिकंजे में रामदेव नेहरू परिवार भी अब ओछी जुबान वाले पनौती और चुनौती 4 दिन के युद्धविराम से कोई राहत मिलेगी?

भाजपा द्वारा घोषित 212 में से दो दर्जन से अधिक उम्मीदवार ’भाई-भतीजावाद’ या ’परिवारवाद’ के कारण सूची में शामिल.. पार्टी ने ’एक परिवार, एक टिकट’ के नियम का उल्लंघन करते हुए चार राजनीतिक परिवारों के दो-दो सदस्यों को टिकट दिया..

-अनुभा जैन॥
14.4.2023. बेंगलुरु। भाजपा जो विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर वंशवाद की राजनीति को बढ़ावा देने का आरोप लगाती आई है ने इस बार 10 मई को होने वाले आगामी विधानसभा चुनावों के लिए परिवारवाद को आगे बढाते हुये सात नए चेहरों सहित 25 दावेदारों को मैदान में उतारा है जिसमें पिता-पुत्र, भाई और पारिवारिक रिश्तेदार शामिल हैं। भाजपा द्वारा घोषित 212 में से कम से कम दो दर्जन उम्मीदवार भाई-भतीजावाद के कारण सूची में हैं।
बीजेपी के दिग्गज नेता बीएस येदियुरप्पा ने विधानसभा में 7 बार शिकारीपुरा सीट का प्रतिनिधित्व किया, यहां इस सीट के दावेदार के रूप में येदियुरप्पा के बेटे बी.वाई विजयेंद्र इस बार उम्मीदवार हैं और विजयेंद्र के भाई बीवाई राघवेंद्र शिवमोग्गा से सांसद हैं। इस तरह पार्टी ने ’एक परिवार, एक टिकट’ के नियम का उल्लंघन करते हुए चार राजनीतिक परिवारों के दो-दो सदस्यों को टिकट दिया है ।
इसके अलावा भाजपा पार्टी ने कुछ परिवारों को दो-दो टिकट दिए हैं। जरखोली बंधुओं- रमेश और बालचंद्र को बीजेपी का टिकट दिया गया है। इसी तरह दिवंगत मंत्री उमेश कट्टी के परिवार यानी उनके बेटे निखिल कट्टी और भाई रमेश कट्टी को दो-दो टिकट मिले हैं। भगवा पार्टी में खनन व्यवसायी गली जनार्दन रेड्डी के भाई सोमशेखर रेड्डी और करुणाकर रेड्डी उम्मीदवार हैं।

कई विधायक और राजनीतिक कनेक्शन रखने वाले नेताओं को भी टिकट मिला है। जैसे चिंचोली से गुलबर्गा सांसद उमेश जाधव के बेटे अविनाश जाधव उम्मीदवार हैं। निप्पनी विधायक, मंत्री शशिकला जोले चिक्कोडी सांसद अन्नासाहेब जोले की पत्नी हैं। पर्यटन मंत्री आनंद सिंह के बेटे सिद्धार्थ सिंह को भाजपा ने विजयनगर से उतारा है। सांसद तेजस्वी सूर्या के चाचा विधायक एल.ए रवि सुब्रमण्य हैं। परिवहन मंत्री बी श्रीरामुलु और उनके भतीजे टीएच सुरेश बाबू दोनों भाजपा के उम्मीदवार हैं।
एआईसीसी के प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने कहा कि भाजपा द्वारा घोषित प्रत्येक 6 उम्मीदवारों में से एक को परिवारवाद का आशीर्वाद प्राप्त है।
कांग्रेस और गांधी परिवार को निशाना बनाने के लिए व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले पीएम मोदी के उपहास का मुकाबला करने के लिए कांग्रेस पार्टी ने पारिवारिक संबंधों की भाजपा सूची अधिकाधिक प्रचारित करनी शुरू कर दी है।
बीजेपी महासचिव एन.रवि कुमार ने कहा, ’मैं मानता हूं कि बीजेपी में कुछ ऐसे उदाहरण हैं जहां परिवार के सदस्यों या बच्चों को टिकट दिया गया है। लेकिन जब राष्ट्रीय नेतृत्व के पदों की बात आती है तो पार्टी में विविधता देखें और उसकी तुलना कांग्रेस या जद (एस) से करें। इन दोनों पार्टियों में पूरा शो परिवार चलाते हैं।’
गौरतलब है कि कांग्रेस द्वारा घोषित 166 उम्मीदवारों में से 37 दावेदारों के परिवार के सदस्य हैं जो राजनेता हैं। इसी तरह जद (एस) में करीब 10 उम्मीदवार नेताओं के रिश्तेदार हैं।

Facebook Comments Box

Leave a Reply