ताज़ा खबरें

कांग्रेस ‘कमल छाप नस्ल’ से निज़ात पाए.. मोदी की महाविजय, महिला मतदाता नायिका ? जरा आंकड़े देखें कि किन तबकों के बड़े जज कितने मोदी को बेनकाब करता सोनिया गांधी का लेख.. सुप्रीम कोर्ट के शिकंजे में रामदेव नेहरू परिवार भी अब ओछी जुबान वाले पनौती और चुनौती 4 दिन के युद्धविराम से कोई राहत मिलेगी?

बीजेपी द्वारा ‘राहुल गांधी की अयोग्यता’ ने गठन किया है उच्च स्तर की विपक्षी एकता का“ः शशि थरू
-अनुभा जैन
10.4.2023. बेंगलुरु। बीजेपी द्वारा “राहुल गांधी की अयोग्यता“ दिखाने से जहां विभिन्न वर्गों से राजनीतिक समर्थन जुटा है वहीं जनता की सहानुभूति का भी निर्माण हुआ है। लगभग 6-7 मुख्यमंत्रियों ने राहुल की अयोग्यता पर कांग्रेस का समर्थन किया है। राहुल गांधी की अयोग्यता पर भाजपा की मार का एक दिलचस्प लाभ यह है कि उन्होंने उच्च स्तर की विपक्षी एकता का गठन किया है। यह बात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने रविवार को बेंगलुरु में मीडिया को संबोधित करते हुए कही।
थरूर पार्टी के लिए प्रचार करने के लिए शहर में थे, जिसमें पार्टी के बयातारायणपुरा विधायक कृष्णा बायरे गौड़ा भी शामिल थे।

थरूर ने आगे कहा कि नई दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल; पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी; तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव; केरल के मुख्यमंत्री पिनारी विजयन और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इस मुद्दे पर पार्टी का समर्थन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी हमारे लिए एक मजबूत विपक्षी एकता का पता लगाने के लिए अधिक उत्साहजनक और अनुकूल जमीन तैयार करती है, तो यह एक बड़ा कारक है।

थरूर ने निराशा के साथ कहा कि अनिल एंथोनी, सीआर केसवन और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी जैसे कांग्रेस पदाधिकारी भाजपा में शामिल हो गए हैं और ’अंधकारमय वातावरण और पक्ष’ की ओर चले गए हैं। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि हर किसी के पास अपने विचार या यहां तक कि पार्टी को बदलने का अधिकार है लेकिन यह कुछ सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए। थरूर ने आगे कहा कि अन्य दलों से कांग्रेस में आने वाले राजनेताओं का मानना है कि हमारी पार्टी कर्नाटक राज्य में जीतने वाली पार्टी है, और कुछ नेता जो भाजपा में जा रहे हैं, उनका यह पूरी तरह से भ्रामक कदम है। चूंकि वे सेक्यूलर विचारधारा वाले लोग हैं, उन्हें ऐसी पार्टी में मजबूत जनाधार नहीं मिलेगा जो सांप्रदायिक एजेंडे के लिए प्रतिबद्ध हो।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा लोगों की आवश्यक जरूरतों को पूरा नहीं किया गया है और कांग्रेस पार्टी उन जरूरतों को पूरा करने के वादे के साथ पहले ही सामने आ चुकी है। उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले तक बेंगलुरु आईटी निवेश के लिए सबसे पसंदीदा स्थान था, लेकिन पिछले तीन-चार वर्षों में शहर में निवेश कम हो गया है। थरूर ने अपना विश्वास दिखाया कि पार्टी 10 मई को होने वाले चुनावों में बहुमत से जीतेगी।

Facebook Comments Box

Leave a Reply