ताज़ा खबरें

एक लाड़ले बच्चे से परे स्कूल शिक्षा में कुछ नहीं अमृतकालीन बजट का मतलब.. जलियाँवाला बाग की मिसाल पर चुप हैं गौरवान्वित लोग.. एक मुसलमान आतंकी का मस्जिद पर हमला, 83 मौतें और इससे निकले सबक… “गांधी गोडसे: एक युद्ध” फिल्म पर एक अधूरा नोट.. करिश्माई राहुल का संदेश.. काले को मारा काले पुलिस वालों ने.. कृत्रिम बुद्धि सहजता से हासिल होने के कई खतरे..

जयपुर। भारत की प्रथम मुस्लिम महिला शिक्षिका फातिमा शेख की जयंती के अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाली संघर्षरत महिलाओं को सम्मानित किया गया। विज्ञान पार्क, शास्त्री नगर, जयपुर में आयोजित “फातिमा शेख अवॉर्ड” सम्मान समारोह में विभिन्न क्षेत्रों सेआईं जमीन पर कार्यरत महिलाएं शामिल हुईं और समाज में महिला शिक्षा और नेतृत्व विचार संगोष्ठी में भाग लिया। इन महिलाओं को उनके द्वारा किये गए सामाजिक उत्थान और शिक्षा के कार्यों के लिए फातिमा शेख अवार्ड व प्रशस्ति पत्र से नवाजा गया।
संगोष्ठी की अध्यक्षता समाज सेवी डॉ मीता सिंह ने की। जमात-ए -इस्लामी हिन्द महिला विंग राजस्थान की सह सचिव शमा परवीन ने फातिमा शेख के तत्कालीन समय में महिला शिक्षा में योगदान को स्मरण करते हुए वर्तमान समय में वंचित समुदाय के बीच खासकर महिला शिक्षा प्रसार पर जोर दिया। राजस्थान नागरिक मंच के सचिव अनिल गोस्वामी ने सम्बोधन में कहा फातिमा शेख, सावित्री बाई, ज्योति बा फुले आदि जैसे महानायिका -महानायक अपना क़िरदार निभाकर चले जाते हैं।उनके कामों को आगे बढ़ाना समाज के लोगों का काम है। एसोसिएशन फ़ॉर प्रोटेक्शन ऑफ सिविल राइट्स राजस्थान के महासचिव मुज्जमिल इस्लाम रिज़वी ने जयंती व अवार्ड कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए महिला शिक्षा और उनके अधिकार पर बल दिया । सेवा भारत से जुड़ीं सामाजिक कार्यकर्ता कविता, बनवारीलाल मेहरड़ा ने समाज में महिला शिक्षा और नेतृत्व संगोष्ठी को सम्बोधित किया। संगोष्ठी संचालन भारतीय दलित साहित्य अकादमी के डॉक्टर मूलचंद ने किया।

कार्यक्रम संयोजिका एवं राजस्थान नागरिक मंच महिला प्रकोष्ठ अध्यक्ष हेमलता कांसोटिया ने कहा कि फातिमा शेख ने सावित्री बाई फुले, ज्योति बा फुले व उस्मान शेख के मिलकर विषम परिस्थितियों में शिक्षा की अलख जगाई। साथ ही दलित मुस्लिम एकता की सूत्रकारों में से थी। ऐसे विचार हम सब में विषमताओं को खत्म कर समतामूलक समाज बनाने में मदद हम सभी को करना होगा। इस वर्ष सामाजिक, शिक्षा, पर्यावरण, साहित्य, चिकित्सा, पत्रकारिता, अधिवक्ता, आईटी आदि क्षेत्र में जमीन से जुड़ी वंचित समाज की महिलाओं को फातिमा शेख अवार्ड से सम्मानित किया।
सम्मानित महिलाओं में बबिता मेघवाल, निरमा, शबनम बेगम, इजीनियर रब्बे खान, शमा परवीन, एडवोकेट यादिया वक़ार सहित 20 उभरती हुई उर्मिला, सिमरन, तबस्सुम, शबाना, रानी, असनिया, फरज़ाना, पूजा परवीन आदि महिला नेतृत्व को ‘फातिमा शेख प्रशस्ति पत्र’ से सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम में रुखसाना उस्मान, पत्रकार पवन देव, मुकेश शर्मा, भारत अपडेट के संपादक बाबूलाल नागा, भारत ज्ञान विज्ञान समिति से जुड़े पप्पू लाल शर्मा, आलिया, जाहिदा, जयपुर एकल नारी मंच, नेशनल केम्पेन फ़ॉर डिग्निटी एन्ड राइट सीवेज एन्ड एलाइड वर्कर्स के प्रतिनिधि सहित कई गणमान्य शामिल रहे। सेंटर की बच्चियों ने फातिमा शेख जयंती पर गीत प्रस्तुत किया।

Facebook Comments Box

Leave a Reply